Connect with us

विशेष

लिफ़्ट में घुसते ही लोगों के मुँह से अंग्रेज़ी क्यों निकलने लगती है?, रिसर्च में हुआ ख़ुलासा

Advertisement एजेंसी. आपने अक्सर देखा होगा कि जब भी कोई बंदा या बंदी लिफ़्ट में घुसता या घुसती है, तो उसके मुँह से अपने आप अंग्रेज़ी निकलने लगती है। औरों की क्या बात करें, ख़ुद आपके साथ भी ऐसा हुआ होगा और आप हैरान रह गये होंगे कि ऐसा हुआ तो हुआ कैसे? लेकिन अब और […]

Published

on

Advertisement

एजेंसी. आपने अक्सर देखा होगा कि जब भी कोई बंदा या बंदी लिफ़्ट में घुसता या घुसती है, तो उसके मुँह से अपने आप अंग्रेज़ी निकलने लगती है। औरों की क्या बात करें, ख़ुद आपके साथ भी ऐसा हुआ होगा और आप हैरान रह गये होंगे कि ऐसा हुआ तो हुआ कैसे? लेकिन अब और हैरान होने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि अमेरिका के मैसाचुसैट्स इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) ने इसकी वजह का पता लगा लिया है।

लिफ़्ट में लोगों के मुँह से निकलती अंग्रेज़ी

Advertisement

एमआईटी के वैज्ञानिकों का कहना है कि “अभी तक लोग यही समझते थे कि वे लोग दिखावे के लिए ऐसा करते हैं। उन्हें लगता था कि लोग लिफ़्ट में अंग्रेज़ी इसलिए बोलते हैं क्योंकि अंग्रेज़ी बोलने से स्टेटस बढ़ता है लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है!”

Advertisement

इस रिसर्च के हेड प्रोफ़ेसर पीटर इंग्लिश ने बताया कि “दरअसल ऐसा होने के पीछे कई वजहें हैं और सबसे बड़ी वजह है परोपकार की भावना! बॉलीवुड फ़िल्म का वो गाना है ना- ‘अपने लिए जीये तो क्या जीये!’ तो लिफ़्ट में सफ़र करने वालों को भी लगता है कि उनका जीवन तभी सार्थक है, जब उनकी अंग्रेज़ी को दूसरे लोग भी सुनें। सिर्फ़ अपनी ज़रूरत के लिए बोलना तो घोर स्वार्थ होगा!”

“दूसरी सबसे बड़ी वजह है- अंग्रेज़ी को भूल जाने का डर! इंडिया के लोग डरते हैं कि अगर उन्होंने थोड़ी देर के लिए भी किसी और लैंग्वेज में बात कर ली तो कहीं वे अंग्रेज़ी को भूल ना जायें!”

Advertisement

“और चूंकि इसका नाम ही ‘लिफ़्ट’ है और लिफ़्ट का अर्थ होता है- ऊपर उठना! तो जो भी लोग ज़िंदगी में ऊपर उठना चाहते हैं, उनके मुँह से अंग्रेज़ी निकलना स्वाभाविक ही है। इसमें हैरान होने वाली कौन सी बात है!”

“और लोगों को तो ये भी पता नहीं है कि हिंदी में ‘लिफ़्ट’ को कहते क्या हैं? ज़रा हिंदी का नाम सोचकर देखिए- ‘उत्थापक’ या ‘बिजली से मनुष्य को ऊपर उठाने वाला यंत्र’… हाऊ रिडिक्यलस!” -कहकर पीटर खी..खी करने लगे।

फिर आँख मारकर मुस्कुराते हुए बोले, “और देखिए, विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण मनुष्य का सहज स्वभाव है। नर, मादा को लुभाने के लिए कई तरह के तरीक़े अपनाता है, और अंग्रेज़ी बोलना भी ऐसा ही एक तरीक़ा है!”

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *