Connect with us

राज्य

पहली बार बोले रेवाड़ी गैंगरेप के आरोपी, एसआईटी के सामने किए चौंकाने वाले खुलासे

Published

on

रेवाड़ी गैंगरेप के मुख्य आरोपियों ने पहली बार एसआईटी टीम के सामने अपना मुंह खोला है। उन्होंने इस पूरी वारदात के बारे में जानकारी दी। आइए जानते हैं पूरा घटनाक्रम।रेवाड़ी गैंगरेप के मुख्य आरोपी पंकज फौजी और मनीष ने एसआईटी द्वारा पूछताछ में बताया कि वारदात वाली रात 12 सितंबर को अपने-अपने घर पर ही थे। उस समय तक पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया था। अगले दिन वो गांव में शहीद के अंतिम संस्कार में शाम के समय शामिल हुए थे। उसके बाद मामला उजागर हुआ तो दोनों शाम को ही बाइक पर महेंद्रगढ़ मनीष के बहनोई अभिषेक के घर पर चले गए थे।

एसआईटी द्वारा रिमांड में पूछताछ करने पर आरोपियों ने बताया कि जब मामला मुख्यमंत्री तक पहुंच गया था, तो उन्होंने महेंद्रगढ़ रुकना उचित नहीं समझा वो 15 सितंबर की सुबह बाइक पर अभिषेक की मौसी के गांव नूहनियां तहसील बुहाना जिला झुंझुनू चले गए थे। वहीं पर उन्होंने अपने मोबाइल दबाए और बाइक छोड़ी थी। 16 सितंबर को वापस सतनाली रेलवे स्टेशन पर आ गए थे।

वहां घूमते रहे और उसके बाद 17 को गोगामेड़ी चले गए। वहां पर कुछ समय रहने के बाद बीकानेर भी घूमे। एक बार कुछ समय के लिए ट्रेन से रेवाड़ी भी आए थे, परंतु वहां माहौल देखकर वापस गाड़ी में बैठकर राजस्थान के लिए निकल गए। दोनों ने अपना अधिकतर समय झुंझुनू जिले में ही बीताया।

आरोपियों के रिश्तेदारों को मिली जमानत

एसआईटी टीम

एसआईटी टीम
गैंगरेप के मुख्य आरोपियों पंकज फौजी और मनीष को पनाह देने के आरोप में एसआईटी द्वारा पकड़े गए दो आरोपियों को कनीना पीयूष शर्मा की अदालत में पेश किया गया। जहां से उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया। एसआईटी के सदस्य सहायक उप निरीक्षक रामचंद्र ने बताया कि अभिषेक शर्मा निवासी महेंद्रगढ़ और मंजीत नूहनिया जिला झुंझुनू राजस्थान को पकड़ा गया है। नाते में अभिषेक मनीष का बहनोई लगता है तथा मंजीत अभिषेक की मौसी का लड़का है।

रिश्तेदारों ने रुपये देकर की थी आरोपियों की मदद
पुलिस ने बताया कि दोनों व्यक्तियों ने गैंगरेप के आरोपी पंकज की आर्थिक रूप से मदद की और उनके रहने की व्यवस्था की थी। इसका खुलासा पंकज और मनीष ने पुलिस रिमांड के दौरान किया।

मोबाइल और बाइक की बरामद

पकड़े गए दोनों आरोपी

पकड़े गए दोनों आरोपी
पुलिस टीम ने दोनों को बीती रात काबू किया था। मामले में पकड़े गए आरोपियों की संख्या आठ हो गई है। पुलिस ने मंजीत के घर से बाइक और मोबाइल बरामद किए हैं। दोनों मोबाइल पंकज और मनीष के बताए जाते हैं। इन मोबाइलों को चेक किया गया, परंतु उनमें कोई सुराग नहीं मिला। दोनों ही मोबाइल पुलिस साइबर एक्सपर्ट के पास भेजेगी। – रामचंद्र, एएसआई, एसआईटी सदस्य।

कोसली थाना प्रभारी को भेजा पुलिस लाइन, सतेंद्र यादव को प्रभार
कोसली क्षेत्र के एक गांव निवासी छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म मामले में तत्कालीन पुलिस अधीक्षक राजेश दुग्गल का तबादला करने और महिला थाना की निरीक्षक हिरामणी को सस्पेंड करने के बाद अब कोसली थाना प्रभारी सतेंद्र को भी पुलिस लाइन में भेज दिया गया है। हालांकि पुलिस अधिकारियों द्वारा इसकी साफ वजह नहीं बताई गई है लेकिन महकमें में चर्चा है कि इसी प्रकरण में उनको लाइन भेजा गया है। सतेंद्र सिंह के स्थान पर पुलिस लाइन में तैनात निरीक्षक सतेंद्र यादव कोसली थाना प्रभारी बनया गया है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अंबाला

नाचने से रोकने पर दूल्हे के दोस्त ने दुल्हन के मौसा को चा’कू से गो’द दिया।

Published

on

By

शादी में नाच रहे बरातियों को समझाना दुल्हन के मौसा को भारी पड़ गया। बरातियों में शामिल युवक ने चा’कुओं से गोदकर उसकी ह’त्या कर दी। बीच-बचाव करने पहुंचे दुल्हन पक्ष के दो अन्य व्यक्तियों को भी चा’कू मारकर घा’यल कर दिया। ताबड़तोड़ हमले के बाद आरोपित फरार हो गया। वह अलीगढ़ (उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है। बरात रात को ही बैरंग लौट गई।

अंबाला शहर के सेक्टर आठ निवासी यशोदा की बेटी की शादी थी। मृतक विकास अपनी पत्नी सविता व अन्य के साथ इसमें आया था। बरात शहर के ही दुर्गा नगर से आई थी। रात करीब 10 बजे बराती नाचते हुए एक घर के आगे आ पहुंचे। यहां काफी देर तक नाचते रहे।

बरातियों को आगे जाने के लिए कहना बना काल

विकास ने बरातियों को आगे आने के लिए कहा। बात तूल पकड़ गई और अलीगढ़ (उप्र) से आए दूल्हे के दोस्त संजय ने जेब से चा’कू निकालकर विकास की छाती में मार दिया। विकास का भाई रोशन और दूल्हे के भाई मनोज बीच-बचाव के लिए आए तो संजय ने उन पर भी चा’कू से वार कर दिया। एक के हाथ और दूसरे की बाजू पर चा’कू लगे। तीनों को उपचार के लिए जिला नागरिक अस्पताल में ले जाया गया। जहां से उन्हें प्राथमिक उपचार के बाद घर भेज दिया गया। लहूलुहान हालत में विकास को ट्रामा सेंटर में रात करीब 10.30 बजे भर्ती कराया गया जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया।

demo pic

बिना दुल्हन के लौटी बरात

वारदात के बाद शादी समारोह मातम में तब्दील हो गया। खून से लथपथ विकास को देखकर मंडप में मातम पसर गया। रोना-पीटना शुरू हो गया। चारों तरफ खून के छींटे बिखरे हुए थे। दुल्हन का रो-रोकर बुरा हाल था। आखिर बराती बिना दुल्हन बैरंग लौट गए।

एक फैक्टरी में काम करता है आरोपित 

विकास मूल से सीतामढ़ी (बिहार) के सिमयानी थाना सनबरसा का रहने वाला था और यहां अंबाला शहर में किराये के मकान रहता था। उसकी पत्नी सविता ने बताया कि संजय यहां एक फैक्टरी में काम करता है।

बाद हमने मौके से साक्ष्य जुटाए। मृतक की छाती पर चा’कू से वार किया गया था इसीलिए उसकी मौत हुई, जबकि दो अन्य व्यक्तियों को चा’कू लगे। लेकिन वह बच गए।
-डॉ. जीआर जैन, सीन आफ क्राइम विशेषज्ञ। 

मामले में जांच चल रही है। पुलिस ने मृतक की पत्नी की शिकायत पर केस दर्ज कर लिया है। जल्द ही आरोपी संजय को गिरफ्तार किया जायेगा।
-सुल्तान सिंह, 5 नंबर चौकी इंचार्ज

 

Continue Reading

राज्य

सामने आई चौंकाने वाली है वजह, भाभी की ह’त्या करने के बाद देवर ने किया सु’साईड

Published

on

By

हरियाणा के जिले सोनीपत में गांव ककरोई का रहने वाला एक शख्स अपने गंदे इरादों के कारण अपनी भाभी का ही कातिल बन गया और भाभी को मौत के घाट उतार दिया,

वहीं वा’रदात को अंजाम देने के बाद आरोपी खुद भी ट्रेन के आगे आत्मह’त्या कर ली, जिसका रेलवे ट्रैक से बरामद किया गया है। मिली जानकारी क मुताबिक यहां एक युवक सोनू रिश्ते में उसकी भाभी लगने वाली महिला के साथ अवैध सम्बंध बनाना चाहता था, लेकिन महिला के विरोध करने पर सोनू ने उसकी ते’जधार ह’थियार से ह’त्या कर दी है। बताया जा रहा है कि गांव के खेतों के खुंभी फार्म में ह’त्या की गई है।

PunjabKesari, murder for illegal relationships

वहीं पुलिस इस मामले में जांच कर ही रही थी कि पुलिस को सूचना मिली कि सोनीपत गन्नौर रेलवे स्टेशन पर एक शख्स का शव मिला है। जिसकी पहचान करने पर उक्त महिला का ह’त्यारा युवक सोनू के रूप में हुई, जिसने डीआरएम गाड़ी के सामने कूदकर आत्मह’त्या कर ली। इस घट’ना से कुछ देर पहले ही सोनू ने अपनी भाभी सोनिया की गला रेतकर ह’त्या की थी, जिसका कारण था कि सोनू सोनिया से अवैध सम्बंध बनाना चाहता था। सोनिया की ह’त्या करने के बाद सोनू को आत्मग्लानि हुई, जिसके कारण वह मनोविकृति का शिकार हो गया और आत्मह’त्या कर ली।

PunjabKesari, haryana police

वहीं मृतका सोनिया के पति राजबीर ने बताया कि सोनू ने पहले सोनिया को चा’कू से मारा और फिर मुझे भी चा’कू दिखाया। चिल्लाने की आवाज आई तो मैंने देखा कि मेरी पत्नी मृत पड़ी थी, अभी ये नहीं पता की क्यों सोनिया को मारा है? फिलहाल, पुलिस ने दोनों मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए सामान्य अस्पताल में भिजवा दिया है और मामले की गहनता से जांच कर रही है।

Continue Reading

पानीपत

पानीपत के व्यापारियों में आईटी छापों से बढ़ा खौंफ़, कारोबारियों की बढ़ी धड़कने

Published

on

By

आपने अजय देवगन की रेड मूवी देखी होगी। जिसमें घर के कोने-कोने में बेनामी संपत्ति छिपी थी। रुपये, सोने और न जाने तमाम फाइलें हाथ लगी थीं। कुछ ऐसा ही देखने को मिला पानीपत में। जहां पर करोड़ों की आय छिपा रखी थी। इनकम टैक्स की टीम ने सर्वे में इस तरह से इसका पर्दाफाश किया।

पानीपत में रग्ज क्रियेसनस और बिरमी स्पीनिंग मिल में आयकर विभाग का सर्वे करीब 24 घटे तक चला। इस सर्वे में करीब साढ़े तीन करोड़ रुपये की टैक्स चोरी सामने आई। आयकर विभाग की दो सर्वे टीम ने छापेमारी की। छापे से व्यापारियों में हड़कंप मच गया। इससे व्यापारियों में दहशत है।

demo pic

दो मिल में चला सर्वे

इनकम टैक्स ने शुक्रवार दोपहर को खोतपुरा रोड स्थित बिरमी स्पिनिंग मिल सहित अलुपुर रोड कोहंड के पास रग्ज क्रियेसनस के प्रतिष्ठानों पर सर्वे की कार्रवाई शुरू की। दोपहर दो बजे चला सर्वे रात भर चला। इस दौरान आयकर विभाग के अधिकारियों ने दोनों फर्मों का रिकॉर्ड जांचा। संयुक्त आयकर आयुक्त अनीता मीणा के नेतृत्व में पानीपत आयकर विभाग के सभी अधिकारी सर्वे में लगे रहे। अनीता मीणा ने बताया कि अभी तक करीब 3 करोड़ 19 लाख रुपये की टैक्स चोरी पकड़ी गई है।

रात भर रिकॉर्ड की जांच हुई

गौरव चुघ के रग्ज क्रियेशन के नाम से सेक्टर 29, अलूपुरा रोड पर तीन यूनिट लगे हुए हैं। इन तीनों यूनिटों सहित ईश्वर बंसल की बिरमी स्पिनिंग मिल आयकर चोरी होने की सूचना के आधार पर यह सर्वे किया जा रहा है। फिलहाल सर्वे में क्या कुछ मिला इसकी जानकारी देने से अधिकारियों ने इन्कार कर दिया। अधिकारियों ने बताया कि अभी कंप्यूटर के प्रिंट आदि लिए गए हैं। रात भर इनके रिकार्ड की जांच हुई है।

अलग-अलग प्रतिष्ठानों पर तैनात थे अलग-अलग अधिकारी

दोपहर दो बजे अचानक इन औद्योगिक प्रतिष्ठानों में आयकर की टीमें पहुंची। सबसे पहले उद्यमियों को मोबाइल लैपटॉप, सहित कंप्यूटर टीम में शामिल अधिकारियों ने कब्जे में ले लिए थे। उद्योगों से बाहर जाने आने वाले पर रोक लगा दी गई थी। अलग-अलग प्रतिष्ठानों में अलग-अलग आयकर अधिकारियों को तैनात किया गया था। आयकर विभाग के सर्वे की दिन भर बाजार में चर्चा रही। यार्न मार्केट में व्यापारी एक दूसरे सर्वे की जानकारी लेते रहे। जीएसटी फर्जीवाड़े से अभी तक बाजार उभर नहीं पाए हैं। अब आयकर विभाग के सक्रिय होने पर व्यापारियों की चिंता और अधिक बढ़ गई है।

Continue Reading

Trending