Connect with us

Cities

पानीपत के सभी 26 पार्षद, मेयर के पापा के विरोध में.. सरदार भुपेंद्र पर लगे इल्ज़ाम

Published

on

शहर के सभी 26 पार्षदों ने पूर्व मेयर भूपेंद्र सिंह के बहाने मेयर अवनीत कौर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। पार्षदों ने कहा कि कमीशन के लिए ही पूर्व मेयर भूपेंद्र सिंह ड्रामा करते हैं। पार्षदों ने आरोप लगाया कि शहर से कूड़ा उठाने वाली कंपनी जेबीएम के साथ पूर्व मेयर की सांठगांठ है।

इसलिए, पहले तो ड्रामा करके जेबीएम वालों पर दबाव बनाया। जब कमीशन सेट हो गया तो चुप हो गए। पार्षदों ने दावा किया है कि उन लोगों के पास जेबीएम और पूर्व मेयर भूपेंद्र सिंह के बीच मिलीभगत के पूरे कागजी सबूत हैं। साथ में ही रिकॉर्डिंग होने का दावा भी किया।
पार्षदों ने कहा कि पूर्व पार्षद हरीश शर्मा की अगुवाई में वे लोग मुख्यमंत्री मनोहरलाल के साथ ही शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज से मिलेंगे। उन्हें शहर में चल रहे खेल की हकीकत बताएंगे और सबूत भी देंगे।


5 मुद्दों पर पूर्व मेयर को घेरा, जेबीएम की ट्रॉली पकड़ी, न एफआईआर हुई, न जुर्माना
1) मेयर का चुनाव होने के कुछ माह बाद ही जेबीएम को कूड़ा की जगह ट्रॉली में बजरी-ईंट भरते पकड़ा गया। न एफआईआर हुई न जुर्माना लगा। सीएम ने गुड़गांव में सफाई कंपनी पर 22 लाख का जुर्माना लगा दिया। यहां मेयर एक लाख का जुर्माना लगाने के लिए सरकार को लिख रही हैं।

2) मेयर ने स्कूटी से शहर का दौरा करके सफाई का बजट बढ़ा दिया। पहले 3.25 करोड़ खर्च होता था। आज सफाई पर हर माह 5 करोड़ खर्च हो रहा।

3) वादा किया था कि बाजार खुलने से पहले और रात को बाजारों की सफाई होगी। लेकिन आज भी जेबीएम वालों की ट्रॉली दोपहर को बाजार में घूमती है। पूर्व मेयर चुप हैं, कोई कार्रवाई नहीं हो रही।

मीटिंग के बाद मीडिया को बताया
सभी 26 पार्षदों ने मॉडल टाउन स्थित मुल्तान भवन में शाम 6 बजे बैठक की। इसके बाद मीडियाकर्मियों को सूचना दी।
बैठक में वार्ड-25 से दुष्यंत भट्‌ट,
वार्ड-20 से लोकेश नांगरू,
वार्ड-21 से संजीव दहिया,
वार्ड-7 से अशोक कटारिया,
वार्ड-10 से रविंद्र भाटिया,
वार्ड-3 से पार्षद के पिता व पूर्व पार्षद हरीश शर्मा,
वार्ड-14 से शकुंतला गर्ग,
वार्ड-2 से पवन कुमार,
वार्ड-4 से रविंद्र नागपाल,
वार्ड-5 से अनिल बजाज,
वार्ड-6 से रविंद्र,
वार्ड-13 से शिवकुमार शर्मा,
वार्ड-12 से सतीश सैनी,
वार्ड-16 से अतर सिंह रावल,
वार्ड-18 से बलराम मकौल,
वार्ड-23 से अश्वनी कुमार,
वार्ड-26 से विजय जैन,
वार्ड-1 से पार्षद पति सुरेंद्र पुरुथी,
वार्ड-8 से विजय सगहल,
वार्ड-9 से पूर्व पार्षद अशोक नारंग,
वार्ड-11 से दिनेश सैनी,
वार्ड-15 से अशोक छाबड़ा,
वार्ड-17 से पार्षद पति जसमेर शर्मा,
वार्ड-19 से राजेंद्र,
वार्ड-22 से योगेश डावर और
वार्ड-24 से राजपाल उपस्थित रहे।

 


सभी मुद्दों पर भूपेंद्र का जवाब
{कमीशन के लिए जेबीएम से सांठगांठ पर: काेई कमीशन नहीं लेता, आज भी भ्रष्टाचार के खिलाफ हूं। आरोप लगाने वाले पार्षद ही कमीशन के बगैर काम नहीं करते।

{सफाई का बजट बढ़ाने पर: जेबीएम को 2 साल पहले जो रेट मिलता था, आज भी वहीं है। कर्मचारी बढ़ाने पर निगम खर्च कर रहा है। इसमें मेयर का रोल नहीं है।

{बाजारों में समय पर ट्रॉली नहीं पहुंचती पर: सारे काम सिर्फ मेयर के नहीं हैं। पार्षद क्या कर रहे हैं। वे क्यों नहीं हंगामा करते।

{सुपरवाइजर नहीं बढ़ने पर: 90 फीसदी सफाई व्यवस्था सुधरी है। क्या पार्षदों की ड्यूटी नहीं है। वह भी तो मुद्दा उठा सकते हैं।

{एफआईआर व जुर्माना नहीं लगने पर: हमने जेबीएम को पकड़ा। एफआईआर व जुर्माना के लिए कमिश्नर को लिख दिया। मेयर एफआईआर और जुर्माना नहीं लगा सकती।

3) वादा किया था कि बाजार खुलने से पहले और रात को बाजारों की सफाई होगी। लेकिन आज भी जेबीएम वालों की ट्रॉली दोपहर को बाजार में घूमती है। पूर्व मेयर चुप हैं, कोई कार्रवाई नहीं हो रही।

4) जेबीएम के पास सिर्फ 4 सुपरवाइजर हैं। कहा गया कि सुपरवाइजर बढ़ाए जाएंगे, लेकिन नहीं हुआ। इसलिए सफाई व्यवस्था चरमराई हुई है। पूर्व मेयर अब बाेलते तक नहीं।

5) भ्रष्टाचार के जितने भी मुद्दे उठे, आज तक क्या कार्रवाई हुई है। सिर्फ अफसरों और कर्मचारियों पर दबाव बनाने के लिए पूर्व मेयर मुद्दे उठाते हैं। सिर्फ ड्रामेबाजी करते हैं।

पार्षद खुद लेते हैं पैसा, बदनाम मुझे कर रहे हैं
सरदार का पलटवार

पार्षदों का दावा
सांठगांठ के कागजी सबूत के साथ-साथ हमारे पास रिकॉर्डिंग भी है
मुल्तान भवन में सभी भाजपा पार्षद पूर्व मेयर के बहाने अपनी पार्टी की मेयर के खिलाफ जुटे।