Connect with us

विशेष

अब किसी को भी ट्रांसफर हो सकेंगे हाउसिंग बोर्ड के मकान, ये रही नई पॉलिसी

Advertisement हरियाणा आवास बोर्ड के मकानों को अब किसी को भी हस्तांतरित किया जा सकेगा। इसके लिए सरकार ने एक नई हस्तातंरण नीति तैयार की है। सरकार का मानना है कि वर्तमान हस्तांतरित नीति ‘सबके लिए घर’ के उद्देश्य के अनुरूप नहीं थी। सरकार कई मायनों में इस नीति को प्रतिबंधात्मक मानती है। इसलिए अब […]

Published

on

Advertisement

हरियाणा आवास बोर्ड के मकानों को अब किसी को भी हस्तांतरित किया जा सकेगा। इसके लिए सरकार ने एक नई हस्तातंरण नीति तैयार की है। सरकार का मानना है कि वर्तमान हस्तांतरित नीति ‘सबके लिए घर’ के उद्देश्य के अनुरूप नहीं थी। सरकार कई मायनों में इस नीति को प्रतिबंधात्मक मानती है। इसलिए अब नई हस्तांतरित नीति तैयार की गई है।

इस नीति के तहत हरियाणा आवास बोर्ड ने आवश्यक फीस और शुल्कों की अदायगी करके मकानों और वाणिज्यिक संपत्ति को हस्तांतरित करने के मानदंडों को सरल बनाया है। इससे आवंटियों को अपने फ्लैट के संबंध में की गई डीड भी प्राप्त होगी। हरियाणा आवास बोर्ड के अध्यक्ष जवाहर यादव ने  बताया कि  बोर्ड की एक विशेष बैठक में इस आशय का निर्णय लिया गया।

Advertisement


टेनेंसी राइटस का हस्तांतरण भी प्रतिबंधित नहीं होगा

नई नीति के तहत परिवार के सदस्यों में टेनेन्सी राइटस के हस्तांतरण को प्रतिबंधित नहीं किया जाएगा और उसे किसी भी व्यक्ति को हस्तांतरित किया जा सकता है। जनरल पावर ऑफ  अटार्नी (जीपीए) करने पर आधारित रिहायशी इकाइयों के हस्तांतरण के मामले, जहां जीपीए में इस आशय का एक खंड शामिल है और अटार्नी कानूनी, वैध और लागू करने योग्य है, को अनुमति योग्य बनाया गया है।

बशर्ते कि अटार्नी होल्डर को इस आशय का एक शपथ पत्र देना होगा कि आवंटी जीवित है और जीपीए को रद्द नहीं किया गया है। हस्तांतरणकर्ता के लिए कोई पात्रता शर्तें निर्धारित नहीं की गई है, सिवाय कि हस्तांतरणकर्ता की हस्तांतरण करने के समय उसकी आयु 18 वर्ष होनी चाहिए।

Advertisement

ये होगी हस्तांतरण फीस

300 वर्ग फुट तक के कवर्ड क्षेत्र वाले आवंटी को हस्तांतरण फीस 2000 रुपये, 300 से 700 वर्ग फुट व 700 से 1200 वर्ग फुट के बीच और 1200 वर्ग फुट  से अधिक के संबंध में हस्तांतरण फीस क्रमश: 3500 रुपये, 5500 रुपये और 10,000 रुपये होगी। ये दरें सभी श्रेणियों के मकानों के लिए लागू होंगी।  वाणिज्यिक या संस्थागत या गैर-रिहायशी संपत्ति के लिए प्रोसेसिंग फीस 10,000 रुपये होगी। हस्तांतरण फीस संपत्ति के बिक्त्रस्ी मूल्य का 6 प्रतिशत की दर से वसूल की जाएगी।

Advertisement

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *