Connect with us

पानीपत

मेयर अवनीत के अपने वादे के अनुसार शुरू किया इस प्रॉब्लम पर एक्शन, बहुत से लोग है जिससे परेशान, अब होगा एक्शन

Advertisement मुबारक हो शहरवासियों!! मेयर अवनीत कौर ने शहर की सबसे बड़ी प्रॉब्लम को ठीक करने का उठाया है बेड़ा। रिहायसी कॉलोनियों में पशु डेयरी खोलने वाले लोगों के खिलाफ नगर परिषद ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है Advertisement अब देखना होगा इसके असर के लिए मेयर अवनीत कौर कहां तक डटी रहती हैं। […]

Published

on

Advertisement

मुबारक हो शहरवासियों!! मेयर अवनीत कौर ने शहर की सबसे बड़ी प्रॉब्लम को ठीक करने का उठाया है बेड़ा।

रिहायसी कॉलोनियों में पशु डेयरी खोलने वाले लोगों के खिलाफ नगर परिषद ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है

Advertisement

अब देखना होगा इसके असर के लिए मेयर अवनीत कौर कहां तक डटी रहती हैं। आम लोगों को राहत देने के लिए मेयर को डेयरी संचालकों का विरोध भी झेलना होगा। फिलहाल चेतावनी के बाद निगम अधिकारियों ने डेयरी संचालकों को नोटिस जारी कर दिया है।

Advertisement

शहर की सरकार के बाद नगर निगम डेयरियों के लिए एक्शन में आ गया है। निगम ने शहर की 30 डेयरियों को नोटिस जारी किया है। साथ ही इनके गंदगी फैलाने के चालान भी किए हैं। नगर निगम ने 220 ओर डेयरियों के चालान तैयार कर लिए हैं। अधिकारियों का दावा है कि जल्द ही इन पर कार्रवाई की जाएगी।

 

Advertisement

शहर में जहां-जहां पशु डेयरी बनी हुई हैं वहां मुख्य रूप से सीवरेज ब्लॉक ही रहते हैं। डेयरी संचालकों ने डेयरी का कनेक्शन सीधा सीवरेज में ही किया हुआ है, जिससे गोबर के कारण भारी समस्या बनी रहती है। गोबर से बंद हुए सीवरेजों को खोलने में भी काफी मशक्कत करनी पड़ी है। गोबर जमा होने से सीवरेज में जहरीली गैस बन जाती है, जिससे उनकी सफाई करना भी आसान नहीं रहता।

मेयर अवनीत कौर ने गत दिनों डेयरी संचालकों की बैठक ली थी। डेयरी संचालकों को गोबर सीधे नालियों और सीवर में डालने की बजाय टैंक बनाने के आदेश दिए थे। सभी डेयरी संचालकों ने इसका भरोसा भी दिया था, लेकिन अब तक शायद ही किसी डेयरी संचालक ने टैंक तैयार किया है।

नगर निगम ने 2002 में बिंझौल में डेयरियों के लिए 196 प्लांट आवंटित किए थे। उस वक्त सवाल उठने पर जांच के बाद 36 प्लॉट रिज्यूम कर लिए थे। बाकी प्लॉटों में से भी आधों पर ही डेयरी शिफ्ट हो पाई हैं। मेयर अवनीत कौर ने गत सप्ताह इनका दौरा किया था। नगर निगम अधिकारियों ने अपनी रिपोर्ट मेयर को सौंप दी थी।

 

नगर निगम ईओ की अगुवाई में मंगलवार को सफाई दरोगा ने शहर में डेयरियों को नोटिस देना शुरू कर दिया। चार टीमों ने शाम तक डेयरियों में मौके पर पहुंचकर स्थिति जांची। यहां पर गंदगी की भरमार मिली। अधिकारियों ने डेयरी संचालकों को 15 से 30 दिन का समय दिया है। इस दौरान उनको डेयरी शिफ्ट करनी होगी। शहर के वीआइपी क्षेत्र और इसके आसपास करीब 250 डेयरी हैं। डेयरी संचालकों की मांग है कि उनको नगर निगम रियायती रेट पर खोतपुरा या निबंरी में जमीन आवंटित करें। वे शहर से डेयरी शिफ्ट करने को तैयार हैं।

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *