Connect with us

Cities

एक गांव ऐसा भी, जहां 50 साल से आपसी झग ड़े का कोई केस दर्ज नहीं

Published

on

आज के समय में जरा-जरा सी बात को लोग मरने-मारने पर उतारू हो जाते हैं, वहीं जींद जिले के उचाना ब्लॉक का गांव रोजखेड़ा में झ गड़ा होने पर लोग थाने में नहीं जाते। आपसी झग ड़े को पंचायत में ही बैठकर सुलझाया जाता है। पिछले 50 साल से आपसी झग ड़े का गांव में कोई केस दर्ज नहीं हुआ है। यहां तक सरपंच भी इस बार सर्वसम्मति से चुना गया है।

जींद-नरवाना नेशनल हाईवे पर स्थित बड़ौदा गांव से नगूरां की तरफ जाने वाले लिंक मार्ग पर स्थित है गांव रोजखेड़ा। आबादी के हिसाब से गांव बेशक छोटा है, लेकिन अपने आप में यह एक मिसाल कायम किए हुए हैं। ग्रामीणों को भी याद नहीं है कि आपसी ल ड़ाई-झग ड़े के मामले में वह कब पुलिस थाना गए थे। इस समय गांव में रणधीर सिंह सरपंच हैं। रणधीर सिंह को बिना किसी विवाद सर्वसम्मति से सरपंच चुना गया था।

Image result for cartoon gram panchayat drawing

सरपंच रणधीर सिंह बताते हैं कि गांव में झ गड़ा तो होता है लेकिन ऐसी नौबत कभी नहीं आई कि पुलिस थाना जाना पड़े। अगर कभी झ गड़ा होता है तो पंचायत में बैठकर आपस में ही मामले को सुलझा लिया जाता है। गांव में जाटों के अलावा मुस्लिम और वाल्मीकि भी रहते हैं। सभी आपसी भाईचारेे की भावना से रहते हैं और एक-दूसरे के सुख-दुख में साथ देते हैं। गांव में कॉमन सर्विस सेंटर से लेकर सरकारी स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र समेत दूसरी सरकारी सुविधाएं उपलब्ध हैं।

साक्षरता में भी अग्रणी है रोजखेड़ा गांव : सोनू

गांव के युवा सोनू ने बताया कि साक्षरता दर में भी उनका गांव अग्रणी गांवों में गिना जाता है। हालांकि गांव की आबादी कम है लेकिन आबादी के हिसाब से साक्षरता दर काफी ऊंची है। उनके गांव में पांच जेबीटी मास्टर, 7 स्कूल लेक्चरर, एक कॉलेज लेक्चरर, 7 युवा आर्मी में और 7 युवा पुलिस में नौकरी कर रहे हैं।

रोजखेड़ा गांव में आपसी ल ड़ाई झ गड़े के मामले में किसी तरह की शिकायतें नहीं आती। छोटा-मोटा झ गड़ा हो भी जाता है तो पंचायत में ही सुलझा लिया जाता है। गांव में किसी का कोई क्रिमिनल रिकार्ड नहीं है। दूसरे गांवों को भी रोजखेड़ा से प्रेरणा लेते हुए आपसी भाईचारे से रहना चाहिए।

–देवेंद्र कुमार, एसएचओ, उचाना थाना

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *