Connect with us

विशेष

स्कूल वैन चला रहे ड्राइवर की हार्टअटैक से मौत, पेड़ से टकराई 13 बच्चों से भरी गाड़ी

Advertisement दलमीरागढ़ के पास मॉर्डन पब्लिक स्कूल से बच्चों को लेकर आ रही क्रूसर पेड़ से टकरा गई। जिसमें सवार 14 बच्चे चोटिल हो गए। इनमें से पांच बच्चों को गंभीर चोट आई है। हादसे के दौरान ड्राइवर की मौत शमीम निवासी नौशहरा जिला सहारनपुर उत्तर प्रदेश की मौत हो गई। खिजराबाद थाना प्रभारी लज्जाराम […]

Published

on

Advertisement

दलमीरागढ़ के पास मॉर्डन पब्लिक स्कूल से बच्चों को लेकर आ रही क्रूसर पेड़ से टकरा गई। जिसमें सवार 14 बच्चे चोटिल हो गए। इनमें से पांच बच्चों को गंभीर चोट आई है। हादसे के दौरान ड्राइवर की मौत शमीम निवासी नौशहरा जिला सहारनपुर उत्तर प्रदेश की मौत हो गई।

खिजराबाद थाना प्रभारी लज्जाराम ने बताया कि चालक का शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया गया है। शुरूआती जांच में यह सामने आ रहा है कि चालक को हार्ट अटैक हुआ होगा, क्योंकि गाड़ी की स्पीड अधिक नहीं थी। उससे गाड़ी अनियंत्रित हुई है।

Advertisement

उत्तर प्रदेश के बच्चे भी आते हैं यहां
मॉर्डन पब्लिक स्कूल खिजराबाद में उत्तर प्रदेश के सहारनपुर की सीमा से लगता है। इस स्कूल में उत्तर प्रदेश के आसपास के गांवों से काफी बच्चे आते हैं। बुधवार को भी स्कूल से क्रूसर गाड़ी में शमीम बच्चों को छोडऩे के लिए जा रही थी।

14 बच्चे थे क्रूजर में
क्रूजर में 14 बच्चे थे। बताया जाता है कि जब क्रूजर दलमीरागढ़ के पास पहुंची, तो उसका संतुलन बिगड़ गया और वह पेड़ से जा टकराई। टक्कर लगते ही क्रूसर का आगे का शीशा टूट गया। उसमें सवार बच्चे भी इधर उधर जा गिरे। बच्चों की चीख पुकार सुनकर आसपास के लोग पहुंचे और उन्हें बाहर निकाला। चालक शमीम की मौत हो चुकी थी। जबकि बच्चे चोटिल हो गए थे।

Advertisement

बच्चों के सिर पर आई चोट
राहगीरों ने एंबुलेंस को मौके पर बुलवाया। इनमें से पांच बच्चों की हालत गंभीर थी। उनके सिर में चोट लगी थी। तुरंत उन्हें अस्पताल में भिजवाया गया। बच्चों के अभिभावक भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने अपने बच्चों का आसपास के चिकित्सकों के पास प्राथमिक उपचार करवाया।

Advertisement

ये हुए हादसे में गंभीर घायल 
कक्षा सात से शोहेब निवासी खेड़ी उत्तर प्रदेश, कक्षा छह से मुमताज निवासी ढाबा उत्तर प्रदेश, कक्षा दस से पुरेश नौशहरा, कक्षा दस से सहद व कक्षा सात से मुदस्सिर गंभीर रूप से घायल हुए हैं। उनका इलाज निजी नर्सिंग होम में चल रहा है।

बस में कोई अटेंडेंट नहीं
स्कूल प्रबंधन की लापरवाही साफ उजागर हो रही है। नियमानुसार बच्चों के साथ गाड़ी में अटेंडेंट होना जरूरी है, लेकिन इस क्रूसर में कोई भी अटेंडेंट नहीं था। जिस समय हादसा हुआ, उस समय गाड़ी में बच्चे व चालक ही था। ऐसे में यदि राहगीर नहीं आते, तो बच्चों की जान पर बन सकती थी। स्कूल के चेयरमैन विमल कांबोज का पक्ष जानने के लिए कोशिश की गई, लेकिन उनसे इस बारे में बात नहीं हो सकी।

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *