Connect with us

पानीपत

गांव का छोरा लाया ऐसी बारात, देखती रह गई दुल्हनिया…शादी में भी रखी अनोखी शर्त

Published

on

हिसार के गांव रामपुरा निवासी संजय ने हसनगढ़ निवासी सतबीर की बेटी संतोष के साथ बिना दहेज लिए केवल एक रुपए शगुन लेकर शादी की।

दुल्हन को भी हेलीकॉप्टर में लेकर गए। संजय के पिता सतबीर का कहना है कि बिना दहेज शादी करने के पीछे उद्देश्य बेटी बचाओ का संदेश देना था। ताकि लोग बेटी को बोझ न समझे। ग्रामीणों का कहना है कि गांव में पहली बार ऐसी शादी देखने को मिली है,

गोहाना में अनोखी शादी

जिसमें न तो दहेज लिया गया और बेटी शादी के बाद दूल्हे के साथ हेलीकॉप्टर में विदा हुई ।

गोहाना में अनोखी शादी

दूल्हे के पिता सतबीर ने बताया कि लड़की पिता के सामने केवल एक ही शर्त रखी थी कि दहेज नहीं लेंगे और शगुन भी केवल एक रुपया ही होगा।

गोहाना में अनोखी शादी

लड़की के परिजन की सहमति के बाद ही शादी के लिए तैयार हुए थे। उसका एक ही बेटा है। इसलिए उसकी इच्छा थी कि वह हेलीकॉप्टर में शादी करने जाए और बहू को हेलीकॉप्टर में लेकर आए।

गोहाना में अनोखी शादी

दुल्हन संतोष बीए पास है दूल्हा संजय बीए फाइनल में है।

गोहाना में अनोखी शादी

हेलीकॉप्टर सुबह करीब 11:30 बजे हसनगढ़ गांव में उतरा। इसमें दूल्हा संजय, उसका पिता सतबीर और चचेरा भाई कृष्ण कुमार सवार थे। इसमें पायलट प्राची जैन थीं।

गोहाना में अनोखी शादी

सतबीर यादव ने बताया कि वह मजदूरी करता है। तीन बच्चे हैं। संतोष बड़ी है। बेटी की शादी को लेकर अक्सर चिंता रहती थी। भगवान की कृपा और बेटी का भाग्य ही है कि वह आज हेलीकॉप्टर में विदा हुई। कभी नहीं सोचा था कि बेटी हेलीकॉप्टर में विदा होगी।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × two =

You're currently offline