Connect with us

झज्जर

ओपी चौटाला को है अजय पे बहुत ग़ुस्सा, अब तो वापिस की उम्मीद नहीं होगा इनेलो का बँटवारा

Published

on

अाखिरकार चाैटाला परिवार में टूट हो गई और हरियाणा की राजनीति में अहम रोल अदा करने वाले चौटाला भाइयों की राजनीतिक राहें जुदा हो गईं। अजय सिंह चौटाला के पास इनेलो से निष्कासन के बाद अब नई पार्टी बनाने का विकल्‍प है। अपने बेटों दुष्यंत व दिग्विजय चौटाला को सियासी रूप से खड़ा करने के लिए उनके पास अलग पार्टी बनाने के अलावा दूसरा कोई चारा नजर नहीं दिख रहा। दूसरी ओर, अजय चौटाला के निष्‍कासन पत्र में इनेलो सुप्रीमो अोमप्रकाश चौटाला का गुस्‍सा साफ दिखता है। अजय पर अपनी सीमाओं को लांधने और इनेलो को कमजोर करने के आरोप लगाए गए हैं।

देवीलाल की तरह ओमप्रकाश चौटाला ने लिया कड़ा फैसला, अब पार्टी चिन्ह को लेकर हो सकता है बवाल

दुष्यंत और दिग्विजय पहले ही किसी भी दूसरे राजनीतिक दल के साथ जाने से साफ मना कर चुके हैैं। पूरे विवाद में अब यह तय है कि अब इनेलो के चुनाव चिन्ह को लेकर विवाद खड़ा हो सकता है। यदि अजय सिंह चौटाला असली इनेलो होने का दावा करते हैं तो पूरा विवाद चुनाव आयोग तक पहुंच सकता है। वैसे, बुधवार के घटनाक्रम के बाद इनेलो पर अब पूरी तरह से अभय सिंह चौटाला का अधिकार नजर आ रहा है।

अभय चौटाला के समर्थकों का कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला ने अभय चौटाला को एक तरह से अपना राजनीतिक उत्तराधिकारी घोषित कर दिया है। समर्थकों का कहना है कि अभय चौटाला को ओमप्रकाश चौटाला व अजय सिंह चौटाला के जेल जाने के बाद पार्टी संगठन को मजबूत करने का इनाम मिला है।

पिछले पांच सालों में अभय चौटाला ने पार्टी की मजबूती के लिए काम किया तथा सभी कार्यकर्ताओं को जोड़कर रखा, मगर राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं ने चौटाला परिवार को तीन दशक पुराने मोड़ पर वापस पहुंचा दिया है। 1989 में देवीलाल के सामने अपना राजनीतिक वारिस बनाने का संकट खड़ा हुआ था। उस समय चौधरी देवीलाल के सामने अपने बेटों रणजीत सिंह, प्रताप सिंह, जगदीश सिंह और ओमप्रकाश चौटाला में से किसी एक को अपना राजनीतिक उत्तराधिकारी चुनने की चुनौती थी।

देवीलाल ने उस समय काफी सोच-विचार कर ओमप्रकाश चौटाला के नाम पर उंगली रख उन्हें सत्ता के शीर्ष पर बैठा दिया था। अब 31 साल बाद ओमप्रकाश चौटाला के सामने भी वही मोड़ आ रहा, जिसमें उन्होंने अजय सिंह चौटाला, दुष्यंत चौटाला व दिग्विजय सिंह चौटाला की बजाय अभय सिंह चौटाला पर अधिक भरोसा दिलाया है।

क्या है अजय सिंह चौटाला का निष्कासन पत्र

अाज पत्रकार सम्‍मेलन में डॉ. अशोक अरोड़ा ने अजय चौटला के निष्‍कासन का पत्र पढ़कर सुनाया। इस दौरान उन्‍होंने पत्रकारों को निष्‍कासन पत्र की कॉपी नहीं दी और मांगने पर कहा कि बाद में मेल से भेज देंगे। अलबत्‍ता उन्‍हाेंने इस महीने के शुरू में दुष्‍यंत और दिग्विजय चौटाला के निष्‍कासन का पत्र जरूर एक बार फिर जारी किया।

डॉ. अशोक अरोड़ा द्वारा पढ़कर सुनाए गए निष्‍कासन पत्र में इनेलो सुप्रीमो आेमप्रकाश चौटाला हवाले से यह कहा गया है-

‘ मैं इनेलो सुप्रीमो के रूप में पहले ही स्पष्ट कर चुका हूं कि पार्टी से बड़ा कोई नहीं है। पार्टी सर्वोपरि है। अनुशासनहीनता करने वाला परिवार से ही क्यों न हो, उसे भी माफ नहीं किया जा सकता। इनेलो की नींव ही इस बात पर टिकी है। कुछ समय से इनेलो के प्रधान महासचिव अजय सिंह चौटाला पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल हैं। उनके बयानों से मुझे आघात पहुंचा है। 12 नवंबर को अजय सिंह ने अपनी सभी सीमाओं को लांघते हुए अनाधिकार चेष्ठा कर 17 नवंबर को जींद में प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक बुलाई। यह पूरी तरह से असंवैधानिक बैठक है। अजय चौटाला इनेलो के समानांतर संगठन चला रहे हैं, ताकि वे पार्टी को कमजोर कर सकें। मैं उन्हें पार्टी के प्रदेश प्रधान महासचिव और प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित करने का फैसला सुनाता हूं। इसे तुरंत प्रभाव से लागू किया जाए।’

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

झज्जर

हरियाणा में जाटों का फिर आंदोलन का एलान, सांपला में जल्द होगी महापंचायत

Published

on

By

जाटों ने रोहतक के सांपला से फिर आंदोलन शुरू करने की घोषणा की है। 23 जनवरी को सांपला में दीनबंधु छोटू राम स्मारक स्थल पर महापंचायत बुलाने का निर्णय लिया है। साथ ही चेतावनी दी है कि यदि तब तक सरकार ने जाटों को आरक्षण देने और आरक्षण आंदोलन के समय के सभी मुकदमे वापस लेकर जेलों में बंद युवाओं को रिहा नहीं किया तो उसी दिन से आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा।

यह निर्णय बहादुरगढ़ में महाराजा सूरजमल की पुण्यतिथि पर 6 जिलों से आए प्रतिनिधियों की मौजूदगी में लिया गया। फरवरी 2016 में भी सांपला से ही आंदोलन शुरू हुआ था। शहर की दीनबंधु छोटूराम धर्मशाला में महाराजा सूरजमल और आरक्षण आंदोलन में जान गंवाने वाले युवाओं को पुष्पांजलि अर्पित की गई।

कार्यक्रम की अध्यक्षता दलाल खाप 84 के प्रधान भूप सिंह दलाल ने की। कार्यक्रम में झज्जर के अलावा रोहतक, सोनीपत, गुरुग्राम, पलवल और फरीदाबाद से जाट संघर्ष समितियों और खापों के प्रतिनिधि शामिल हुए।

Continue Reading

झज्जर

धुंध का कहरः घने कोहरे के चलते हाईवे पर टकराई 50 गाड़ियां

Published

on

By

घने कोहरे के चलते हरियाणा के झज्जर में एनएच 71 पर करीब 10 से 12 वाहन आपस में टकरा गए। इस टकराव में 8 लोगों की मौत की खबर है। वहीं कई लोग घायल हो गए। इस समय बचाव कार्य चल रहा है। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इनमें से कई लोग रोहतक पीजीआई रेफर किए जा चुके हैं। हादसा नेशनल हाईवे 71 पर बादली फ्लाइओवर पर हुआ। टक्कर लगते ही चीख पुकार मच गई। वहीं हादसे के बाद के हालात भयावह हैं। मरने वालों में 7 महिलाएं और एक पुरुष शामिल हैं। सभी मृतक एक ही परिवार से हैं। बताया जा रहा है कि गांव किड़ौत का यह परिवार अपने किसी रिश्तेदार की मौत का शोक मनाने के लिए नजफगढ़ जा रहा था। हादसे के बाद इस समय हाईवे पर 5 किलोमीटर लंबा जाम लग गया है।

दूसरी ओर, प्रदेश के मुख्यमंत्री ओम प्रकाश धनखड़ घायलों का हाल चाल जानने के लिए अस्पताल पहुंचे। उन्होंने घायलों के परिजनों से और डॉक्टरों से स्थिति का जायजा लिया। इसके बाद सभी मृतकों को दो-दो लाख का मुआवजा और घायलों को एक-एक लाख रुपये देने का एलान भी किया।

मृतकों में 48 वर्षीय सतपाल पुत्र राममेहर, 34 वर्षीय कांता देवी पत्नी सतपाल, 45 वर्षीय संतोष पत्नी चंद्रभान, 50 वर्षीय प्रेमलता पत्नी देवेंद्र, 35 वर्षीय रामकली पत्नी रोहतास, 63 वर्षीय लक्ष्मी, 61 वर्षीय शीला देवी और खजनी पत्नी जयकिशन शामिल हैं।

Continue Reading

अंबाला

Haryana Municipal Election 2018 LIVE UPDATES

Published

on

By

हरियाणा के पांच नगर निगमों और दो नगर पालिका समितियों के चुनाव में रविवार को 14 लाख से अधिक मतदाता उम्मीदवारों के राजनीतिक भाग्य का फैसला करेंगे.

14,01,454 मतदाताओं में 7,44,468 पुरुष और 6,56,986 महिलाएं हैं.

इन निगमों और नगर पालिका समितियों में महापौर और सदस्यों के चुनाव में 136 वार्डों के लिए वोट डाले जायेंगे.

पांच नगर निगम हिसार, करनाल, पानीपत, रोहतक और यमुनानगर हैं जबकिदो नगर पालिका समिति फतेहाबाद में जखाल मंडी और कैथल में पुंडरी हैं. प्रवक्ता के अनुसार इस चुनाव के लिए 1,292 मतदान केंद्र बनाये गये हैं जिनमें 304 संवेदनशील और 166 अतिसंवेदनशील हैं.

इस खबर पर LIVE अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहिए

12:35 pm (IST)

गोहाना से कांग्रेस पार्टी के विधायक जगबीर मलिक ने किया दावा. पांच जिलों में चल रहे नगर निगम के चुनावों में होगी कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों की जीत.

 

12:02 pm (IST)

यमुनानगर वार्ड नंबर 16 में पार्षद पद के उम्मीदवार ने एक युवक को बूथ पर जमकर पीटा.

11:54 am (IST)

यमुनानगर के आईटीआई में एक महिला के वोट डालने से पहले किसी और ने डाला उसका वोट. पुलिस ने मामला दर्ज किया.

11:44 am (IST)

पानीपत में दो बूथों पर अब तक जीरो वोटिंग.

 

11:36 am (IST)

हरियाणा के 5 नगर निगम और 2 नगर पालिका के लिए रविवार सुबह 7.30 बजे से मतदान जारी है. चुनाव के 4 घंटे बीत चुके हैं. अभी तक सीएम सिटी करनाल में सबसे कम वोटिंग हुई है. यहां अबतक 9.9 प्रतिशत मतदान हुआ है.

11:24 am (IST)

टोहाना के जाखल में प्रत्याशी का टेंट हटवाने से लेकर जमकर हंगामा हुआ. प्रशासन ने प्रत्याशी के टेंट हटवाये जिसके बाद लोगों ने हंगामा किया. लोगों ने प्रशासन पर भाईचारा खराब करने का आरोप लगाया. बताया जा रहा है प्रत्याशी के समर्थकों ने ये टेंट लगाया था.

11:07 am (IST)

करनाल में बीजेपी की मेयर उम्मीदवार रेणु बाला ने वार्ड नम्बर 11 में मतदान किया.

11:02 am (IST)

यमुनानगर के गांव भगवानगढ में वोट को लेकर हंगामा किया. लोगों ने आरोप लगाया कि ईवीएम मशीन में गड़बड़ है. ईवीएम पर बटन दबाने के बाद किसी और पार्टी के खाते में वोट जा रहे हैं. लोगों ने की बूथ नंबर-9 के बाहर नारेबाज़ी की.

10:41 am (IST)

पानीपत के वार्ड 26 के बूथ नम्बर 1 और 2 पर 3 घण्टे बीतने के बाद भी नहीं खुला खाता. वार्डवासी अपनी जिद पर अड़े नहीं किया मतदान. लोगों का विरोध जारी.

10:37 am (IST)

पानीपत में वोट का बहिष्कार कर बूथ के उसके अंदर भी प्रवेश नहीं कर रहे बाबर पुर मंडी के निवासी. विकास कार्य ने होने से नाराज हैं यहां के लोग. पानीपत के वार्ड नंबर 26 के अंतर्गत आता है बाबरपुर मंडी. यहां कुल वोटरों की संख्या 1737 है.

10:33 am (IST)

पानीपत के वार्ड नंबर 2 के लिए लगाई ईवीएम कारण मतदान रुक गया. अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की.

Continue Reading

Trending