Connect with us

विशेष

ईरानी सेना का कबूलनामा- गलती से मा र गिराया था यूक्रेनी विमान, 176 लोगों की गई थी जा न

Published

on

ईरान का कहना है कि उसकी सेना ने गलती से यूक्रेन के विमान को मा र गिराया। विमान में उस समय 176 लोग सवार थे। यह बयान शनिवार सुबह आया है और उसने इसे मानवीय भूल करार दिया है। ईरान ने यूक्रेन के जिस विमान को मा र गिराया वह बोइंग 737 था जिसका संचालन यूक्रेनियन इंटरनेशनल एयरलाइंस करती है। तेहरान से उड़ान भरने के थोड़ी देर बाद ही विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। यह ऐसे घटना ऐसे समय पर हुई थी जब कुछ देर पहले ईरान ने इराक में मौजूद अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर मिसाइल ह मला किया था। विमान ने तेहरान के इमाम खुमैनी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से यूक्रेन की राजधानी कीव के बोर्यस्पिल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे लिए उड़ान भरी थी।

जांचदल और बचाव कर्मी दुर्घटनास्थल पर पहुंचें तब उन्हें कोई भी जिंदा नहीं मिला।

ईरान कई दिनों तक अपनी मिसाइल से विमान गिराए जाने की बात नकारता रहा है। लेकिन अमेरिका और कनाडा ने खुफिया जानकारी के हवाले से कहा था कि ईरान ने विमान को गिराया है। विमान ने यू्क्रेन की राजधानी कीव के लिए उड़ान भरी थी। जिसमें 167 यात्री और विभिन्न देशों के नौ क्रू सदस्य शामिल थे। अधिकारियों के अनुसार विमान में 82 ईरानी, लगभग 63 कनाडियन और 11 यूक्रेनियन सवार थे।

ईरान ही नहीं भारत-अमेरिका-रूस भी कर चुके हैं विमान गिराने की ‘गलती’ हालांकि यह कोई पहला मौका नहीं है जब ईरानी सेना ने यूक्रेनी विमान को गलती से मा र गिराया। इससे पहले भी कई बार ऐसा हुआ है, जब अपने ही देश के हवाई हमले में कोई विमान हादसे का शिकार हो गया।

भारतीय वायुसेना ने गिराया अपना हेलीकॉप्टर पिछले साल बालाकोट एयर स्ट्रा इक के बाद 26 फरवरी को भारतीय वायुसेना ने श्रीनगर में गलती से अपना ही एमआई—17 वी5 हेलीकॉप्टर गिरा दिया। इस हेलीकॉप्टर में छह वायुसेना कर्मी मौजूद थे और हम ले में सभी की जान चली गई।

अमेरिका ने अपने ही हेलीकॉप्टर को बनाया निशाना खाड़ी यु द्ध के बाद कई देशों ने बड़े पैमाने पर मानवता सहायता प्रयास शुरू किए। मगर 14 अप्रैल, 1994 को अमेरिकी वायु सेना ने गलती से अपने ही देश की सेना के दो ब्लैक हॉक हेलीकॉप्टर मा र गिराए। इन हेलीकॉप्टरों में कुल 26 यात्री थे, जिनमें से 11 अन्य देशों के थे।

विश्व यु द्ध में 300 की जान गई द्वितीय विश्व यु द्ध के दौरान भी अमेरिका ऐसी ही दुर्भाग्यपूर्ण घटना का गवाह बना। 2 जुलाई 1943 को अमेरिकी वायु सेना ने अपनी ही वायु सेना के विमान पर अंधाधुंध गो लियां बरसाना शुरू कर दी। इस घटना में 300 से ज्यादा लोगों की जान चली गई।

इराक यु द्ध में अमेरिका ने गिराया ब्रिटिश विमान वर्ष 2003 में इराक से यु द्ध के दौरान अमेरिका ने रॉयल ब्रिटिश एयर फोर्स का विमान मा र गिराया। लंबे समय तक यह विमान लापता बताया गया, लेकिन बाद में ब्रिटेन ने इसका खुलासा किया।

खुद को ही बनाया निशाना यह सुनने में थोड़ा अजीब लगता है लेकिन 1956 में अमेरिकी पायलट 20 एमएम की तो प से टेस्ट फाय रिंग कर रहा था, मगर इस दौरान वह खुद को ही गोली मा र बैठा।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *