Connect with us

समाचार

शिक्षक घोटाले में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला जेल से रिहा, समर्थकों ने गुरुग्राम बॉर्डर पर मनाया जश्न

Published

on

Advertisement

शिक्षक घोटाला मामले में 10 साल की सजा काटने के बाद हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला रिहा हो गए हैं। इस मौके पर दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर उनके समर्थकों ने जमकर जश्न मनाया। जैसे ही वहां चौटाला की कार निकली, समर्थकों ने फूलों से उनका स्वागत किया। ओम प्रकाश चौटाला को सभी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद तिहाड़ जेल से शुक्रवार को रिहा कर दिया गया।

चौटाला (86) पैरोल पर रिहा थे और शुक्रवार को वह औपचारिकताएं पूरी करने के लिए तिहाड़ जेल पहुंचे थे, जिसके बाद उन्हें रिहा कर दिया गया। डीजी (दिल्ली कारागार) संदीप गोयल ने बताया ,‘जरूरी औपचारिकताओं के बाद उन्हें रिहा कर दिया गया।’ पिछले महीने दिल्ली सरकार ने एक आदेश जारी किया था जिसमें ऐसे कैदियों को छह माह की विशेष छूट दी थी जिन्होंने दस वर्ष की अपनी सजा के साढ़े नौ साल पूरे कर लिए हैं।

Advertisement

ओम प्रकाश चौटाला जेल से रिहा

कोरोना संक्रमण के कारण जेलों से भीड़ कम करने के लिए यह आदेश जारी किया गया था। अधिकारियों ने बताया कि चूंकि चौटाला ने अपनी सजा के नौ वर्ष नौ माह पूरे कर लिए हैं, तो वह रिहा होने के हकदार हैं। चौटाला को शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में 2013 में जेल की सजा हुई थी। कोविड-19 महामारी के कारण वह 26 मार्च 2020 से आपात पैरोल पर थे और उन्हें 21 फरवरी 2021 को आत्मसमर्पण करना था।

Advertisement

एक वरिष्ठ जेल अधिकारी ने पहले बताया था कि उच्च न्यायालय ने उनकी पैरोल बढ़ा दी है। चौटाला, उनके बेटे अजय चौटाला और 53 अन्य लोगों को वर्ष 2000 में 3,206 जूनियर बेसिक शिक्षकों की गैर कानूनी तरीके से भर्ती मामले में दोषी ठहराते हुए सजा सुनाई गई थी। जनवरी 2013 में सीबीआई की विशेष अदालत में इन सभी को अलग-अलग अवधि की सजा सुनाई गई।

Advertisement

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *