Connect with us

Cities

बिजली की सभी परेशानी का समाधान करेंगे स्मार्ट मीटर

Published

on

पानीपत : गुरुग्राम, पंचकूला और करनाल के बाद शहर में स्मार्ट बिजली मीटर के लिए सर्वे शुरू हो गया है। नए स्मार्ट बिजली मीटर मोबाइल एप से संचालित होंगे। उपभोक्ता अपनी सुविधानुसार प्रीपेड और पोस्टपेड बिजली मीटर लगवा सकते हैं। स्मार्ट मीटर लगने के बाद बिजली बिलों की सभी गड़बड़ी से छुटकारा मिलेगा। उपभोक्ता मोबाइल एप के माध्यम से अपनी खपत, बकाया बिजली बिल, जमा करने की अंतिम तिथि समेत अन्य जानकारी ले सकेंगे। हर घंटे, हर दिन की खपत का होगा ब्योरा

बिजली विभाग की ओर से एक मोबाइल एप लांच किया जाएगा। इस एप के माध्यम से उपभोक्ता अपने मीटर की रीडिग और खपत का प्रत्येक घंटे और प्रतिदिन का ब्योरा ले सकते हैं। एप से प्रीपेड मीटर को रिचार्ज कर सकेंगे। बिजली संबंधी शिकायत भी एप पर दर्ज होंगी। मैनपावर व शिकायतें होंगी कम

बिजली की सभी परेशानी का समाधान करेंगे स्मार्ट मीटर

स्मार्ट मीटर लगने के बाद विभाग के कर्मचारी बिल देने घर-घर नहीं जाएंगे। प्रतिमाह का बिल एप पर जनरेट होगा। उसी के अनुसार बिल जमा करना होगा। इससे रीडिग न लेने आने और दफ्तर में बैठे बिल बनाने की शिकायतें दूर होंगी। वर्तमान में निगम में रोजाना 80 फीसद शिकायतें बिल गड़बड़ी की आती हैं। मीटर बदलने के लिए उपभोक्ता को कोई भुगतान नहीं करना है। बिजली निगम केबल बदलने के लिए लेबर उपलब्ध कराएगा। इसके अतिरिक्त मीटर और अन्य सभी खर्च केंद्र सरकार वहन करेगी। शहर में 1.25 लाख मीटर

नगर निगम सीमा में लगभग 1.25 लाख मीटर है। इनमें करीब 10 हजार मीटर स्मार्ट हैं, लेकिन ये मीटर सफल नहीं हो पाए। साधारण के साथ पूर्व में लगाए गए स्मार्ट मीटर भी बदले जाएंगे। अब आनाकानी की तो फिर खुद के खर्च से लगवाने होंगे मीटर

सिटी डिविजन के एक्सईएन संजीव शर्मा ने बताया कि स्मार्ट मीटर लगाने के लिए एल एंड टी, जीनस और भारत सरकार की ईईएसएल कंपनी सर्वे कर रही है। स्मार्ट मीटरों को घरों के बाहर लगाया जाएगा। सर्वे के दौरान कुछ उपभोक्ता मीटर को घर के बाहर लगवाने में आनाकानी कर रहे हैं। अब स्मार्ट मीटर न लगवाने वाले उपभोक्ताओं को बाद में मीटर लगवाने का पूरा खर्च उठाना होगा।