Connect with us

विशेष

देश की नज़र में हरियाणा का लोक नृत्य है सपना व गोरी जैसा अश्लील डान्स..

हरियाणा की जनसंख्या लगभग ढाई करोड़ है लेकिन 250 लोगो ने हरियाणा की परिभाषा बदल दी क्योकि आजकल हरियाणा वाले तो जाति धर्म राजनीती के नाम पर लड़ने में व्यस्त है . सुनो अब अपने आप को “प्राउड टू बी हरियाणवी” कहना बंद करो हरियाणा पहले नम्बर पर आया है अबकी बार फूहड़ता में पुरे […]

Published

on

हरियाणा की जनसंख्या लगभग ढाई करोड़ है लेकिन 250 लोगो ने हरियाणा की परिभाषा बदल दी क्योकि आजकल हरियाणा वाले तो जाति धर्म राजनीती के नाम पर लड़ने में व्यस्त है . सुनो अब अपने आप को “प्राउड टू बी हरियाणवी” कहना बंद करो हरियाणा पहले नम्बर पर आया है अबकी बार फूहड़ता में पुरे देश में पिछले 2 साल में हरियाणा ने फूहड़ता में सबको पीछे छोड़ दिया है . एक बार नीचे आकड़ो और फोटो पर नजर मार लेना आँखों के सामने से बंधी पट्टी उतर जाएगी –

हरियाणवी स्टेज डांस के नाम पर अश्लील नाच –

पिछले 2 साल में हरियाणा में कम से कम छोटे बड़े 20 – 30 हजार ऐसे डांस प्रोग्राम जनता के बीच में किये गये जिनमे कला के नाम पर हरियाणा को कलंकित किया गया है . उन डांस प्रोग्रामो में UP बिहार बंगाल से स्टेज डांसर को बुला कर उनको हरियाणा की पहचान दे कर नचवाया गया है फिर उनको सोशल मीडिया के माध्यम से शेयर किया गया है . हरेक डांस विडियो के साथ “हरियाणवी डांस ” का प्रयोग किया गया है . हम यहा एक दूजे को जातिवाद के नाम पर मारने को उतारू है और वहां लोग हरियाणा का सहारा लेकर करोड़ो के न्यारे व्यारे कर हरियाणा की पहचान माट्टी में मिला रहे है .

YOUTUBE पर फूहड़ स्टेज डांस की 5 लाख से ज्यादा विडियो अपलोड –

हरियाणा एक नाम नही आज दुनिया भर में ब्रांड बन गया है लेकिन उसी ब्रांड का सहारा लेकर लोग हरियाणवी स्टेज डांस का नाम देकर हरियाणवी की पहचान ही बदल रहे है . पिछले कुछ सालो में 5 लाख से ज्यादा ऐसी विडियो YOUTUBE पर अपलोड की गई है जिनमे दबा के फूहड़ता फैलाई गई है . उन विडियो से करोड़ो रूपये कमाए गये है लेकिन इनको रोकने के लिए ना तो कोई नियम है ना कोई कानून है .

स्टेज पर पब्लिक को रिझाने के लिए की जाती है अश्लील हरकते –

ये हमारा दुर्भाग्य है की हमारे प्रदेश में इन स्टेज प्रोग्रामो को लेकर कोई कानून नही है जिसकी वजह से यह फूहड़ता दिन प्रतिदिन बढती जा रही है अब तो इन लोगो के होशले इतने बुलन्द हो गये है की स्टेज पर कपड़े उतराने को तैयार है . गंदी गंदी हरकते कर सारी मर्यादाये लांघी जा रही है . लोग अंधे और बहरे बन तमाशा देख रहे है .कुछ तस्वीरे इतनी अश्लील है की हम यहां पर सांझा भी नही कर सकते .

कहा पर हरियाणा सिनेमा के ठेकेदार –

हरियाणवी सिनेमा और हरियाणा फिल्म जगत का ठेका लेने वाले उन लोगो के कान पर भी ये देखकर जू नही र्रेंग रही जो हरियाणा फिल्म इंडस्ट्री होने के बड़े बड़े दावे करते है . हरियाणा को बॉलीवुड से आगे ले जाने की बात करते है . सब गूंगे और बहरे बने बैठे है और तमाशा देख रहे  है . कोई कमेटी कोई फिल्म इंडस्ट्री का ठेकेदार इनके खिलाफ आवाज नही उठा रहा . अगर कोई आम हरियाणवी बोलता है तो उसको धमकिया दी जाती है .

सरकार क्यों नही उठा रही कोई शख्त कदम –

“हरियाणा एक हरियाणवी एक ” मेने भी सुना है आपने भी सुना होगा लेकिन हरियाणवी पर लगे इस फुह्डता के धब्बे के बारे में कोई बात करके खुश नही है . अगर ये सब ऐसे ही चलता रहा तो वो दिन दूर नही जब यह अश्लील डांस पूर्णत नग्न डांस का रूप ले लेगा . सरकार को इस बढती हुई फूहड़ता पर रोक लगानी चाहिए और ऐसे किसी भी प्रोग्राम के लिए दिशा निर्देश जारी करने चाहिए .

किसी के प्रमाण की जरूरत नही है बस विडियो बनाओ फूहडता फैलाओ –हरियाणा में दिन प्रतिदिन तेज गति से बढ़ रही इस फूहड़ता के पीछे सबसे बड़ा कारण यह है की ऐसे विडियो की रिकॉर्डिंग और रिलीजिंग के लिए किसी प्रमाण पत्र की जरूरत नही है . इसलिए यह लोग ऐसे अश्लील डांस विडियो , गानों के विडियो बनाकर फूहड़ता फैला रहे है .मुझे आज हरियाणा पर गर्व नही हो रहा मुझे शर्म आ रही है –ये मेरे निजी विचार है  – मै जब भी हरियाणा के बारे में लिखता हूँ मुझे गर्व होता है की मै हरियाणवी हूँ , मुहे गर्व होता है की मै ऐसे प्रदेश में पैदा हुआ जहा का किसान पुरे देश का पेट भरता है , जहा का जवान देश की रक्षा करता है , जहा के खिलाडी देश के लिए मेडल जीतते है , जहा की पहचान निराली है लेकिन आज मै शर्म से पानी पानी हो चूका हूँ आज हमारी सारी महनत पहचान कुछ फूहड़ लोगो की वजह से माट्टी में मिलती जा रही है और हम सिर्फ तमाशा देख रहे है . बचा लो हरियाणा को बचा लो हरियाणा की पहचान को आवाज उठाओ फूहड़ता के खिलाफ . जय हिन्द जय हरियाणाCC Story By PARVINDER SINGH 

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *