Connect with us

झज्जर

इनेलो का हाल महाभारत के कौरवों और पांडवों जैसा: अजय चौटाला

Published

on

नेलो के घमासान के बीच अाज अजय चौटाला झज्जर पहुंचे, जहां कार्यकर्ताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया। चौटाला 2 साल के बाद अाज पार्टी कार्यालय में अाए हैं। यहां उनके समर्थकों का भारी जमावड़ा देखने को मिला। इस मौके पर उनके साथ दिग्विजय चौटाला भी मौजूद थे। वहीं, संबोधन के दौरान कार्यकर्ताओं ने अजय व दिग्विजय चौटाला जिंदाबाद के जोरदार नारे लगाए। बता दें कि इसके बाद चौटाला दादरी, भिवानी, 2 बजे हांसी और 3 बजे हिसार का दौरा करेंगे।

PunjabKesari

कार्यकर्ताओं से रू-ब-रू होते हुए अजय चौटाला ने विरोधियों पर जमकर निशाना साधा। चौटाला ने कहा कि इनेलो किसी की नहीं, केवल अाप लोगों की पार्टी है। हालांकि, इस समय पार्टी में हालात ठीक नहीं हैं। इनेलो का हाल महाभारत के कौरवों और पांडवों जैसा हो चुका है, लेकिन फैसला अाप पार्टी कार्यकर्ताओं के हाथ में है कि उन्हें पांडवों का साथ देना है या कौरवों का।
PunjabKesari

चौटाला ने कार्यकर्ताओं से कहा कि न तो हमें साम्राज्य चाहिए और न ही सत्ता की जरूरत है। हम केवल इतना चाहते हैं कि कार्यकर्ताओं का पूरी तरह से सम्मान होना चाहिए। हमने न पहले कभी कार्यकर्ताओं को जलील होने दिया और न कभी भविष्य में होने देंगे। मैं अपने कार्यकर्ताओं के कांटों को पलकों से हटाने के काम करूंगा।

अजय चौटाला ने झज्जर दौरे के दौरान भाजपा को झटका दिया है। इस मौके पर पूर्व विधायक दरियाव राजौरा के सुरेन्द्र राजौरा लड़के ने भाजपा को अलविदा कह दिया। सुरेन्द्र ने अाज अजय चौटाला की मौजूदगी में इनेलो ज्वाइन की।

PunjabKesari
दिग्विजय चौटाला का बयान 
अजय चौटाला के साथ झज्जर पार्टी कार्यालय पहुंचे इनसो अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला का भी बयान सामने अाया है। उन्होंने कहा कि जनता की राय परमात्मा की राय होती है, जो भी फैसला होगा, जनता के अनुरूप ही होगा। सभी को 17 नवंबर तक इंतजार करना पड़ेगा। उसके बाद जो भी होगा, सबसे सामने अा जाएगा।

अजय चौटाला तिहाड़ से 14 दिन की पैरोल पर बाहर आ गए हैं। इसके बाद  कल चौटाला दिल्ली में 18 जनपथ पर पहुंचे। इस मौके पर अजय चौटाला के बेटे और सांसद दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला भी उनके साथ मौजूद थे। इस दौरान उन्होंने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अभय चौटाला पर निशाना साधते हुए कहा कि कार्यकर्ताओं को पेड कांग्रेसी कहने वालों पर मुझे तरस आता है।
 

source PK

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

झज्जर

ओपी चौटाला को है अजय पे बहुत ग़ुस्सा, अब तो वापिस की उम्मीद नहीं होगा इनेलो का बँटवारा

Published

on

By

अाखिरकार चाैटाला परिवार में टूट हो गई और हरियाणा की राजनीति में अहम रोल अदा करने वाले चौटाला भाइयों की राजनीतिक राहें जुदा हो गईं। अजय सिंह चौटाला के पास इनेलो से निष्कासन के बाद अब नई पार्टी बनाने का विकल्‍प है। अपने बेटों दुष्यंत व दिग्विजय चौटाला को सियासी रूप से खड़ा करने के लिए उनके पास अलग पार्टी बनाने के अलावा दूसरा कोई चारा नजर नहीं दिख रहा। दूसरी ओर, अजय चौटाला के निष्‍कासन पत्र में इनेलो सुप्रीमो अोमप्रकाश चौटाला का गुस्‍सा साफ दिखता है। अजय पर अपनी सीमाओं को लांधने और इनेलो को कमजोर करने के आरोप लगाए गए हैं।

देवीलाल की तरह ओमप्रकाश चौटाला ने लिया कड़ा फैसला, अब पार्टी चिन्ह को लेकर हो सकता है बवाल

दुष्यंत और दिग्विजय पहले ही किसी भी दूसरे राजनीतिक दल के साथ जाने से साफ मना कर चुके हैैं। पूरे विवाद में अब यह तय है कि अब इनेलो के चुनाव चिन्ह को लेकर विवाद खड़ा हो सकता है। यदि अजय सिंह चौटाला असली इनेलो होने का दावा करते हैं तो पूरा विवाद चुनाव आयोग तक पहुंच सकता है। वैसे, बुधवार के घटनाक्रम के बाद इनेलो पर अब पूरी तरह से अभय सिंह चौटाला का अधिकार नजर आ रहा है।

अभय चौटाला के समर्थकों का कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला ने अभय चौटाला को एक तरह से अपना राजनीतिक उत्तराधिकारी घोषित कर दिया है। समर्थकों का कहना है कि अभय चौटाला को ओमप्रकाश चौटाला व अजय सिंह चौटाला के जेल जाने के बाद पार्टी संगठन को मजबूत करने का इनाम मिला है।

पिछले पांच सालों में अभय चौटाला ने पार्टी की मजबूती के लिए काम किया तथा सभी कार्यकर्ताओं को जोड़कर रखा, मगर राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं ने चौटाला परिवार को तीन दशक पुराने मोड़ पर वापस पहुंचा दिया है। 1989 में देवीलाल के सामने अपना राजनीतिक वारिस बनाने का संकट खड़ा हुआ था। उस समय चौधरी देवीलाल के सामने अपने बेटों रणजीत सिंह, प्रताप सिंह, जगदीश सिंह और ओमप्रकाश चौटाला में से किसी एक को अपना राजनीतिक उत्तराधिकारी चुनने की चुनौती थी।

देवीलाल ने उस समय काफी सोच-विचार कर ओमप्रकाश चौटाला के नाम पर उंगली रख उन्हें सत्ता के शीर्ष पर बैठा दिया था। अब 31 साल बाद ओमप्रकाश चौटाला के सामने भी वही मोड़ आ रहा, जिसमें उन्होंने अजय सिंह चौटाला, दुष्यंत चौटाला व दिग्विजय सिंह चौटाला की बजाय अभय सिंह चौटाला पर अधिक भरोसा दिलाया है।

क्या है अजय सिंह चौटाला का निष्कासन पत्र

अाज पत्रकार सम्‍मेलन में डॉ. अशोक अरोड़ा ने अजय चौटला के निष्‍कासन का पत्र पढ़कर सुनाया। इस दौरान उन्‍होंने पत्रकारों को निष्‍कासन पत्र की कॉपी नहीं दी और मांगने पर कहा कि बाद में मेल से भेज देंगे। अलबत्‍ता उन्‍हाेंने इस महीने के शुरू में दुष्‍यंत और दिग्विजय चौटाला के निष्‍कासन का पत्र जरूर एक बार फिर जारी किया।

डॉ. अशोक अरोड़ा द्वारा पढ़कर सुनाए गए निष्‍कासन पत्र में इनेलो सुप्रीमो आेमप्रकाश चौटाला हवाले से यह कहा गया है-

‘ मैं इनेलो सुप्रीमो के रूप में पहले ही स्पष्ट कर चुका हूं कि पार्टी से बड़ा कोई नहीं है। पार्टी सर्वोपरि है। अनुशासनहीनता करने वाला परिवार से ही क्यों न हो, उसे भी माफ नहीं किया जा सकता। इनेलो की नींव ही इस बात पर टिकी है। कुछ समय से इनेलो के प्रधान महासचिव अजय सिंह चौटाला पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल हैं। उनके बयानों से मुझे आघात पहुंचा है। 12 नवंबर को अजय सिंह ने अपनी सभी सीमाओं को लांघते हुए अनाधिकार चेष्ठा कर 17 नवंबर को जींद में प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक बुलाई। यह पूरी तरह से असंवैधानिक बैठक है। अजय चौटाला इनेलो के समानांतर संगठन चला रहे हैं, ताकि वे पार्टी को कमजोर कर सकें। मैं उन्हें पार्टी के प्रदेश प्रधान महासचिव और प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित करने का फैसला सुनाता हूं। इसे तुरंत प्रभाव से लागू किया जाए।’

Continue Reading

झज्जर

इनेलो की महाभारत के बीच दुष्यंत के योद्धाओं के नाम जारी, जंग होगी तेज़

Published

on

By

इंडियन नेशनल लोकदल में चल रहे गर्म माहौल के बीच सांसद दुष्यंत चौटाला की टीम ने अपना अगला दांव चल दिया है। अजय चौटाला ने पैरोल पर आने से उत्साहित इस खेमे ने अब अपने प्रवक्ताओं की लिस्ट जारी कर दी है। जिनके नाम लिस्ट में शामिल हैं वें टीवी चैनल्स पर होने वाली डिबेट में जननायक सेवा दल के प्रतिनिधि के तौर पर शामिल होंगे और राजनीतिक विषयों पर अजय चौटाला के परिवार का पक्ष रखेंगे।

दिनेश डागर की ओर से जारी इस सूचि में शामिल सभी 8 नाम ऐसे लोगों के हैं जो कुछ समय पहले तक इनेलो प्रवक्ता के तौर पर टीवी डिबेट में नज़र आते थे। हालांकि पार्टी में दो ग्रुप बन जाने की वजह से कुछ महीनों से इन्हें टीवी डिबेट में नहीं भेजा जा रहा था।दिनेश डागर ने बताया कि मौजूदा समय में इनेलो के ये सभी पूर्व प्रवक्ता टीवी डिबेट में पार्टी की तरफ से हिस्सा नहीं ले पा रहे हैं क्योंकि हाल ही में घोषित पदाधिकारियों की सूचि में इनके नाम शामिल नहीं थे। डागर का कहना है कि जल्द ही जिला स्तर पर भी प्रवक्ता नियुक्त कर दिए जाएंगे।

इनेलो के भीतर चल रही तकरार के मद्देनज़र यह देखना दिलचस्प रहेगा कि टीवी डिबेट पर जब इनेलो और जननायक सेवा दल के प्रवक्ता आमने सामने होंगे तो उनके निशाने पर एक दूसरे के नेता रहेंगे या अन्य राजनीतिक दल। आशंका है कि इनेलो के भीतर की रस्साकशी अब इस मंच पर भी दिखाई देगी।

जननायक सेवा दल की ओर से टीवी डिबेट के लिए नियुक्त किए गए नाम 
दलबीर धनखड़

प्रदीप देसवाल

एडवोकेट मन्दीप बिश्नोई

अजय गुलिया

अरविंद भारद्वाज

बलराम मकड़ौली

विवेक चौधरी

दिनेश अग्रवाल

Continue Reading

झज्जर

रेवाड़ी गैंगरेप केस: सेना में तैनात है मुख्य आरोपी, जल्द हो सकती है गिरफ्तारी

Published

on

By

हरियाणा के रेवाड़ी जिले में 19 साल की युवती से गैंगरेप मामले के तीन आरोपियों में से एक सेना में तैनात है. हरियाणा के डीजीपी बीएस संधु के मुताबिक, इस वारदात को अंजाम देने वाला मुख्य आरोपी भारतीय सेना में काम करता है, जिसकी तैनाती राजस्थान में हैं. डीजीपी ने बताया कि आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की एक टीम राजस्थान भेज दी गई है.

डीजीपी बीएस संधु ने कहा, ‘तीन आरोपियों में से एक आरोपी सेना में तैनात है और पुलिस की एक टीम उसे गिरफ्तार करने के लिए राजस्थान रवाना हो गई है. हमें पूरी उम्मीद है कि आरोपी को आज गिरफ्तार कर लिया जाएगा.’

Image result for रेवाड़ी गैंगरेप केस: सेना में तैनात है मुख्य आरोपी, जल्द हो सकती है गिरफ्तारी

डीजीपी ने कहा, ‘अन्य दो आरोपियों की तलाश जारी है, जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा.’

बता दें कि रेवाड़ी में तीन युवकों ने कोचिंग सेंटर से घर लौट रही छात्रा का कथित रूप से अपहरण कर सुनसान इलाके में गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया. पीड़ित छात्रा राष्ट्रपति से सम्मानित बोर्ड की टॉपर है. इस मामले में पीड़िता ने पुलिस को बताया कि उसका अपहरण करने में तीन लोग शामिल थे. वहीं जहां पर गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया वहां पहले से कुछ युवक मौजूद थे.

इस मामले में हरियाणा पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए एसआईटी का गठन कर दिया है. पुलिस का कहना है कि गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है. एसआईटी इंचार्ज नाजनीन भसीन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आरोपियों के बारे में सुराग देने की अपील की और इनाम देने की घोषणा की.  इसके साथ ही उन्होंने बताया कि पीड़िता परिवार को सुरक्षा भी दी जाएगी.

Image result for रेवाड़ी गैंगरेप केस: सेना में तैनात है मुख्य आरोपी, जल्द हो सकती है गिरफ्तारी

एडीजीपी दफ्तर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए एसआईटी इंचार्ज नाजनीन भसीन ने कहा कि वारदात के तुरंत बाद रेवाड़ी SP द्वारा रेडिंग पार्टी गठित कर वारदात को अंजाम देने वालों की तलाश की जा रही है. मामले की तह तक जाने के लिए पुलिस हर संभव कोशिश में लगी हुई है.

इस वारदात में एक आर्मी जवान के शामिल होने की के सवाल पर उन्होंने कहा कि उसकी भी जांच की जा रही है. गांव में हुई गैंगरेप की दूसरी घटना को लेकर भी पुलिस गंभीर है. इस मामले में भी भी गांव में जाकर घटना की तह तक पहुंची पहुंचेगी और दोषियों को किसी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा.

Continue Reading

Trending

Copyright © 2018 Panipat Live