Connect with us

राज्य

दिल्ली की और जाने वाले टोल को क्यूँ करा गया 1 घण्टे के लिए फ़्री?…

दिल्ली रोहतक रोड पर रोहद गांव में स्थित टोल प्लाजा पर सांपला निवासियों ने टोल न देने के चलते जबरदस्त विरोध जताया। विरोध स्वरूप टोल बैरियरों को उठा कर लगभग 1 घंटे तक फ्री वाहनों को गुजारा। इसी दौरान प्रदेश के कृषि मंत्री अोमप्रकाश को भी ग्रामीणों ने रोक लिया और अपनी समस्या से अवगत […]

Published

on

दिल्ली रोहतक रोड पर रोहद गांव में स्थित टोल प्लाजा पर सांपला निवासियों ने टोल न देने के चलते जबरदस्त विरोध जताया। विरोध स्वरूप टोल बैरियरों को उठा कर लगभग 1 घंटे तक फ्री वाहनों को गुजारा। इसी दौरान प्रदेश के कृषि मंत्री अोमप्रकाश को भी ग्रामीणों ने रोक लिया और अपनी समस्या से अवगत करवाया। मंत्री ने मुख्यमंत्री व केंद्रीय मंत्री से बात करने का आश्वासन दिया।

8 किलोमीटर के दायरे के गांव नहीं देते टोल

दरअसल रोहद टोल प्लाजा की ओर से 8 किलोमीटर के दायरे में पड़ने वाले गांवों के वाहनों को फ्री कर रखा है। लेकिन सांपला कस्बे के वाहनों को टोल प्रशासन राहत नहीं दे रहा है, जबकी वह महज एक किलोमीटर के दायरे में हैं। टोल प्रशासन का तर्क है कि सांपला शहर है इसलिए इनके वाहनों को राहत नहीं दी जा सकती। जिसके चलते आज सांपला निवासियों के सब्र का बांध टूट गया और एकत्रित होकर रोहद टोल प्लाजा पर विरोध जताया।

कृषि मंत्री की गाड़ी रोक समस्या से करवाया अवगत

इसी दौरान प्रदेश के कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ भी टोल क्रॉस कर रहे थे। जिनकी गाड़ी को ग्रामीणों ने घेर लिया। जिसके चलते धनखड़ गाड़ी से उतरे और ग्रामीणों की बात सुनी। ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि ग्रामीणों की मांग जायज है और वे इस बारे में मुख्यमंत्री व केंद्रीय परिवहन मंत्री से बातचीत करेंगे।

पुलिस अौर ग्रामीणों में हुई नोकझोक

विरोध को देखते हुए बहादुरगढ सदर थाना की पुलिस मौके पर पहुंची और टोल को चलवाने का प्रयास किया, लेकिन ग्रामीण नहीं माने। इस दौरान पुलिस कर्मचारियों के साथ जबरदस्त नोकझोक हुई। ग्रामीण अपनी बात पर अड़े रहे कि जब तक फैसला नहीं होगा, तब तक किसी भी वाहन का टोल नहीं वसूलने दिया जाएगा। आखिर में तय हुआ कि सोमवार को सांपला एसडीएम के साथ मीटिंग के बाद कोई फैसला लिया जाएगा।

3 साल बाद टोल वसूलना किया शुरू

सांपला नगरपालिका के चेयरमैन सुधीर का कहना है कि 3 साल से टोल पर सांपला के वाहनों को फ्री किया हुआ था, लेकिन अब टोल वसूलना शुरू कर दिया गया है। यहां तक कि टोल कर्मी लोगों के साथ बदतमीजी करते हैं और गाडि़यों के कागजात भी छीन लेते है। सांपला के वाहन किसी भी कीमत पर कोई टोल नहीं देंगे, अगर जबरदस्ती हुई तो वे बखूबी अपनी मांग मनवाना जानते हैं।

टोल पर पहुंचे इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता सतीश नांदल

वहीं इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता सतीश नांदल भी ग्रामीणों के साथ टोल पर पहुंचे और उन्होंने कहा कि जब 8 किलोमीटर के दायरे के गांवों को फ्री किया गया है तो सांपला तो 0 किलोमीटर के दायरे में आता है। किसी भी कीमत पर टोल नहीं वसूलने दिया जाएगा और इसके लिए चाहे कुछ भी करना पड़े।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *