Connect with us

पानीपत

पानीपत में लगातार बच्चों का अप हरण होने की ख़बरें आने से माता पिता परेशान

Published

on

जाटल रोड सौंधापुर में शनि मंदिर के पास नानी के कमरे से अपने घर के लिए निकला 10 साल के बच्चे का ब दमाशाें ने अ पहरण कर लिया। तीन दिन में बच्चे का काेई सुराग नहीं लग पाया है। नानी के घर के पास एक दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे में बच्चे अकेला जाते हुए दिखाई दे रहा है। पिता ने रविवार देर रात असंध राेड चाैकी में जाकर पुलिस काे शिकायत दी है। अप हरण का केस दर्ज करके पुलिस बच्चे की तलाश में जुटी हुई है, लेकिन उसका काेई सुराग नहीं लग पा रहा है।

यूपी के बिजनाैर जिले के गांव पीपली जट निवासी जिसान पुत्र उस्मान करीब 14 साल से पानीपत में रह रहा है। वर्तमान में वह परिवार के साथ जाटल राेड साईं राम काॅलाेनी में रहता है। जिसान व उसकी प|ी अफसाना फैक्ट्री में मशीन चलाते हैं। जिसान ने बताया कि सबसे बड़ा बेटा 10 वर्षीय रिहान 13 अप्रैल सुबह मां से नानी शायरा के घर जाने की बात कहकर घर से निकला था। पैदल वह नानी के घर गया। नानी काम पर गई थी। मामी रुख्सार ने उसकाे खाना खिलाया। 10:25 बजे वह घर के लिए निकला था, लेकिन घर पर नहीं पहुंचा।

रात काे घर नहीं अाया तब तलाश शुरू की 

पिता ने बताया कि बेटा देर रात तक घर पर नहीं अाया ताे उनकाे चिंता हाेने लगी। नानी के घर गए ताे पता चला कि रिहान सुबह ही निकल गया था। इसके बाद परिजन उसकी तलाश में जुट गए। अासपास के एरिया व रिश्तेदारियाें में उसकी तलाश की, लेकिन काेई पता नहीं चल पाया। 14 अप्रैल काे भी परिजन रिहान में तलाश में जुटे रहे, जब नहीं मिला ताे देर रात काे वे पुलिस के पास गए।

Tharmal News - haryana news ninehal kidnapping 10 year old child for house 3 days still not clue

चार महीने पहले ही बदला था कमरा

जिसान के 3 बच्चे हैं। रिहान सबसे बड़ा है। उससे छाेटी 5 साल की बेटी सेफा अाैर 4 साल का बेटा अायान है। पिता ने बताया कि वह पहले नानी के घर के पास ही रहते थे। जहां पर मकान मालिक से किराए काे लेकर कहासुनी हाे गई थी। 4 माह पहले उन्हाेंने एक किलाेमीटर दूर साईं राम काॅलाेनी में कमरा लिया था। रिहान अक्सर अकेला नानी के घर पर अाता-जाता रहता था। रिहान तीसरी कक्षा में पढ़ता है। कमरा बदलने के कारण वह तीसरी कक्षा के पेपर नहीं दे पाया था।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: बुरी नज़र वाले तेरा मुँह कला