Connect with us

करनाल

सहम गया करनाल, सबने देखा वो शू’टआऊट, ताबड़तोड़ गो’लियां बरसीं, ह’त्‍याकांड का वीडियो….

Published

on

हाईवे पर जिंदगी सुरक्षित नहीं है। ब’दमाश इतने बेखौफ हैं कि मुख्‍यमंत्री का जिला करनाल तक सेफ नहीं। ह’त्‍यारों ने पहले दामाद को मार डाला। इसके बाद उस परिवार के बेटे की सरेराह ह’त्‍या कर दी। ताबड़तोड़ गो’लियां बरसाईं। इस ह’त्‍याकांड का वीडियो भी सोशल मीडिया पर चल रहा है। ह’त्‍या के वक्‍त किसी ने मोबाइल फोन से यह वीडियो बना लिया था। ह’त्‍यारे आराम से फरार भी हो जाते हैं।

करनाल में जीटी रोड पर ग्रीन वैली पंजाबी ढाबे के निकट कार सवार तीन ब’दमाशों ने डेयरी संचालक विकास को दिनदहाड़े गो’लियों से भून डाला। दादूपुर का विकास उर्फ पिंटू अंजनथली रोड स्थित डेयरी पर जाने के लिए घर से कार में सवार होकर निकला। जीटी रोड पर पीछे से क्रेटा कार में सवार होकर आए तीन ब’दमाशों ने विकास की कार को ओवरटेक कर गो’लियां बरसानी शुरू कर दी। आरोपितों ने 10 राउंड फायर किए।

वा’रदात को अंजाम दे ब’दमाश फरार होने लगे तो उनकी क्रेटा कार अनियंत्रित हो नाले में जा गिरी। इसके बाद आरोपितों ने जीटी रोड पर पिस्तौल के बल पर रविंद्र नाम व्यक्ति से स्कूटी लूट ली। रविंद्र के साथ एक बुजुर्ग महिला भी थी। तीनों हमलावर स्कूटी छीन कर पधाना गांव की ओर फरार हो गए।रवींद्र और महिला ने स्कूटी लूटने की जानकारी उचानी के समीप पुलिस बूथ में तैनात राइडर को दी।

कई खोल बरामद हुए 

जानकारी मिलने के तुरंत बाद हरकत में आए राइडरों ने आरोपितों का पीछा किया। उधर, वा’रदात की जानकारी मिलने के बाद एसपी सुरेंद्र सिंह भौरिया समेत कई पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे। एफएसएल की टीम को भी बुलाया गया। एफएसएल की टीम ने मौके से गो’लियों के कई खोल बरामद किए हैं। पुलिस ने ब’दमाशों की क्रेटा कार को बरामद कर लिया है। पुलिस ने शव को मर्चरी हाउस में भिजवा दिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

जीजा की ह’त्या के मुकदमे की कर रहा था पैरवी

पुलिस का कहना है कि विकास उर्फ पिंटू के जीजा अंजनथली के बबली की ह’त्या कृष्ण और जबरा ने कर दी थी। विकास उस मुकदमे की पैरवी कर रहा था। इसी के चलते विकास को गो’लियों से भून डाला।

vikas father

पुलिस की मुस्तैदी पर उठ रहे सवाल 

ह’त्यारे की मौजूदगी का पता तक नहीं चला पुलिस को 

बबली ह’त्याकांड के बाद भी पुलिस आरोपितों को पकडऩे में कामयाब नहीं हो सकी। आरोपितों की कई मामलों में पुलिस को तलाश है। इसके बाद भी वीरवार को आरोपित हाइवे पर कार से आते हैं। विकास का पीछा करते हैं। हाइवे पर जहां एक सेकेंड पांच वाहन गुजर रहे, वहां कार पर गोली चला विकास की कार रूकवाते हैं। फिर भीड़ के सामने गोली मारते हैं। ह’त्याकांड को अंजाम दे साफ बच निकलते हैं। मोस्ट वांटेड की मौजूदगी से लेकर फरार होने तक पुलिस का पता ही नहीं
हाइवे पर तैनात थे पुलिसकर्मी, फिर भी ह’त्यारे फरार  

हाईवे पर ही तरावड़ी में नए थाने का उद्धाटन हो रहा था। एडीजीपी नवदीप विर्क कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थे। इस वजह से हाईवे पर कई जगह  पुलिस कर्मी  तैनात थे। इतना होने के बाद भी न सिर्फ ब’दमाश वा’रदात को अंजाम दे गए, बल्कि साफ बच कर निकल भी गए। गुस्साए ग्रामीणों ने बताया कि इससे साफ पता चल रहा है कि ह’त्यारों को पुलिस का कतई भय नहीं था। ग्रामीण रामकुमार ने बताया कि पुलिस पर ब’दमाश भारी पड़ रहे हैं। यह घ’टना इसका बड़ा उदाहरण है।

न नाकाबंदी, न ह’त्यारों की तलाश की रणनीति 

ह’त्याकांड के बाद बादमाश गांव में घिर गए थे, लेकिन तब राइडर कर्मियों के पास हथियार नहीं थे। ब’दमाशों ने हथियार दिखा पुलिसकर्मियों को धमका पधाना गांव की गलियों से भाग रहे थे। तभी उनकी स्कूटी फंस गई। ब’दमाश पैदल भाग निकले। वह पकड़े जा सकते थे, यदि पुलिस ठोस रणनीति अपनाती। लेकिन वा’रदात के बाद पुलिस ने ऐसा कुछ भी नहीं किया। ग्रामीणों ने बताया कि पुलिस का न सिर्फ कम्यूनिकेशन सिस्टम बेहद कमजोर है बल्कि ऐसी वा’रदात से निपटने, आरोपियों को पकडऩे की भी कोई रणनीति नहीं है।

ह’त्यारे गो’लियां मा;रते रहे तमाशबीन बनाते रहे वीडियो  

ह’त्यारों इतने बेखौफ थे कि उन्हें इस बात का भी डर नहीं था कि हाइवे पर भारी भीड़ जमा है। उन्होंने एक के बाद एक गो’लियां चला विकास की ह’त्या कर दी। उस वक्त हाइवे थम गया। वाहन चालक वाहनों से बाहर आ गए। कुछ लोगों ने घ’टना की वीडियो बनाई। पुलिस के पहुंचने से पहले ही सोशल मीडिया पर यह वीडियो अपलोड भी हो गया था। वहां मौजूद एक भी व्यक्ति ने तो  पुलिस कंट्रोल रूम में फोन किया न ही ब’दमाशों को पकडऩे की कोशश की।
vikas murder jaam

गुस्से में रोड़ बिरादरी, सोशल मीडिया पर जताया रोष 

बबली और विकास दोनो ही रोड बिरादरी से है। विकास की ह’त्या के बाद रोड बिरादरी से गहरा रोष जताया है। सोशल मीडिया पर उन्होंने जम कर घ’टना की निंदा की है। इसके लिए सरकार और प्रशासन की भी जम कर आलोचना की है। बिरादरी के लोगों का कहना है कि ब’दमाश उनके बच्चों को गो’लियों का निशाना बना रहे हैं, लेकिन पुलिस चुपचाप तमाशा देख रही है।

vikas murder case
एक्टिवा पर फरार हुए।

ह’त्याकांड की कहानी वक्त की जुबानी…
हाईवे पर ब’दमाशों ने पहले विकास की कार को ओवरटेक किया। कोशिश की कि कार के टायर पर गोली मारे। बचने के लिए विकास ने गाड़ी ढाबे की तरफ मोड़ी, लेकिन गाड़ी भगा नहीं पाया। तब तक ब’दमाशों ने उस पर ताबड़ तोड़ फायर कर दिए। एक गोली विकास को लगी। तब ब’दमाश अपनी कार से उतरकर विकास की कार के नजदीक आए और 12 फायर किए। इनमें पांच गो’लियां विकास को लगीं।

समय… 11:32 
वा’रदात के दो मिनट बाद ही ब’दमाश अपनी कार की ओर लपके। लेकिन गाड़ी निकाल नहीं पाए, घबराहट में उनकी कार पास के नाले में फंस गई। इस पर तीनों ब’दमाशों ने अपनी कार से छलांग लगा सड़क पर खड़े एक युवक व बुजुर्ग महिला की स्कूटी छीनी, उसी पर सवार होकर भाग निकले।

समय… 11:40
वार’दात स्थल से भाग ब’दमाश तरावड़ी की तरफ गए, यहां तरावड़ी फ्लाईओवर के पास ड्यूटी दे रहे दो ट्रैफिक पुलिस कर्मियों ने इनका पीछा करना शुरू कर दिया। उन्हें ब’दमाशों की जानकारी स्कूटी के मालिक ने दी थी, क्योंकि स्कूटी छीन जाने के बाद वें भी ब’दमाशों का पीछा कर रहे थे। काफी दूरी तक पुलिसकर्मियों ने भी राइडर बाइक से उनका पीछा किया। लेकिन ब’दमाशों ने पुलिस को चकमा देकर निकलने में सफलता पाई।

गली में ब’दमाश घिरे तो निकाली रिवाल्वर

हुआ यूं कि जब ब’दमाशों का पीछा करते हुए दोनों ट्रैफिक पुलिसकर्मी सुखदेव और मनीष पधाना गांव तक पहुंच गए। रास्ता न पता होने के कारण ब’दमाश एक बंद गली में घुस गए, लेकिन यहां दोनों पुलिसकर्मी उन्हें दबोचने के बजाय उनका बंधक बन कर रह गए। क्योंकि ट्रैफिक पुलिसकर्मियों के पास सिवाए वीटी सेट के कुछ नहीं था। जबकि ब’दमाश अपने हाथ में रिवाल्वर लिए हुए थे। यहां अपना बचाव करते हुए ब’दमाशों ने रिवाल्वर पुलिस के आगे तान दिया। ब’दमाशों ने उनसे राइडर बाइक की चाबी व वीटी सेट भी छीन लिया।

फिर भी नहीं हारी पुलिस ने हिम्मत 
ब’दमाशों ने रिवाल्वर की नोक पर पुलिस की बाइक की चाबी तो छीन ली। लेकिन ये उनके ध्यान में नहीं रहा कि पुलिस की बाइक तो स्टार्ट ही है। ऐसे में बिना हिम्मत हारे दोनों पुलिसकर्मियों ने फिर से उनका पीछा किया।

तो ब’दमाश निकल गए खेतों के रास्ते 

पधाना गांव से निकल ब’दमाश स्कूटी से शमशान घाट रोड तक पहुंचे, यहां आगे रास्ता बंद था। तो उन्होंने खेतों में स्कूटी छोड़, पैदल भाग निकले। यहां पुलिस छीनी हुई स्कूटी ले लौट आई।

परिवार में कोई जिंदा बचेगा तो इंसाफ दोगे ना
बबली जिनकी 29 जुलाई को इसी तरह से ह’त्या कर दी थी। उसकी पत्नी सुमन को जब पुलिस कर्मियों ने आश्वासन देना चाहा कि इंसाफ मिलेगा तो उसका दर्द कुछ यूं था। भाई विकास की मौत के बाद वह भी हाईवे पर विरोध जताने पहुंची थी।

source : jagran

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

करनाल

करनाल : शहीद के अंतिम दर्शन करने उमड़ी भीड़

Published

on

By

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में शहीद हुए जवान बलजीत सिंह (35) का पार्थिव शरीर बुधवार को पैतृक गांव डिंगर माजरा पहुंचा। गांव में लोगों ने भारत माता के जयकारों के साथ शहीद के अंतिम दर्शन किए। मंगलवार शाम को ही शहीद का पार्थिव शरीर जम्मू-कश्मीर से हेलीकॉप्टर द्वारा अम्बाला कैंट ले आया गया था। शहीद के अंतिम संस्कार में स्थानीय विधायक हरविंदर कल्याण पहुंचे।

सोमवार रात 2.30 बजे हुई थी मुठभेड़

शहीद बलजीत सिंह 50 राष्ट्रीय राइफल में हवलदार के पद पर तैनात थे। सोमवार रात 2:30 बजे आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर रत्नीपोरा  इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया गया। आतंकी एक घर व स्कूल में जा छिपे। आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी।

शहीद को श्रद्धांजली देते हुए विधायक हरविंदर कल्याण।
इस दौरान हवलदार बलजीत सिंह ने एक आतंकी को ढेर कर दिया। तभी सामने से आतंकियों की दो गोली बलजीत सिंह को लग गई।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में शहीद हुए बलजीत सिंह।

दो अन्य जवान भी घायल हो गए। घायल नायक सानीद व हवलदार बलजीत सिंह की अस्पताल में मौत हो गई। वहीं, जवान चंदर पाल को 92 बेस अस्पताल में रेफर किया है।

संस्कार के लिए लेकर जाते हुए सेना के जवान।

जनवरी 2002 में हवलदार बलजीत सिंह 2 मैक इनफेंट्री में भर्ती हुआ था व महाराष्ट्र के अहमदनगर में ट्रेनिंग की थी। इसके बाद अपनी अच्छी फिटनेश के चलते हवलदार बलजीत ने एनएसजी कमांडो की ट्रेनिंग पूरी की थी व वर्ष 2015 से वर्ष 2017 तक नई दिल्ली में एनएसजी में वीवीआईपी डयूटी में तैनात रहे।

बड़ी संख्या में उमड़ी भीड़।

इससे पहले भी तीन साल तक हवलदार बलजीत राष्ट्रीय राइफल में पोस्टिंग था। पिछले तीन वर्षों से 50 राष्ट्रीय राइफल में श्रीनगर क्षेत्र में पोस्टिंग था।

भारत माता के जयकारों से गूंजा डिंगर माजरा गांव।

परिवार में हवलदार बलजीत की पत्नी अरूणा, एक तीन वर्षीय बेटा अरनव, सात वर्षीय बेटी जन्नत, 75 वर्षीय किसान पिता किशनचंद है। शहीद की माता मूर्ति का पहले ही देहांत हो चुका है।

Continue Reading

करनाल

स्कूटी डिसबैलेंस हुई तो सड़क पर गिरे 2 दोस्त, पीछे से आ रहे डंपर ने दोनों को कुचला

Published

on

By

करनाल के कुंजपुरा रोड पर मंगलवार को स्कूटी सवार दो दोस्त डिसबैलेंस होकर सड़क पर गिर गए। उनके गिरते ही पीछे से आ रहे डंपर ने दोनों को कुचल दिया। आनन-फानन में अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां उनकी इलाज के दौरान मौत हो गई। डंपर चालक वाहन छोड़कर मौके से फरार है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है। इस घटना की सीसीटीवी भी सामने आई है।
सीसीटीवी में सड़क पर पड़े नजर आ रहे दोनों युवक।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक घटना मंगलवार सुबह 9.22 बजे की है। आरके पुरम में रहने वाले 22 वर्षीय रजत और 18 वर्षीय हर्ष करनाल सिटी की तरफ स्कूटी पर सवार होकर जा रहे थे। उसी दिशा में एक डंपर भी जा रहा था। हर्ष ड्राइविंग कर रहा था, उसने डंपर से ओवरटेक किया तो स्कूटी डिसबैलेंस हो गई। इस वजह से हर्ष और रजत दोनों नीचे गिर गए।

नीचे गिरते ही पीछे से आ रहे डंपर ने कुचला।
उनके नीचे गिरते ही पीछे से आ रहा डंपर दोनों के ऊपर से गुजर गया। घटना के बाद चालक डंपर वहीं छोड़कर मौके से फरार हो गया।

हादसे के बाद स्कूटी की हालत।

हर्ष और रजत को घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां उनकी मौत हो गई। मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारी धर्मपाल ने बताया कि उन्होंने मामला दर्ज कर जांच शुरु

पुलिस अधिकारी धर्मपाल मामले की जानकारी देते हुए।

Continue Reading

करनाल

दोनों पक्ष एक दूसरे पर करते रहे पत्थरबाजी, उधर दूल्हा अपनी दुल्हन को लेकर चलता बना

Published

on

By

एक तरफ दूल्हा-दुल्हन सात जन्मों तक साथ निभाने के वादे कर रहे थे और दूसरी तरफ उनके रिश्तेदार आपस में ही उलझ गए। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर भौहें तान ली। बहस इतनी बढ़ गई कि दोनों पक्षों ने पत्थर उठा लिए और एक दूसरे को मारने शुरू कर दिया। दोनों पक्षों में पत्थरबाजी होती देखकर आसपास के लोग भी सहम गए। इसी बीच दूल्हा पक्ष के एक युवक ने हवाई फा’यर कर दिया।

इससे लोगों के होश फाख्ता हो गए। दोनों पक्ष एक दूसरे पर भले ही तने हुए थे, लेकिन दूल्हा-दुल्हन और उनके नजदीकी रिश्तेदार पर इसका कोई असर नहीं पड़ा। उन्होंने शादी की रस्म अदा की। दूल्हा अपनी दुल्हन को लेकर चला गया और छोड़ गया नाराज लोग। पुलिस का कहना है कि पत्थरबाजी होने की जानकारी मिली थी। इस मामले की जांच की जा रही है।

पहले हुई आवाभगत, बाद में पत्थर फेंक कर लड़े

दोपहर के समय निसिंग से पंजाबी भवन में बरात आई थी। निसिंग के युवक का विवाह कस्बे के स्टेशन एरिया की युवती से होना था। बरात की स्वागत की पूरी तैयारियां की गई। बरात आने के बाद वधू पक्ष ने खूब आवभगत भी की। इसी बीच दूल्हा और दुल्हन सात फेरे लेने के लिए चले गए। पीछे से किसी बात पर दोनों पक्षों के लोगों में कहासुनी हो गई।

दुल्हन को ले गया दूल्हा, हवाई फायरिंग के साथ पत्थर फेंकते रहे दोनों पक्ष

अभी लोग कुछ समझ पाते, इससे पहले ही दोनों पक्षों में पत्थरबाजी होने लगी। बरात घर के बाहर गली में पड़े पत्थर उठाकर दोनों एक दूसरे की ओर फेंकने लगे। इसी बीच बरात के साथ आए युवक ने अपनी लाइसेंसी रिवाल्वर से हवा में फा’यर कर दिया। झगड़े में एक पक्ष के सतपाल सिंह के सिर में चोट आई। पत्थर लगने से उसके सिर से खून बहने लगा। उसे तुरंत नागरिक अस्पताल में दाखिल कराया गया, जहां वह उपचाराधीन है।

लाइसेंसी ह’थियार से फा’यर

दोनों पक्षों में तनाव देखकर आसपास के लोगों में हड़कंप मच गया। तनाव की स्थिति में आसपास के लोगों ने बीच-बचाव भी किया। लेकिन इस पूरे घटनाक्रम का दूल्हा और दुल्हन पर कोई असर नहीं पड़ा और वह अपने उज्ज्वल भविष्य की ओर आगे बढ़ते गए। जबकि दोनों पक्षों के लोग एक दूसरे पर गुस्से में आंखे लाल किए हुए थे।

Related image

मौका देखकर दूल्हा अपनी दुल्हन को लेकर निसिंग चला गया। दूल्हा-दुल्हन के जाने के बाद दोनों पक्षों के बीच में बातचीत हुई और मामले को शांत करवाया गया। थाना प्रभारी बलजीत का कहना है कि लाइसेंसी ह’थियार से हवाई फा’यर की बात सामने आई है। मामले की जांच की जा रही है।

Continue Reading

Trending