Connect with us

पानीपत

ये दो नए ब्रिज दिलाएँगे पानीपतवासियों को जाम से निजात और उद्योग जगत को बड़ा फ़ायदा

Published

on

जींद-पानीपत रेलवे लाइन पर बनाए जा रहे दो रेलवे ओवर ब्रिज अप्रैल से शुरू हो जाएंगे। काम लगभग पूरा हो चुका है। रेलवे ने अंतिम रूप देते हुए एक्सपेंशन ज्वाइंट डालने का काम शुरू कर दिया है। एक अारओबी काबड़ी रोड फाटक नंबर 55 और दूसरा रिफाइनरी रोड स्थित फाटक नंबर 54 पर बनाया है। इन आरओबी के शुरू हो जाने के बाद शहरवासियों को जाम से निजात मिल जाएगी। दिल्ली और जींद की आेर से आने वाले वाहनों को शहर होकर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

लोक निर्माण विभाग ने टेंडर जारी कर 9 फरवरी 2016 को आरओबी का निर्माण कार्य शुरू कर दिया था। सितम्बर 2018 तक यह कार्य पूरा किया जाना था लेकिन रेलवे की तरफ से कॉमन स्लैब देरी से मिलने के कारण यह कार्य तीन माह देरी से पूरा किया जा सका। पीडब्ल्यूडी ने दिसम्बर माह में निर्माण कार्य पूरा कर दे दिया है। इसके साथ ही रेलवे की तरफ से एक्सपेंशन ज्वाइंट डालने का काम शुरू करा दिया गया है।

Image result for जाम panipat

22 कॉलोनियों को फायदा 

असंध रोड से रिफाइनरी रोड बाइपास पर जाने की राह अब आसान हो जाएगी। शहर में हाईवे पर वाहनों को लोड कम हो जाएगा। वहीं शहर की 22 कॉलोनियों के लोगों को फायदा होगा। दिल्ली पैरलल नहर पर बनने वाले ओवरब्रिज को तीन लेन में बनाया गया है। फ्लाईओवर पार करने के बाद वाहन काबड़ी होते हुए टीडीआई रेलवे ओवरब्रिज से सीधे नेशनल हाईवे पर जा सकेंगे।

Panipat News - haryana news rob of kabri and refinery road to be started in april residents will get rid of jam

यह है रेलवे ओवर ब्रिज का पूरा स्ट्रक्चर 

काबड़ी रोड रेलवे फाटक नंबर 55 पर साढ़े सात मीटर चौड़ा दो लेन का ओवरब्रिज बनाया गया है। इस पर करीब 18.64 करोड़ लागत आई है। इसकी कुल लंबाई 648 मीटर है। इसमें 88.60 मीटर हिस्सा रेलवे का है। जींद- पानीपत रोड स्थित फाटक नंबर 54 पर बनाए गया आरओबी करीब साढ़े 10 मीटर चौड़ा है। तीन लेन में बनाया गया है। विभाग ने इसके निर्माण पर करीब 22 करोड़ रुपए लागत आई है। ओवरब्रिज की कुल लंबाई 990 मीटर है। इसमें 144 मीटर हिस्सा रेलवे का है।

करीब 2 हजार से अधिक इंडस्ट्री को मिलेगा लाभ

असंध रोड, रिफाइनरी नहर बाईपास और काबड़ी रोड के आसपास करीब 2000 हजार से अधिक इंडस्ट्रीज हैं।

पानीपत का नाम है, जीटी रोड जाम है

सूती और ऊनी धागे की बड़ी- बड़ी स्पिनिंग मिल हैं। कंबल प्लांट, कारपेट कारखाने, चादर और इससे संबंधी प्रोडक्ट वाले शटलस लूम लगी हैं। एक्सपोर्ट का बड़ा कारोबार है। लोहे के कारखाने हैं। इन्हें जीटी रोड पर जाने के लिए असंध रोड से गुजरना पड़ता था। करनाल और दिल्ली जाने वाले लोग अब इस बाईपास का प्रयोग कर जीटी रोड पर जा सकेंगे।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: बुरी नज़र वाले तेरा मुँह कला