Connect with us

विशेष

कंप्यूटर टीचर्स को पुलिस ने पी टते हुए घसीटा, बसों में भरकर ले गए थाने

Published

on

शिक्षा विभाग में समायोजन की मांग को लेकर सड़क पर उतरे computer टीचर्स को police ने दौड़ा-दौड़ा कर और घसीट-घसीट कर पी टा। police की ओर से किए गए लाठी चार्ज में दो दर्जन teachers को चो टे आई हैं। किसी का सिर फूटा तो किसी को पीठ, हाथ, पैर में चो टें लगी हैं। पुलिस उन्हें सीधे थाने ले गई। इसके बाद सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया।

दरअसल, सोमवार को कंप्यूटर टीचर्स संघ के बैनर तले ये computer शिक्षक 20 अगस्त से पंचकूला के शिक्षा सदन के पीछे मैदान में धरने पर बैठे थे। सोमवार दोपहर ये सड़क पर आ गए और नारेबाजी करते हुए शिक्षा सदन का घेराव करने पहुंच गए। यहां सदन के गेट बंद किए गए। police ने खूब जोर आजमाइश भी हुई। इन्हें बताया कि पंचकूला डीसी ने बुलाया है, वहां प्रतिनिधिमंडल जाकर मिल सकता है।

इस पर सभी ने DC office की ओर कूच कर दिया। DC कार्यालय के बाहर ये सड़क पर बैठ गए। करीब एक घंटा इंतजार के बाद police की ओर से इन्हें उठने को कहा गया तो teachers ने मना कर दिया।

Police ने घसीटकर गाड़ियों में डाला :

पुलिस ने इन्हें खदेड़ने के लिए पहले वॉटर कैनन का इस्तेमाल किया, लेकिन जब ये नहीं खिसके तो police ने लाठीचार्ज कर दिया। पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर पी टा।

इतना ही नहीं इन्हें घसीट कर गाडियों में डाला गया। इस दौरान काफी संख्या में टीचर्स को चो टें लगी। पंचकूला के एसीपी नुपूर बिश्नोई ने बताया कि computer टीचर्स को पहले शांत करने का प्रयास किया। ये road जाम करने जा रहे थे। गिरफ्तारी का प्रयास किया। जब नहीं माने तो लाठी चार्ज करना पड़ा। ड्यूटी मजिस्ट्रेट भी मौके पर थे। अज्ञात के खिलाफ केस भी दर्ज किया गया है।

2013 से कार्यरत, Department of Education में समायोजन की मांग

प्रदेशभर में करीब 2013 से 2200 computers शिक्षक शिक्षा दे रहे हैं। कंप्यूटर शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष बलराम धीमान ने कहा कि पिछले 6 वर्षों में सरकार द्वारा 10 बार से ज्यादा उनकी सेवा को समाप्त किया जा चुका है।

धीमान ने बताया govt शिक्षकों का स्थाई समाधान करने की बजाय सड़क पर ही रखना ज्यादा पसंद कर रही है। शिक्षा विभाग के पास स्थाई पॉलिसी के तहत कंप्यूटर शिक्षकों के 3216 पद स्वीकृत हैं। इसके बावजूद समायोजित नहीं किया जा रहा है।