Connect with us

पानीपत

पानीपत के व्यापारियों में आईटी छापों से बढ़ा खौंफ़, कारोबारियों की बढ़ी धड़कने

Spread the love

Spread the love आपने अजय देवगन की रेड मूवी देखी होगी। जिसमें घर के कोने-कोने में बेनामी संपत्ति छिपी थी। रुपये, सोने और न जाने तमाम फाइलें हाथ लगी थीं। कुछ ऐसा ही देखने को मिला पानीपत में। जहां पर करोड़ों की आय छिपा रखी थी। इनकम टैक्स की टीम ने सर्वे में इस तरह से इसका […]

Published

on

Spread the love

आपने अजय देवगन की रेड मूवी देखी होगी। जिसमें घर के कोने-कोने में बेनामी संपत्ति छिपी थी। रुपये, सोने और न जाने तमाम फाइलें हाथ लगी थीं। कुछ ऐसा ही देखने को मिला पानीपत में। जहां पर करोड़ों की आय छिपा रखी थी। इनकम टैक्स की टीम ने सर्वे में इस तरह से इसका पर्दाफाश किया।

पानीपत में रग्ज क्रियेसनस और बिरमी स्पीनिंग मिल में आयकर विभाग का सर्वे करीब 24 घटे तक चला। इस सर्वे में करीब साढ़े तीन करोड़ रुपये की टैक्स चोरी सामने आई। आयकर विभाग की दो सर्वे टीम ने छापेमारी की। छापे से व्यापारियों में हड़कंप मच गया। इससे व्यापारियों में दहशत है।

demo pic

दो मिल में चला सर्वे

इनकम टैक्स ने शुक्रवार दोपहर को खोतपुरा रोड स्थित बिरमी स्पिनिंग मिल सहित अलुपुर रोड कोहंड के पास रग्ज क्रियेसनस के प्रतिष्ठानों पर सर्वे की कार्रवाई शुरू की। दोपहर दो बजे चला सर्वे रात भर चला। इस दौरान आयकर विभाग के अधिकारियों ने दोनों फर्मों का रिकॉर्ड जांचा। संयुक्त आयकर आयुक्त अनीता मीणा के नेतृत्व में पानीपत आयकर विभाग के सभी अधिकारी सर्वे में लगे रहे। अनीता मीणा ने बताया कि अभी तक करीब 3 करोड़ 19 लाख रुपये की टैक्स चोरी पकड़ी गई है।

रात भर रिकॉर्ड की जांच हुई

गौरव चुघ के रग्ज क्रियेशन के नाम से सेक्टर 29, अलूपुरा रोड पर तीन यूनिट लगे हुए हैं। इन तीनों यूनिटों सहित ईश्वर बंसल की बिरमी स्पिनिंग मिल आयकर चोरी होने की सूचना के आधार पर यह सर्वे किया जा रहा है। फिलहाल सर्वे में क्या कुछ मिला इसकी जानकारी देने से अधिकारियों ने इन्कार कर दिया। अधिकारियों ने बताया कि अभी कंप्यूटर के प्रिंट आदि लिए गए हैं। रात भर इनके रिकार्ड की जांच हुई है।

अलग-अलग प्रतिष्ठानों पर तैनात थे अलग-अलग अधिकारी

दोपहर दो बजे अचानक इन औद्योगिक प्रतिष्ठानों में आयकर की टीमें पहुंची। सबसे पहले उद्यमियों को मोबाइल लैपटॉप, सहित कंप्यूटर टीम में शामिल अधिकारियों ने कब्जे में ले लिए थे। उद्योगों से बाहर जाने आने वाले पर रोक लगा दी गई थी। अलग-अलग प्रतिष्ठानों में अलग-अलग आयकर अधिकारियों को तैनात किया गया था। आयकर विभाग के सर्वे की दिन भर बाजार में चर्चा रही। यार्न मार्केट में व्यापारी एक दूसरे सर्वे की जानकारी लेते रहे। जीएसटी फर्जीवाड़े से अभी तक बाजार उभर नहीं पाए हैं। अब आयकर विभाग के सक्रिय होने पर व्यापारियों की चिंता और अधिक बढ़ गई है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *