Connect with us

पानीपत

पानीपत में करोड़ों का घपला नहीं रोक पा रहीं मेयर क्यूँकि ‘सब मिले हुए हैं जीं’

Published

on

सेक्टर-25 में करोड़ों की लागत की मुख्य सड़क पर ठेकेदार की मनमानी जारी है। निगम ने टेंडर नई सड़क बनाने का जारी किया था, लेकिन ठेकेदार गड्ढों में पत्थर भरकर खानापूर्ति करने में जुटा है। वहीं, कमी पकड़े जाने के बावजूद अधिकारी ठेकेदार के पक्ष में खड़े हैं और काम को सही बता रहे हैं। दूसरी ओर, मेयर ने इसे नगर निगम की इंजीनियरिग विग की नाकामी बताया है।

सेक्टर-25 में खादी आश्रम सड़क की पड़ताल की। सेक्टर-29 बाईपास रोड पर मजदूर मिट्टी को झाडू से साफ कर रहे थे। हालांकि, यह मिट्टी हटाने का दिखावा ज्यादा नजर आ रहा था। इससे कुछ आगे जेसीबी के साथ कुछ मजदूर पत्थरों पर डस्ट डाल रहे थे अैार साथ ही रोड रोलर चलाया जा रहा था। उद्यमी बोले- यह नजरों का धोखा है

Related image

सेक्टर-25-टू माइक्रो इंडस्ट्री वेल्फेयर एसोसिएशन के प्रधान महाबीर छिल्लर ने बताया कि सड़क बनाने के नाम पर केवल नजरों का धोखा है। ठेकेदार और नगर निगम अधिकारियों की मिलीभगत से सड़क निर्माण के नाम पर पैसों की बर्बादी की जा रही है। इससे पहले भी इसी सड़क को बनाया गया था, लेकिन अपनी उम्र भी पूरी नहीं कर सकी। 1.17 करोड़ लागत आएगी

करोड़ों की सड़क पर ठेकेदार की मनमर्जी, मेयर बोलीं- इंजीनियरिग विग की गलती

सेक्टर-25 की मुख्य सड़क जीटी रोड खादी आश्रम के सामने तक बनाई जा रही है। नगर निगम ने 1.17 करोड़ का टेंडर नई सड़क बनाने का लगाया था। वहीं 2.67 करोड़ की लागत से थाना चांदनी बाग से जीटी रोड एनएफएल तक की सड़क बनाई जानी है। इस सड़क पर भी गहरे गड्ढे हैं। तकनीकी जानकारों की मानें तो सड़क की मरम्मत करने से पहले मिट्टी की सफाई जरूरी है। इसके बाद गुणवत्तापूर्ण मटीरियल लगाने का नियम है। मैं खुद जांच करूंगी: मेयर

सेक्टर-25 में सड़क का हिसाब समझ से परे है। ठेकेदार टेंडर की शर्तानुसार काम करने की सफाई दे रहा है, जबकि नियमानुसार ऐसा नहीं होना चाहिए। यह सब इंजीनियरिग विग की कमजोरी के चलते हो रहा है। अधिकारी कार्यालय में बैठकर ही टेंडर जारी कर देते हैं, जबकि इससे पहले मौका मुआयना करना चाहिए। एक-एक फुट गहरे गड्ढों को पत्थर डालकर भर दिया गया। इसको पूरी तरह से उखाड़कर दोबारा बनाना चाहिए था। मैं सड़क के मटीरियल की भी खुद जांच करूंगी।

Source Jagran

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × one =

You're currently offline