Connect with us

पानीपत

किन लोगों ने सुरेश गर्ग को किया इतना मजबूर, केस दर्ज.. आएगा सच सामने -Panipat

Published

on

शिवनगर निवासी यार्न एसोसिएशन के उप प्रधान व गर्ग ओवरसीज के मालिक सुरेश कुमार गर्ग को आत्मह त्या के लिए मजबूर करने के आरोप में तीन नामचीन व करोड़पति उद्यमियों के खिलाफ थाना मॉडल टाउन पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। इसमें जाटल रोड सौंधापुर चौक स्थित एसएएस एक्सपोर्ट के मालिक मॉडल टाउन के संजय गुप्ता, आइसीआइसीआइ बैंक के पीछे स्वास्तिक रोड स्थित शर्मा ब्रदर्स के मालिक योगेंद्र मोहन शर्मा (वाएस) और सनौली रोड कैप्टन मार्केट के पीछे अन्नपूर्णा के मालिक राजीव लीखा के नाम शामिल हैं। ये कार्रवाई सुरेश कुमार के इकलौते बेटे मनीष गर्ग की शिकायत पर हुई है। थाना मॉडल टाउन प्रभारी सुनील कुमार का कहना है कि जल्द ही आरोपितों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जाएगी। अगर दोषी होंगे तो गिरफ्तार कर अदालत में पेश किए जाएंगे।

 

मनीष गर्ग ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि 30 जून को सुबह 10 बजे पिता सुरेश कुमार घर से नाश्ता करके यह कहकर निकले थे कि व्यवसाय से संबंध में पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस में जा रहा हूं। 10:30 बजे बात हुई तो उन्होंने बताया कि वे रेस्ट हाउस से निकल चुके हैं। 11 बजे बिझौल गोशाला के पास पश्चिमी यमुना लिक नहर में चार युवक नहा रहे थे। इनमें से एक युवक ने डब्ल्यूवीआर कार की ड्राइवर साइड की खिड़की खुली देखी और अंदर झांक कर देखा तो एक व्यक्ति ड्राइवर सीट पर खून से लथपथ पड़ा था। उनकी सांस चल रही थी। उनके पिता ने लाइसेंसी पि स्तौल से कार में खुद की कनपटी पर गो ली मार ली थी। घायल पिता को शहर के एक निजी अस्पताल और फिर फोर्टिस अस्पताल में दाखिल कराया, जहां 14 जुलाई को मौत हो गई। 26 जुलाई को उसने पिता की रस्म क्रिया की। पिता की जेब से एक सु साइड नोट मिला था। उनके पिता ने संजय गुप्ता, योगेंद्र मोहन शर्मा और राजीव लिखा की प्रताड़ाना से परेशान व दबाव में आकर गो ली मारकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली।

 

सुरेश कुमार गर्ग ने एक पन्ने के सु साइड नोट में लिखा है कि मैं सुरेश गर्ग शिव नगर निवासी पानीपत यार्न व्यापारी राजीव लीखा, वाइएस शर्मा से तंग होकर आत्म ह त्या कर रहा हूं। एसएएस एक्सपोर्ट के मालिक संजय गुप्ता ने मेरे बेटे को जाल फंसाकर रेट में कम रेट का धागा ज्यादा रेट में लगा दिया। 14000 बोरों के लेनदेन किया। 25 रुपये रशीद का रेट 45 रुपये दिखाकर दो करोड़ रुपये का रेट में फर्क किया है। मेरे बेटे को अपने कब्जे में रखकर ब्लैकमेल किया गया। अब मुझे पता लगा है कि बाजार की पेमेंट बाकी देनी है। जम हम उसके पास जाकर मिले (गुप्ता) तो पता चला कि मनीष गर्ग को जाल में फांसकर 35 प्रतिशत कम रेट में माल (धागा) खरीदा है। मेरी मौत की जिम्मेदारी संजय गुप्ता की है। मेरी 40 साल की मार्केट की रेपूटेशन खत्म हो गई है और अब मैं जीना नहीं चाहता हूं। इसलिए आत्म ह त्या कर रहा हूं। राम-राम। सुरेश गर्ग। मनीष से सात करोड़ रुपये का लेनदेन किया, उनसे कोई धोखा नहीं किया

आरोपित एसएएस एक्सपोर्ट के मालिक मॉडल टाउन के संजय गुप्ता ने कहा कि उसका सवा साल से मनीष गुप्ता से लेनदेन था। उसने मनीष से मार्केट के तय रेट के हिसाब से सात करोड़ रुपये का माल (धागा) खरीदा था। इस लेनदेन का उसके पास सारा रिकार्ड है। मनीष को उसने एक रुपया नहीं देना है। 24 जून को उनकी माता सुदेश गुप्ता का देहांत हो गया था। इसके बाद से उसकी मनीष को से कोई बातचीत नहीं है। उस पर लगे आरोप सत्य नहीं है। पुलिस मामले की निष्पक्ष जांच करें। मनीष से रुपये लेने हैं, दोनों उद्यमियों पर गलत केस बनाया है

यार्न एसोसिएशन के महासचिव संजय कालड़ा का कहना है कि उद्यमी राजीव लीखा और योगेंद्र मोहन शर्मा एसोसिएशन के सम्मानित सदस्य हैं। दोनों ने ही मनीष गुप्ता को धागा बेच रखा है। इसी के दोनों ने मनीष से रुपये लेने हैं। इन्हीं के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज किया है। यह ठीक नहीं है। अगर इस तरह से उद्यमियों के खिलाफ मामले दर्ज होंगे तो फिर व्यापार कैसे कर पाएंगे। उधार लेना गुनाह हो गया है। इस बारे में एसोसिएशन की ओर से रविवार को प्रेसवार्ता की जाएगी।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *