Connect with us

City

इन लोगों ने नक़ली रेमडिसिविर बता कमाए चार करोड़ रुपए, आपदा के असुर

Published

on

Advertisement

नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने के मुख्य आरोपित उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के खुड्डा गांव के मोहम्मद शहवार को पानीपत पुलिस पंजाब के रोपड़ की जेल से प्रोडक्शन वारंट पर लाई है।

शहवार को अदालत में पेश कर सात दिन की रिमांड पर लिया है। पुलिस पूछताछ में आरोपित ने बताया कि 22 रुपये में एंटी बायोटिक इंजेक्शन खरीदता था।

Advertisement

उस पर रेमडेसिविर का रैपर लगाते। चार हजार रुपये प्रति इंजेक्शन बेचते। पानीपत, रेवाड़ी, चंडीगढ़, रुड़की सहित कई शहरों में 10 हजार इंजेक्शन बेच चुका था। मोटे तौर पर चार करोड़ रुपये कमा चुका था। गिरफ्तारी से पहले तक वह चंडीगढ़ में रह रहा था।

Advertisement

क्राइम इन्वेस्टिगेशन प्रभारी इंस्पेक्टर अनिल छिल्लर ने बताया कि तीन मई को सेक्टर 13-17 से गौरव जैन को चार नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन सहित गिरफ्तार किया था। गौरव ने बताया कि वह इंजेक्शन बीएएमएस डॉक्टर योगेश से लेकर आया था। उसको एक इंजेक्शन पर दो हजार रुपये का कमीशन मिला था। योगेश बरसत रोड पर एक गोशाला में डिस्पेंसरी पर नौकरी करता है। योगेश को गिरफ्तार कर पूछताछ की तो उसने बताया कि इंजेक्शन सेक्टर-6 के दिलबाग से खरीदे थे। दिलबाग का खन्ना रोड पर दवा का होलसेल का स्टोर है। दिलबाग से पूछताछ की तो उसने बताया कि वह प्रदीप से इंजेक्शन खरीद कर लाया था।

मोहम्मद शहवार पंजाब की रोपड़ जेल में बंद था। पानीपत पुलिस ने सात दिन की रिमांड पर लिया।

Advertisement

प्रदीप को सप्लाई करते थे इंजेक्शन

वहीं आरोपित प्रदीप को पहले ही पुलिस ने गिरफ्तार कर चार दिन की पुलिस रिमांड पर लिया हुआ था। प्रदीप सनौली रोड स्थित हैदराबादी अस्पताल में मेडिकल स्टोर चलाता था। प्रदीप ने पूछताछ में बताया कि उसे इंजेक्शन मोहम्मद शहवार व उसका मामा सप्लाई करता था। मोहम्मद शहवार ठिकाने बदल-बदल कर रहा था। गत दिनों उसे नकली इंजेक्शन सप्लाई करने के मामले में पंजाब की रोपड़ पुलिस ने गिरफ्तार किया था। तभी से रोपड़ जेल में बंद था।

कंपनी ने 35 लाख रुपये उधार के काटे तो खुद नकली इंजेक्शन तैयार कर लिए

इंस्पेक्टर अनिल छिल्लर ने बताया कि बीएससी पास मोहम्मद शहवार को दवा की जानकारी थी। उसने चंडीगढ़ में फार्मा कंपनी बनाई। हिमाचल की निक्सी लैब कंपनी के खाते में 35 लाख रुपये ट्रांसफर कर 50 हजार एंटी बायोटिक इंजेक्शन भेजने के लिए ईमेल किया। कंपनी ने पहले की उधार काट ली। इसके बाद शहवार ने हिमाचल के काला अंब स्थित एक दवा कपंनी से 12000 एंटी बायोटिक खरीदे। इंजेक्शन को अपने घर पर रात को टब में डाल दिया। इंजेक्शन के रैपर उतर गए। एक प्रिंटिग प्रैस से रेमडेसिविर के रैपर तैयार कराए और इंजेक्शन पर चिपका कर बेच दिए। इन इंजेक्शन को जानकारों पर इस्तेमाल किया तो बुखार उतर गया। इसके बाद सप्लाई शुरू कर दी।

सबसे पहले रेवाड़ी में बेचे 3000 इंजेक्शन, पानीपत में प्रदीप था मुख्य प्लायर

मोहम्मद शहवार ने सबसे पहले रेवाड़ी में 3000 नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचे। इसके बाद पानीपत में दवा के थोक विक्रेता प्रदीप के माध्यम से 4000 इंजेक्शन बेच दिए। इसी तरह से दिल्ली में 800, चंडीगढ़ में 500, उत्तराखंड के रुड़की में 700 और रोपड़ में भी 1000 से ज्यादा इंजेक्शन बेच दिए। उसके कई साथी पकड़े गए तो 2000 इंजेक्शन नहर में फेंक दिए। आगे तस्करों ने एक इंजेक्शन 30-30 हजार रुपये में बेचा।

Advertisement