Connect with us

राज्य

गुरमीत राम रहीम के कारण सुनारिया जेल प्रशासन हुआ परेशान, यह है मामला

Published

on

सुनारिया जेल प्रशासन सजा काट रहे डेरा सच्‍चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के कारण फिर परेशानी में फंस गया है। यह दिक्‍कत गुरमीत राम रहीम के नाम आ रहीं चिट्ठियों और राखियों की वजह से पैदा हुई है। गुरमीत के लिए रक्षाबंधन पर राखियां और उसके जन्मदिन के बधाई संदेश वाली चिट्ठयां हजारों की संख्या में पहुंच रही हैं। इससे जेल प्रशासन के साथ-साथ डाक विभाग के कर्मचारियों की भी मुसीबत हो गई है।

डाक विभाग और जेल प्रशासन के लिए परेशानी का सबब बनी राखियां व चिट्ठियां

यहां डाकघर में रोजाना हजारों की संख्‍या में डाक पहुंच रही हैं, जिनको जेल में भेजा जाता है। अतिरिक्त वर्कलोड के चलते कर्मचारी ओवर टाइम कर रहे हैं। बता दें कि गुरमीत राम रहीम सुनारिया जेल में दो साध्वियों से दुष्कर्म के मामले में 20 साल की कैद और पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहा है।

15 अगस्त को गुरमीत का जन्मदिन है और इसी दिन रक्षाबंधन का त्योहार भी है। डेरामुखी के नाम पर रोजाना हजारों की संख्या में राखियां और जन्मदिन के बधाई संदेश वाली चिट्ठियां सुनारिया के पुलिस ट्रेनिंग सेंटर स्थित उप डाकघर में पहुंच रही हैं। इससे डाकघर में तैनात कर्मचारियों के लिए मुकिश्‍ल खड़ी हो गई है।

एक-एक डाक का रिकार्ड कंप्यूटर में दर्ज करना पड़ता है। इसके बाद सूची तैयार कर जेल प्रशासन को भेजी जाती है। डाक घर से रोजाना दो कर्मचारी बोरों में डाक भरकर जेल प्रशासन तक पहुंचते हैं। उधर, जेल प्रशासन के लिए भी बड़ी मुकिश्‍ल पैदा हो गई है। जेल प्रशासन को प्रत्येक डाक की गहनता से जांच करनी पड़ रही है। इतना ही नहीं राखियों में प्रतिबंधित वस्तु भी भेजी जा रही हैं।

गुरमीत राम रहीम के कारण नई परेशानी में फंसा सुनारिया जेल प्रशासन, जानें क्‍या है मामला

 

डाक विभाग के अनुसार हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड सहित अन्य राज्यों से स्पीड पोस्ट, रजिस्ट्री व साधारण डाक से लाखों की संख्या में डेरा अनुयायियों ने ग्रीटिंग कार्ड भेजे हैं। सादे कागज पर लिखे संदेश के साथ-साथ महंगे ग्रीटिंग कार्ड गुरमीत के नाम भेजे जा रहे हैं।

——-

”रोजाना औसतन एक हजार से चिट्ठियां डाकघर में पहुंच रही हैं। अधिकतर डाक गुरमीत राम रहीम के नाम पर होती हैं। इसमें राखी और जन्मदिन के बधाई संदेश हैं। रोजाना रिकार्ड ऑनलाइन करना भी मुश्किल हो गया है।

– जोगेंद्र कुमार, सब पोस्टमास्टर, पीटीसी, सुनारिया।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *