Connect with us

Cities

वेस्ट गोदाम गिराने से नाराज उद्यमियों का हंगा मा

Published

on

काबड़ी रोड पर अवैध तरीके से बनाए वेस्ट गोदाम गिराए जाने से नाराज उद्यमियों ने हंगा मा खड़ा कर दिया। मामला मंगलवार दोपहर लगभग दो बजे का है। भनक लगने पर शहरी विधायक प्रमोद विज और पार्षद लोकेश नांगरू मौके पर पहुंचे। दोनों ने जिला नगर योजनाकार अधिकारी से बंद कमरे में बात की। इसके बाद प्रशासनिक अमला वहां से निकल आया। उद्यमियों का आरोप है कि विभाग ने बिना नोटिस के उक्त कार्रवाई की। इससे उन्हें काफी नुकसान हुआ है। जबकि अधिकारी आरोपों को झूठा बताया।

जीटी रोड किनारे गिराए ढाबे —

वेस्ट गोदाम गिराने से नाराज उद्यमियों का हंगामा

मंगलवार को दोपहर ग्यारह बजे के करीब जिला नगर योजनाकार अधिकारी ललित कुमार व ड्यूटी मजिस्ट्रेट पानीपत के नायब तहसीलदार अनिल शर्मा पुलिस बल के साथ करनाल की तरफ जीटी रोड पर पहुंचे। जहां उन्होंने अवैध तरीके से बनाए गए अमन व सागर ढाबा को गिराया। कार्रवाई से बचने के लिए ढाबा संचालकों ने काफी कोशिश की, लेकिन नाकाम रहे।

अमले के साथ पहुंचे अधिकारी —

ढाबे गिराने के बाद प्रशासनिक अमला दोपहर करीब दो बजे काबड़ी रोड पहुंचा। वहां उन्होंने बिना सीएलयू के अवैध तरीके से बनाए गए वेस्ट गोदाम को गिराना शुरु किया। सुभाष गर्ग, बिट्टू, सचिन जैन व एक अन्य द्वारा बनाए गए वेस्ट गोदामों को गिराया गया। कार्रवाई आगे होती, इससे पहले ही उद्यमियों ने विभागीय अधिकारियों पर बिना नोटिस के उक्त कार्रवाई करने का आरोप लगाते हुए हंगा मा शुरु कर दिया।

करीब घंटे भर तक वो हंगा मा करते रहे। पता लगने पर शहरी विधायक प्रमोद विज व पार्षद लोकेश नांगरू भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने उद्यमियों को समझाते हुए विभागीय अधिकारी से बातचीत की। इसके बाद करीब पौने पांच बजे प्रशासनिक अमला वहां से लौट आया।

बिना नोटिस की कार्रवाई —

गोदाम मालिक सुभाष, सचिन जैन व बिट्टू ने आरोप लगाया कि विभागीय अधिकारियों ने उक्त कार्रवाई करने से पहले उन्हें कोई नोटिस नहीं दिया। गोदाम गिराए जाने से न केवल उनको लाखों का नुकसान हुआ, बल्कि मलबे के नीचे माल भी दब गया।

उनका कहना है कि रोड पर अनेक लोगों ने गोदाम व फैक्ट्री बना रखी है। लेकिन उनके खिलाफ ही कार्रवाई की गई।

सभी को दिए गए नोटिस —

जिला नगर योजनाकार अधिकारी ललित कुमार ने बताया कि गोदाम मालिकों द्वारा कार्रवाई से पहले नोटिस न दिए जाने के आरोप निराधार है। सभी को निर्माण शुरु करने के वक्त से ही विभाग द्वारा नोटिस दिए जा रहे थे।

एक के खिलाफ तो केस तक दर्ज कराया गया। उस पर कोर्ट ने जुर्माना भी लगाया है। मौके पर पहुंचे विधायक प्रमोद विज तक को भी हमने अवगत करा दिया।