Connect with us

पानीपत

पानीपत को दहला देने वाले दो सड़क हादसों के बाद मारुति सुज़ुकी की गाड़ियों की सुरक्षा तैयारी पर उठते सवाल…

Published

on

तेज रफ्तार लगातार कहर बरपा रही है। आज से ठीक 1 महीने पहले भी ऐसा ही बड़ा हादसा हुआ था जिसमे में पानीपत के 3 बच्चो को अपनी जान देनी पड़ी। इस हादसे में अंकुश, कपिल व नवीन के सिर में गंभीर चोटें लगी और उनकी मौके पर मौत हो गई। जबकि मोहित गंभीर रूप से घायल हो गया था।

कोहंड सड़क हादसा

Image result for suzuki swift

वही दूसरी और फिर से एक और हादसा हुआ जिसमे सेक्टर-25 स्थित गार्गी वूलन मिल मालिक सुनील कुमार (38) की तेज रफ्तार कार दुर्घटनाग्रस्त होने से मौत हो गई। गाड़ी की स्पीड इतनी थी कि दूसरी लेन से आ रही पिकअप और एक कैंटर से टकराकर लोहे के ग्रिल से जा टकराई।

एलिवेटेड हाईवे पर रोड़ धर्मशाला के सामने 

हादसा इतना भयानक था कि कार का स्टेयरिंग धंसने से सुनील की छाती की हड्डियां टूट गईं। वहीं ओवरब्रिज पर दोनों ओर 20 मिनट तक जाम लग गया। शनिवार को शव का पोस्टमार्टम किया जाएगा।

ऐसे हादसों के बाद कार की सुरक्षा पर सवाल उठता है, और क्या मारुति की स्विफ्ट व स्विफ्ट डिज़ाइअर गाड़ियाँ वाक़ई में इतनी असुरक्षित हैं?

Image result for मारुति की स्विफ्ट

आईये आज हम आपको बताते है कुछ स्विफ्ट गाड़ी के सेफ्टी के बारे में

क्रैश टेस्ट में फेल हुई देश की सबसे ज्यादा बिकने वाली हैचबैक मारुति स्विफ्ट

दिल्ली में ग्लोबल NCAP के द्वारा हुए क्रैश टेस्ट में देश की सबसे ज्यादा बिकने वाली मारुति सुजुकी स्विफ्ट ने सभी को निराश किया है क्योंकि इस कार को क्रैश टेस्ट में 5 में से सिर्फ 2 स्टार रेटिंग ही मिली।

ग्लोबल NCAP द्वारा यह टेस्ट गाड़ियों की सेफ्टी को परखने के लिए किया जाता है। इस टेस्ट में यह सुनिश्चित किया जाता है कि एडल्ट और चाइल्ड प्रोटेक्शन के लिहाज से गाड़ी कितनी सेफ है। इसके लिए कार को कुल 5 स्टार में से रेटिंग दी जाती है। यह देश की सबसे विश्वसनीय टेस्ट है।

maruti suzuki swift failed in ncap crash test get only 2 star

आइए जानते हैं किन कारणों से मारुति सुजुकी स्विफ्ट क्रैश टेस्ट में हुई फेल…

NCAP ने अपने स्टेटमेंट में कहा कि स्विफ्ट के अनस्टेबल स्ट्रक्चर, कमजोर सुरक्षा प्रणाली और एक्सीडेंट के वक्त सबसे ज्यादा कम्प्रेशन ड्राइवर के चेस्ट पर हो रही है साथ ही ड्राइवर साइड में पैरों के लिए भी पर्याप्त सुरक्षा नहीं दी गई। यहीं सबसे बड़ा कारण है जिसकी वजह से स्विफ्ट को 5 में से सिर्फ 2 स्टार ही मिले।

इस क्रैश टेस्ट को मारुति स्विफ्ट के सबसे लेटेस्ट वर्जन पर किया गया जो स्टैंडर्ड डबल एयरबैग्स और ISOFIX एंकर से लैस थी। इस कार में 4 चैनल ABS सिस्टम का न होना भी इसकी 2 स्टार रेटिंग की दूसरी सबसे बड़ी वजह है।

कार के चाइल्ड प्रोटेक्शन की बात करें तो कार की पिछली सीट पर 18 माह के बच्चे का डमी रखा गया जिसको क्रैश टेस्ट में काफी चोट लगी जिससे यह पता चलता है कि कार बच्चों की सेफ्टी के लिहाज से सुरक्षित नहीं है।

ग्लोबल NCAP के सेकेट्ररी जनरल डेविड वार्ड ने कहा कि भारत सरकार के नए क्रैश टेस्ट रेशुलेशन के लागू होने के बाद भारत में बिकने वाली कारों को काफी अपटेड किया जा रहा है। अब भारत में बिकने वाली स्विफ्ट का लेटेस्ट वर्जन ड्युअल एयरबैग्स से लैस है।

उन्होंने आगे कहा कि जापान और यूरोप में बिकने वाली स्विफ्ट सुरक्षा के लिहाज से काफी बेहतर है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − 9 =

You're currently offline