Connect with us

Cities

पानीपत-दिल्ली रैपिड मेट्रो जुड़ेगी दिल्ली की Red-Yellow-Violet लाइन से.. | Panipat Live Exclusive

Published

on

पानीपत-दिल्ली कॉरिडोर की खास बात यह होगी कि यह दिल्ली मेट्रो के लाल, पीली और जामुनी लाइन के स्टेशनों से जुड़ेगा। रैपिड रेल कॉरिडोर में शामिल कश्मीरी गेट, इंद्रप्रस्थ दिल्ली मेट्रो रेल लाइन से जुड़े हैं। पानीपत से दिल्ली जाने वाले लोगों को कश्मीरी गेट मेट्रो स्टेशन उतरकर सीधे लाल, पीली और जामुनी लाइन पकडऩे में आसानी रहेगी।

पांच स्टेशन पानीपत में 

पानीपत-दिल्ली रैपिड रेल कॉरिडोर में कुल 16 स्टेशन बनाए जाएंगे। इनमें से पांच स्टेशन भैंसवाल डिपो, पानीपत टोल प्लाजा, पानीपत बस स्टैंड, सिवाह और समालखा शामिल होंगे। जीटी रोड स्थित मलिक पेट्रोल पंप से लेकर पीवीआर सिनेमा बरसत रोड तक ट्रेन को टनल से गुजारा जाएगा। ट्रेन को भैंसवाल के पास बने आखिरी स्टेशन पर खड़ा किया जाएगा।

Delhi-Panipat-hindi-map

खराब मौसम में नहीं थमेगी पहिए की रफ्तार

एयरोडायनेमिक इस रैपिड रेल के संचालन में मौसम बाधक नहीं बनेगा। आंधी, बारिश और कोहरे में भी रेल अपनी निर्धारित रफ्तार में दौड़ती नजर आएगी। वहीं, रैपिड रेल में स्मार्ट कोच में कई तरह के सेंसर भी लगे होंगे। उससे ब्रेक घिसने की जानकारी, एक्सेल का तापमान, पहियों की स्थित कोच के जरिए नियमित रूप से रैपिड रेल कंट्रोल रूम को मिलती रहेगी। कोच में सीसीटीवी कैमरे भी लगे होंगे।

पिछले साल जून में नई दिल्ली में हुई एनसीआर प्लानिंग बोर्ड की 36वीं बैठक में प्रोजेक्ट का रास्ता साफ हो गया। बैठक में शहरी विकास एवं संसदीय मामलों के तत्कालीन केन्द्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने सीएम मनोहर लाल से इस बारे में चर्चा की और काम जल्द शुरू करने के निर्देश दिए गए। इस प्रोजेक्ट के निर्माण में नई जमीन खरीदना बड़ी चुनौती थी। ऐसे में इसका हल निकालते हुए अब हाईवे के साथ पूर्व की साइड में एलिवेटेड रैपिड रेल कॉरीडोर बनाना तय किया गया है।

इतनी लागत

सांकेतिक तस्वीर

 

यह कॉरिडोर एनसीआर से जुड़े 72 हजार करोड़ रुपए के आरआरटीएस का एक हिस्सा है। दिल्ली-पानीपत के अलावा दिल्ली-अलवर (180 किमी) और दिल्ली- मेरठ (90 किमी) रैपिड ट्रेन प्रोजेक्ट भी इसमें शामिल है।

विकास मंत्रालय एनसीआरपीबी को 2814 करोड़ रुपए, दिल्ली सरकार को 684 करोड़ और हरियाणा सरकार को 2129 करोड़ रुपए देने होंगे। 7502 करोड़ लोन, 5627 करोड़ पीपीपी से जुटाए जाएंगे। दिल्ली से पानीपत तक इस पर अनुमानित 130 करोड़ प्रति किलोमीटर खर्च आएगा।

125 एकड़ में बनेगा भैंसवाल डिपो

रैपिड ट्रेन के कोच 22 मीटर लंबे होंगे। रेल से उलट इसमें लगेज स्पेस भी होगा। जिला नगर योजनाकार अधिकारी अरविंद्र ढुल ने बताया नए प्लान के तहत हाईवे के साथ पुल पर ट्रेन चलेगी। हर स्टेशन करीब 5 एकड़ में होगा।

भैंसवाल के पास 125 एकड़ जमीन में डिपो बनाया जाएगा। यहां पंचायती जमीन को लिया जाएगा। पानीपत में हरिद्वार बाइपास की ओर हाईवे के साथ ड्रेन-1 की सिंचाई विभाग की जमीन है। इसके ऊपर स्टेशन बनेगा। सचिवालय के पास स्काईलार्क, सर्कस मैदान पीडब्ल्यूडी कार्यालय की जमीन को मिलाकर स्टेशन बनना तय किया है।