Connect with us

यमुनानगर

बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ होने पर परिजनों ने स्कूलकर्मी की कर दी पिटाई, वीडियो वायरल

Published

on

Spread the love

यमुनानगर स्थित स्प्र्रिंग डेल्स स्कूल की लापरवाही की चलते 35 छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ होने से नाराज अभिभावकों ने स्कूल में आज जमकर हंगामा काटा। इस दौरान अभिभावकों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया और उन्होंने मिलकर स्कूल के एक कर्मचारी की जमकर धुनाई कर दी। वहीं इस घटना का वीडियो मौके पर मौजूद अन्य लोगों ने बना लिया, जो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वहीं अभिभावकों ने स्कूल कर्मचारी को पैदल चलाकर उसका जूलूस निकाल रहे हैं।

दरअसल, विष्णु नगर के स्प्रिंग डेल्स स्कूल में पढऩे वाले 35 बच्चों की सीबीएसई माध्यम से 10वीं की फाइनल परीक्षाएं चल रही हैं। लेकिन स्कूल की लापरवाही के कारण इन सभी को रोल नंबर नहीं मिला और छात्र पेपर देने से वंचित रह गए, जिससे उनके भविष्य पर तलवार लटक गई है। वहीं इसके विरोध में बच्चों ने स्कूल के बाहर जाम लगाया, धरना प्रदर्शन किया। वहीं स्कूल संचालक व प्रशासन के बीच बातचीत हुई, तो स्कूल प्रिंसिपल ने कहा फिलहाल बच्चों की परीक्षा की बात है, उनकी जो भी गलती है। इसके लिए शिक्षा विभाग जो भी सजा देगा, उन्हें मंजूर है। लेकिन आज रोल नंबर के लिए विरोध कर रहे परिजनों का गुस्सा सातवें आसमान पर चढ़ा और कर्मचारी की पिटाई पर उतरा।

spring dails school yamunanagar

परिजन देवेंद्र सिंह, नसीब सिंह, राजविंद्र कौर, ऊषा, गुरमीत कौर, गीतांजलि ने  बताया कि 40 बच्चों ने स्प्रिंग डेल्स पब्लिक स्कूल से इसी सत्र में नौवीं कक्षा पास की है। स्कूल के पास नौवीं से बारहवीं कक्षा तक की मान्यता नहीं है। वे अपने बच्चों को इस स्कूल में नहीं पढ़ाना चाहते हैं। दूसरे स्कूल में नौवीं का इनरोलमेंट नंबर और ट्रांसफर सर्टिफिकेट मांगा जा रहा है। उन्होंने स्कूल प्रेसीडेंट प्रवीण सरदाना से बात की थी। उन्होंने एनरोलमेंट नंबर और टीसी देने के लिए शनिवार सुबह 10 बजे खेड़ी रांगडांन स्थित स्कूल की दूसरी ब्रांच में बुलाया था। अब वे मना कर रहे हैं।

spring dails school yamunanagar

स्कूल में प्रेसीडेंट तो नहीं पहुंचे। वहां पर उनके छोटे भाई गिरीश सरदाना और भांजे सिद्धार्थ सरदाना आए हुए थे। परिजन उनसे पूछने लगे कि प्रेसीडेंट कब आएंगे। उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। परिजनों ने जागरण संवाददाता को बताया कि सिद्धार्थ ने उन्हें कुछ अपशब्द कहे, जिससे नाराज परिजनों ने उनकी पिटाई कर दी। इसके बाद उन्होंने गिरीश सरदाना से भी धक्का-मुक्की की। महिलाएं गिरीश सरदाना का कॉलर पकड़ कर स्प्रिंग डेल्स स्कूल वर्कशाप तक तीन किलोमीटर पैदल खींचते हुए ले गए। इसी दौरान परिजनों ने तोडफ़ोड़ भी की। इतना हंगामा होने तक कोई पुलिसकर्मी वहां नहीं पहुंचा था।

लोग स्प्रिंग डेल्स पब्लिक स्कूल में पहुंचे तो यहां सभी कमरों में ताला लगा हुआ था। एसएचओ ने उन्हें कमरे में बैठने को कहा। परंतु किसी के पास चाबी नहीं थी। इसलिए बाहर से कर्मचारी को बुलाकर कटर से ताला काटा गया। इसी दौरान वहां पर डीएसपी सुभाष चंद भी पहुंच गए और परिजनों से बातचीत की। उन्होंने गिरीश सरदाना से प्रवीण सरदाना को बुलाने को कहा। गिरीश ने फोन कर जवाब दिया कि वे एक घंटे में स्कूल में आ जाएंगे। परंतु वे स्कूल नहीं पहुंचे। बाद में डीएसपी ने परिजनों को बताया कि उनकी बात हो गई है। उन्होंने सभी को मंगलवार सुबह 11 बजे स्कूल में बुलाया। कुछ लोगों को फीस की रसीद के साथ थाना फर्कपुर में बुलाया। इसके बाद परिजन वापस लौट गए

अंधेरे में बच्चों का भविष्य, परिजनों का गुस्सा आसमान पर, मचा दी तोडफ़ोड़

स्प्रिंग डेल्स स्कूल फर्कपुर के पास हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी से आठवीं कक्षा तक की ही मान्यता है। इसके बावजूद स्कूल द्वारा फर्जी तरीके से 9वीं से 12वीं कक्षा तक की क्लास खेड़ी रांगडांन गांव स्थित स्कूल की अन्य ब्रांच में लगाई जा रही थी। स्कूल संचालकों ने विश्व भारती पब्लिक स्कूल सेक्टर 18 के साथ टाइअप किया हुआ था। विश्व भारती स्कूल के माध्यम से ही बच्चों की परीक्षा दिलवाई जानी थी। लेकिन लेन-देन में मामला बिगड़ जाने के कारण विश्व भारती ने सीबीएसई को 35 बच्चों के रोल नंबर के लिए आवेदन ही नहीं किया। जिस कारण दसवीं के 35 बच्चे अपनी परीक्षा इस साल नहीं दे पाए। अब 9वी क्लास पास कर चुके बच्चों के अभिभावकों को उनके भविष्य की चिंता भी सताने लगी है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *