Connect with us

Cities

विदेश से आए 333 लोग, Haryana स्‍वास्‍थ्‍य विभाग और पुलिस को तलाश

Published

on

कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते सरकार और प्रशासन ने जनता से सहयोग की अपील की है। लॉकडाउन के बाद लोगों को घरों में रहने को कहा जा रहा है। वहीं, कुछ ऐसे भी लोग हैं, जिन्‍होंने स्‍वास्‍थ्‍य विभाग और पुलिस की नींद उड़ा रखी है। ऐसे लोग समाज के लिए भी खतरा हैं। करीब 333 लोग विदेश यात्रा करके पानीपत आए हैं, जिन्‍हें ट्रेस किया जा रहा है।

दरअसल इमिग्रेशन विभाग से मिली सूचना के मुताबिक अब तक 548 लोग विदेशों की यात्र कर लौटे हैं। स्वास्थ्य विभाग और पुलिस 215 को ही ट्रेस कर सके हैं। 333 तक पहुंचने के लिए स्पेशल टीम बनेगी।

घर से ले गई स्वास्थ्य विभाग की टीम

आठ मरला चौकी क्षेत्र की एक कॉलोनी में 18 मार्च को किरायेदार साउथ अफ्रीका से लौटा था। वह अफ्रीका में एक कंपनी में काम करता था। उसने सिविल अस्पताल में स्वास्थ्य की जांच नहीं कराई। इसकी भनक कॉलोनियों के लोगों को लगी और रविवार रात को आठ मरला चौकी प्रभारी राजबीर को कॉल कर सूचना दी। इसके बाद चौकी के एसआइ कर्मबीर कॉलोनी पहुंचे और एंबुलेंस से व्यक्ति को कोरोना की जांच के लिए सामान्य अस्पताल भिजवाया।

corona

क्वारंटाइन के घर के बाहर नोटिस चस्पा

सामान्य अस्पताल में जहां 24 घंटे डॉक्टर और अन्य स्टाफ की तैनाती बढ़ा दी गई है, वहीं लोगों को भी सजग किया जा रहा है। साथ ही क्वारंटाइन वाले लोगों के घरों के बाहर नोटिस चस्पा दिए हैं, जिससे कि पड़ोस में रहने वाले सजग रहें। इसके अलावा अस्पताल में पुलिसकर्मी की भी ड्यूटी लगी है। गौरतलब है कि कोरोना वायरस को लेकर महामारी के चलते प्रदेश भर में लॉकडाउन घोषित कर दिया है।

जांच के बाद घर भेजा 

डिप्टी सीएमओ डॉ. सुधीर बतरा ने बताया कि अभी समालखा सामान्य अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड में किसी को भी नहीं रखा गया है। जो चार लोग थे, उन सभी को हर तरह की जांच के बाद घर भेज दिया गया। वो घर पर ही क्वारंटाइन रहेंगे। उन्होंने बताया कि समालखा एरिया के गांव पट्टीकल्याणा, बिहोली, गढ़ीछाजू आदि में जो भी विदेश से आए हैं उन सभी को क्वारंटाइन रखा गया है। उनसे कोई दूसरा न मिले और आस-पड़ोस के लोग सावधान रहे। डॉक्टर ने कहा कि विभाग कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए प्रतिबद्ध है, लेकिन इसमें आमजन का सहयोग भी बहुत जरूरी है। इसलिए लोग सावधानी बरते और यदि उन्हें किसी में कोरोना से संबंधित लक्षण लगते है तो तुरंत डॉक्टर को अवगत कराएं।

कोरोना संदिग्‍ध को आइसोलेट कराने में सहयोग करेगी पुलिस 

कोरोना वायरस को लेकर पुलिस विभाग भी सचेत हो गया है। कोरोना संदिग्ध मिलने पर पुलिस की टीम स्वास्थ्य विभाग के साथ मिलकर मरीज को आइसोलेट कराने में सहयोग करेगी। जिले में पुलिस विभाग ने 30 कर्मचारियों की स्पेशल टीम बना दी गई है। इसमें पानीपत में 20 व समालखा में 10 पुरुष पुलिसकर्मी और पांच महिला पुलिसकर्मी शामिल हैं। इनको स्पेशल सेफ्टी किट मुहैया कराई जाएगी। डीएसपी मुख्यालय सतीश कुमार वत्स ने बताया कि पुलिस की स्पेशल टीम 24 घंटे अलर्ट रहेगी। कोरोना संदिग्ध की सूचना मिलते ही टीम स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ मौके पर पहुंचेगी। वहीं सभी थानों के कर्मचारियों को मास्क बांट दिए गए हैं। उन्हें आदेश दिए हैं कि वे लापरवाही न बरते। एक-दूसरे से एक मीटर की दूरी पर बैठें। सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। थानों में सफाई व्यवस्था को ठीक रखें।

वहीं, करनाल में 40 केस सामने आए, 298 लोग सर्विलांस पर

कोरोना वायरस को लेकर नागरिक अस्पताल में बनाई गई ओपीडी में सोमवार को खांसी-जुकाम व वायरल के करीब 40 केस सामने आए। पिछले दिनों 272 केसों को स्वास्थ्य विभाग ने सर्विलांस पर रखा था, जिनकी संख्या बढ़कर 298 तक पहुंच गई है। जनता कफ्यरू के बाद लोग सामान्य दिनों की तरह बाहर निकलना शुरू हो गए। स्थिति को भांपते हुए जिला प्रशासन की ओर से सख्ती बरती गई। पूरे शहर में पुलिस की टीमों को लॉकडाउन कराने के लिए सक्रिय कर दिया गया। शाम करीब चार बजे तक पूरा शहर लॉक डाउन कर दिया गया।

कुरुक्षेत्र में विदेश से आने वाले 565 में से 546 लोगों की पहचान

श भर से कोरोना वायरस की मिल रही खबरों के बीच जिले के लोगों के लिए अच्छी खबर है। स्वास्थ्य विभाग ने विदेश से आए 565 लोगों में से 546 लोगों को तलाश लिया है और उन्हें और उनके परिवार को 14 दिन तक घर में ही क्वारंटाइन रहने की हिदायत दी है। इनमें से 19 लोगों तक स्वास्थ्य विभाग नहीं पहुंच पाया है। इन 19 लोगों की सूचि स्वास्थ्य विभाग ने पुलिस विभाग को सौंप दी है। इनमें से किसी को भी कोरोना वायरस के लक्षण नहीं है। मगर प्रशासन की हिदायत है कि क्वारंटाइन किए गए लोग व उनके परिजन न तो घर से बाहर निकलें और न ही बाहरी लोगों को घर भीतर आने दें, ताकि वायरस को फैलने से रोका जा सके।

बाहर लगाए गए नोटिस से छेड़छाड़ करनी पड़ सकती है महंगी

स्वास्थ्य विभाग को ऐसी जानकारी मिल रही है कि स्वास्थ्य विभाग ने जिन परिवारों को घरों में ही क्वारंटाइन किया है इनमें से कुछ लोगों ने विभाग द्वारा घर के बाहर चस्पाए गए इन नोटिसों के साथ छेड़छाड़ की है। ऐसा करने पर इन लोगों के लिए परेशानी खड़ी हो सकती है। ऐसा करने वाले परिवारों के खिलाफ प्रशासन की ओर से कानूनी कार्रवाई भी की जा सकती है। उन्होंने लोगों से सहयोग करने की अपील की है।

पड़ोसी दे सकते हैं सूचना

स्वास्थ्य विभाग ने 01744-259285 हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। जिस पर कोई भी व्यक्ति अपने आसपास आए विदेशी व्यक्ति की जानकारी दे सकता है। स्वास्थ्य विभाग ऐसी जानकारी देने वाले लोगों की पहचान गोपनीय रखेगा। प्रशासन के मुताबिक जिन लोगों को भारत आए हुए 14 दिन से ज्यादा हो चुके हैं वे कोरोना वायरस के खतरे से बाहर हैं। लेकिन किसी पड़ोसी को अगर लगता है कि किसी विदेशी को 14 दिन पूरे नहीं हुए हैं तो वह विभाग के इस नंबर पर सूचना दे सकता है। जिला सिविल सर्जन डा. सुखबीर सिंह ने लोगों से अपील की है कि विदेश से आने वाले लोग सहयोग करें और अपनी सूचना स्वास्थ्य विभाग को दें।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *