Connect with us

पानीपत

पानीपत में फेक्टरियों में आगज़नी होने पर दमकल विभाग की नाकामी पर प्रशासन लापरवाह

Published

on

मॉडल टाउन इंडस्ट्रियल एरिया में मंगलवार को जिदल फैब्रिक यार्न फैक्ट्री में अचानक आग लग गई। चौकीदार ने आग की सूचना फैक्ट्री मालिक को दी। दमकलकर्मियों को सूचित किया। आग की लपटें इतनी तेज हो गई कि आसपास के इलाकों में धुआं ही धुआं भर गया। शाम 7:30 बजे तक 12 घंटे के बाद भी आग पर काबू नहीं पाया जा सका। कंडम गाड़ियों से दमकलकर्मियों को आग पर काबू पाने में परेशानी हुई।

फैक्ट्री बंद होने से जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है। सूचना के बाद दमकल विभाग की 10 गाड़ियों ने 30 से अधिक चक्कर लगाए। एनएफएल और थर्मल पावर प्लांट से दो फोम टेंडर गाड़ियां मंगाई गई। जगह की कमी से पानी की बौछार मारने में दमकलकर्मियों को परेशानी हुई। बीते 21 मार्च को आनंद इंटरनेशनल फैक्ट्री में इसी तरह आग लगी थी। पूरी फैक्ट्री जलकर राख हो गई थी। शॉर्ट सर्किट से लगी आग

आग लगने का कारण शॉर्ट सर्किट बताया जा रहा है। दमकल विभाग की गाड़ियां 200 से 500 मीटर की दूरी पर स्थित फैक्ट्री मालिक मानचंद जिदल की अन्य फैक्ट्रियों से रिफिल की गई, लेकिन देर शाम तक मामूली चिगारी से भड़की इस आग पर काबू नहीं पाया जा सका। दीवारें गिरी, पिछले लेंटर में दरार

जिदल फैब्रिक यॉर्न में लगी आग, 12 घंटे बाद भी दमकलकर्मियों ने नहीं पाया काबू

आग की तपिश के कारण फैक्ट्री के अगले हिस्से में बनी दीवार भरभरा कर गिर गई। फैक्ट्री की इमारत का पिछले हिस्से का लेंटर भी चटक गया। 90 हजार लीटर से अधिक पानी की हुई खपत

आग पर काबू पाने के लिए दो हजार लीटर से लेकर आठ हजार लीटर तक की गाड़ियों ने पानी की बौछार मारी। दिनभर में लगभग 90 हजार लीटर से अधिक पानी की खपत का अनुमान लगाया जा रहा है। गाड़ियां पास स्थित फैक्ट्रियों के हजारों लीटर के वॉटर टैंक दोपहर 3 बजे तक खाली कर चुकी थीं। ..शुक्र है कि कर्मचारी हड़ताल पर थे

वेतन बढ़ाने की मांग को लेकर फैक्ट्री के मजदूर लगभग 15 दिनों से हड़ताल पर हैं। लोगों का कहना है कि शुक्र है मजदूर हड़ताल पर हैं और फैक्ट्री बंद है। एक बड़ा हादसा होने से टल गया। तीन ओर से बंद इस फैक्ट्री में आग लगने की स्थिति में श्रमिकों के पास मुख्य गेट से निकलने के अलावा कोई रास्ता भी नहीं था। हादसे में कई श्रमिकों की जान जा सकती थी। विभाग की 6 गाड़ियां कंडम होने के कगार पर

नगर निगम के दमकल विभाग के पास कुल 10 गाड़ियां हैं। छह गाड़ियां इस माह ही कंडम हो जाएंगी। सीएम घोषणा में शामिल 7 नई गाड़ियों में से एक भी नहीं मिली है। फैक्ट्री मालिकों को इसका नुकसान उठाना पड़ता है।

विभाग की दस गाड़ियां और एनएफएल, थर्मल पॉवर प्लांट की चार गाड़ियों सहित कुल 14 गाड़ियां मौके पर भेजी गई हैं। स्थिति पर लगभग काबू पा लिया गया है। रामदत्त भारद्वाज, फायर ऑफिसर पानीपत

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *