Connect with us

Cities

चीन से लौटे भारतीयों को घर-घर जा खोज रही है स्वास्थ्य टीम..

Published

on

कोरोना वायरस के कारण चीन से भारत लौटे लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। वहीं हरियाणा में चीन से लौटने वालों की जानकारी सामने आते ही स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। पानीपत सहित करनाल, जींद, कैथल, कुरुक्षेत्र में इनकी संख्या करीब दो सौ से ज्यादा है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की टीम इनके घर पहुंच गई।

चीन से करीब 81 लोग करनाल में लौटे हैं। एयरपोर्ट अथॉरिटी से मांगी गई सूचना में यह जानकारी मिली है। घर पहुंचने वालों को सबसे पहले स्वास्थ्य विभाग की टीम ने चिन्हित किया कि वे किस क्षेत्र के हैं। इसके बाद संबंधित टीमों को उन लोगों के घर भेजा गया। टीम ने सभी की काउंसङ्क्षलग की और सभी जरूरी टेस्ट भी कराए गए हैं। हालांकि यह सभी 81 लोग अपने घरों में हैं, लेकिन एहतियात के तौर पर स्वास्थ्य विभाग की टीमें निगरानी बनाए हुए हैं।

चीन से आए करीब दो सौ लोग, घर-घर पहुंच रही Haryana स्वास्थ्य विभाग की टीम Panipat News

दूसरे देशों में भी गए कुछ लोग

काउंसङ्क्षलग में यह भी जानकारी मिली है कि 81 में से ज्यादातर लोग ऐसे हैं जो सीधे चीन से भारत नहीं आए हैं, दूसरे देशों में रुकते हुए भारत वापस लौटे हैं। लेकिन फिर भी टीम ने अपनी जांच प्रक्रिया शुरू कर दी है। चीन से आए सभी लोगों को चिन्हित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम मंगलवार सुबह से ही फोन खड़काती रही। जहां भी ये लोग मिले वहां पर टीम ने उनके स्वास्थ्य के बारे में रिपोर्ट हासिल की और जरूरी दिशा-निर्देश भी दिए।

निजी अस्पतालों को देनी होगी रिपोर्ट

सिविल सर्जन डॉ. अश्विनी आहुजा ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के साथ बैठक कर सहयोग की अपील की और दिशा-निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि किसी भी निजी अस्पताल में कोरोना वायरस का संदिग्ध केस मिले तो उसके बारे में जरूर सूचना दें। हालांकि हेल्पलाइन नंबर जारी किए हुए हैं। नोडल आफिसर की भी तैनाती की गई है। निजी अस्पताल के डॉक्टर्स किसी भी नंबर पर इसकी सूचना दे सकते हैं। डॉ. अश्विनी ने कहा कि इस मामले को गंभीरता से लें।

पानीपत में आए 39 लोग

पानीपत में जिला प्रशासन को 39 लोगों की सूची सौंपी है। सभी 29 दिसंबर 2019 के बाद चीन की यात्रा कर लौटे हैं।

जींद में चीन से लौटे 20 लोग

जींद जिले में 20 लोगों की सूची स्वास्थ्य विभाग को भेजी गई है। ये सभी चीन से लौटे हैं। सूचना मिलते ही स्वास्थ्य विभाग हरकत में आ गया। स्वास्थ्य विभाग ने सिविल अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्डों में ऐसे व्यक्तियों को लाकर उनके टेस्ट कराने के निर्देश दिए हैं। अधिकतर चीन में मेडिकल की पढ़ाई करने वाले हैं। अधिकतर लोगों को एयरपोर्ट से सीधे मानेसर बनाए गए निगरानी केंद्र पर रखकर वापस भेजा गया है।

एक महीने पहले आए लोगों की जांच

जींद में 29 दिसंबर से एक फरवरी तक चीन से 20 लोग लौटे हैं। सिविल सर्जन डॉ. दिलबाग ने बताया कि एक माह पहले तक पहुंचे लोगों पर नजर रखी जा रही है। फिलहाल इनमे से अभी तक कोई भी संदिग्ध नहीं पाया गया है।

कुरुक्षेत्र में 33 लोग पहुंचे

कुरुक्षेत्र में चीन से पहुंचे 33 लोगों के साथ कोरोना वायरस के डर ने भी दस्तक दे दी है। इन सबको अब स्वास्थ्य विभाग ढूंढने में जुट गया है। विभाग इन्हें एग्जामिन करके 28 दिनों तक अपनी निगरानी में रखेगा। हालांकि अभी तक जिले में कोरोना वायरस का कोई भी संदिग्ध मामला सामने नहीं आया है। स्वास्थ्य विभाग ने जिला स्वास्थ्य विभाग को दो अलग-अलग सूची उपलब्ध कराई है। पहली सूची में जहां 32 लोग कुरुक्षेत्र के हैं वहीं दूसरी सूची में एक व्यक्ति पाया गया है। सूची के मिलते ही स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड पर आ गया है।

इन क्षेत्रों में आए ये 33 लोग 

जिले में 33 लोग जो चीन से आए हैं उनमें पिहोवा कस्बे के सबसे ज्यादा लोग हैं, जबकि थानेसर शहर से 12 किलोमीटर दूर स्थित लुक्खी गांव में भी बड़ी संख्या में चीन से लोग लौटे हैं। थानेसर शहर के भी कुछ लोग हैं। स्वास्थ्य विभाग को दो सूची मिली हैं, जिनमें चीना से आए 33 लोगों के नाम और पते हैैं।

स्वास्थ्य विभाग इन लोगों तक पहुंचने का कर रहा प्रयास : डॉ. सुदेश 

कुरुक्षेत्र के डिप्टी सिविल सर्जन डॉक्टर सुदेश सहोता ने बताया कि चीन से 33 लोगों के यहां आने की पुष्टि जरूर हुई है, लेकिन अभी तक किसी के भी बीमार होने की सूचना नहीं है। स्वास्थ्य विभाग इन लोगों तक पहुंचने का प्रयास कर रहा है। जो लोग चीन से आए हैं उन्हें परामर्श है कि वे अपने घरों में ही रहें। किसी भी तरह से बीमार होने पर तुरंत स्वास्थ्य विभाग को सूचित करें। स्वजन उनके टॉवल, कपड़े या किसी भी सामान का प्रयोग न करें। अर्बन पीएचसी के स्टॉफ द्वारा घर-घर जाकर कोरोना वायरस के पंफ्लेट बांटे जा रहे हैं।

चीन से आने वाले व्यक्तियों के बारे में हेल्पलाइन नंबर पर दें सूचना

कोरोना वायरस के खतरे को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है। लोगों को भी इसके लक्षणों व बचाव के प्रति जागरूक किया जा रहा है। साथ ही अपील की जा रही है कि यदि कोई भी व्यक्ति से चीन से आता है, तो उसके बारे में स्वास्थ्य विभाग को सूचना दें। ताकि उसकी स्क्रीङ्क्षनग की जा सके। इस संबंध में पंपलेट भी बांटे जा रहे हैं। विभाग ने ऐसे मरीजों के लिए भी अलग से आइसोलेशन वार्ड बनाया है। पंपलेट के माध्यम से लोगों को बताया जा रहा है कि चीन से आए यात्री व अन्य लोग कोरोना वायरस से घबराएं नहीं। सबसे पहले स्वास्थ्य केंद्र में ऐसे व्यक्ति को लेकर आए, जो चीन से लौटा हो। इस वायरस के फैलने की संभावना रहती है। इसलिए सबसे जरूरी सावधानी है। यदि जिले में कोई भी व्यक्ति चीन से हाल ही में लौटा है, तो उसके बारे में हेल्पलाइन नंबर  70278-23288 व 70279-72089 पर सूचना जरूर दें। जिससे स्वास्थ्य विभाग की टीम उसकी जांच कर सके।

कोरोना वायरस के बारे में यह जरूर जानें 

-कोरोना वायरस से घबरायें नहीं।

-भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें।

-चीन या उसके आसपास से आये यात्रियों के पास अगर रह रहे हैं तो मास्क पहनें व एक हाथ से अधिक की दूरी बनाये रखें।

-अपने हाथों को अच्छे से धोयें।

लक्षण  

-तेज बुखार

-सांस लेने में तकलीफ

-खांसी

कोरोना वायरस से बचाव के लिए रखें ध्यान

– अपने हाथों को अच्छी तरह से साफ करें, हैंडवॉश का इस्तेमाल करें।

– खांसते व छींकते समय मुंह पर रुमाल व टिश्यू पेपर का इस्तेमाल करें।

– सर्दी में खांसी, जुकाम की शिकायत है तो भीड़ के स्थानों पर जाने से बचें

– हाथ मिलाने की बजाय नमस्ते करें ताकि दूसरे तक संक्रमण न फैले।

– यदि किसी स्थान पर जाना जरूरी है तो मास्क का प्रयोग करें

– अधिक मात्रा में तरल पदार्थ व पौष्टिक भोजन का प्रयोग करें।

 

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *