Connect with us

पलवल

हरियाणा की मस्जिद में लगा है खूंखार आतंकी हाफिज सईद के संगठन LeT का पैसा

Published

on

दिल्ली से सटे हरियाणा के पलवल जिले में बनी एक मस्जिद सुरक्षा एजेंसियों की जांच के घेरे में आ गई है। पलवल के उटावड़ गांव में खुलफा-ई-राशिदीन मस्जिद की जांच में पाकिस्तान के आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (LeT) के संस्थापक और वर्तमान में जमात-उद-दावा से संबंधित खूंखार आतंकी हाफिज सईद का नाम सामने आया है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने सनसनीखेज खुलासा किया है कि इस मस्जिद में कथित रूप से पाकिस्तान में रह रहे हाफिज सईद के आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का फंड लगा हुआ है।

बता दें कि पलवल के उटावड़ गांव में खुलफा-ई-राशिदीन मस्जिद की जांच इसी महीने की 3 अक्टूबर को एनआइए अधिकारियों ने की थी। इसमें पता चला था कि इस मस्जिद का नक्शा भी दुबई में बना था। ऐसे में माना जा रहा है कि मस्जिद को बनाने में पैसा भी दुबई से आया होगा। एनआइए इस पहलू की जांच में जुट गई है।

एनआइए पहले ही टेरर फंडिंग के इस मामले में नई दिल्ली में मस्जिद के इमाम मोहम्मद सलमान सहित तीन लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। बता दें कि सलमान (52), मोहम्मद सलीम और सज्जाद अब्दुल वानी को 26 सितंबर को लाहौर स्थित फलाह-ए-इंसानियायत फाउंडेशन (FIF) से फंड प्राप्त करने के लिए गिरफ्तार किया गया था।

वहीं, आसपास के लोगों को कहना है कि मस्जिद जिस जमीन पर बनी है, वो पहले से ही विवादित है। सलमान को लेकर यहां के लोगों को कहना है कि वह नहीं जानते कि वह किसी आतंकी संगठन से जुड़ा हुआ है। फलाह-ए-इंसानियायत फाउंडेशन की स्थापना हफीज सईद के जमात-उद-दावा (लश्कर का मूल संगठन) द्वारा की गई थी।

दुबई में तैयार हुआ था मस्जिद का नक्शा
दिल्ली से सटे हरियाणा के पलवल जिले के मुस्लिम (मेव) बहुल गांव उटावड़ में बन रही मरकजी मस्जिद का नक्शा दुबई में तैयार हुआ था। इस नक्शे को आरोपित मोहम्मद सलमान ने ही बनवाया था। सलमान इसके निर्माण का जायजा लेने हर जुमे (शुक्रवार) को निजामुद्दीन (दिल्ली) से उटावड़ आता था। पलवल के हथीन उपमंडल में आने वाले इस पिछड़े गांव के लोग मेहनत-मजदूरी करके गुजर-बसर करते हैं।

इस गांव या आसपास के इलाके में मरकजी मस्जिद जैसी पहले कोई मस्जिद तो क्या कोई निजी भवन भी नहीं है। मोहम्मद सलमान इस मस्जिद का निर्माण जामा मस्जिद के अनुरूप करवा रहा था। गांव के कुछ लोगों और मस्जिद के निर्माण में जुटे कारीगरों के अनुसार सलमान इसके निर्माण में बेहतरीन सामग्री इस्तेमाल करवा रहा था। इसका नाम भी सलमान ने खुलफा-ई-राशिदीन रखा है।

मोहम्मद सलमान 25 सितंबर से राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) की गिरफ्त में है। एनआइए के अधिकारियों ने सलमान के दुबई में कई आतंकी संगठनों से संबंधों की पुष्टि की है। एनआइए की गिरफ्त में होने के कारण मरकजी मस्जिद में पिछले दो बार से जुमे की नमाज बिना सलमान के पढ़ी गई है। इसके पहले आठ साल में हर जुमे की नमाज उसकी मौजूदगी में पढ़ी गई।

गांव के लोग बताते हैं कि सलमान ने यहां अपने लिए एक कमरा भी बनवाया है। वह उसी में ठहरता था। उससे आसपास के गांवों के लोग भी मिलने आते थे।

अख्तर हुसैन (पूर्व सरपंच, उटावड़) का कहना है कि सलमान पर लगे आरोप उटावड़ गांव सहित मेवात क्षेत्र के लोगों के गले नहीं उतर रहे हैं । मरकजी मस्जिद के निर्माण का जिम्मा सलमान को 2010 में तब सौंपा गया था जब गांववासी इसे पूरा करने में असमर्थ हो रहे थे। गांव के कुछ प्रमुख लोग सलमान को निजामुद्दीन से बुलाकर लाए थे। उसे बुलाने की वजह यह थी कि उसके पिता मौलवी दाऊद का जन्म उटावड़ में हुआ था। गांववासियों को विश्वास है कि जांच में सलमान बेकसूर साबित होगा।

गौरतलब है कि संदिग्ध आतंकी हाफिज सलमान की गिरफ्तारी के बाद चर्चा में आई पलवल के उटावड़ क्षेत्र की मरकजी मस्जिद को आतंकी फंडिंग की आशंका पर राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनआइए) की टीम ने 3 अक्टूबर को मस्जिद को चंदे से मिले धन से जुड़े रजिस्टर व बैंक दस्तावेज कब्जे में ले लिए थे।

3 अक्टूबर को उटावड़ पहुंची एनआइए की चार सदस्यीय टीम ने हरियाणा पुलिस की मौजूदगी में पांच घंटे तक मस्जिद परिसर में जांच- पड़ताल की थी और मस्जिद प्रबंधन से जुड़े लोगों के बयान लिए हैं। रजिस्टर और बैंक खाते जब्त किए डीसीपी अशोक डागर की अगुआई में टीम ने सबसे पहले मस्जिद प्रबंधन कमेटी से जुड़े लोगों से निर्माण खर्च बजट का आंकलन किया था।

बारीकी से रजिस्टरों को जांचा व चंदे के माध्यम से आई धनराशि व बैंक खातों का विवरण लिया। करीब पांच घंटे तक चली कार्रवाई के दौरान एनआइए ने एक रजिस्टर, दो पॉकेट डायरी तथा कुछ कागजातों को कब्जे में लिया है। दिल्ली से गिरफ्तार हुआ था सलमान मूल रूप से उटावड़ निवासी सलमान व उसके दो साथियों को एनआइए की टीम ने विदेशी फंडिंग के मामले में दिल्ली से गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के समय वह दिल्ली के निजामुद्दीन में रहता था। सलमान की ही देखरेख में उटावड़ मोड़ पर मस्जिद का निर्माण हो रहा था। निर्माण वर्ष 2010 में शुरू हुआ था।

आरोप है कि सलमान का संपर्क पाकिस्तान में बैठे आतंकी सरगना हाफिज सईद द्वारा चलाए जा रहे संगठन के एक सदस्य से था, जो दुबई में रहता है। उससे सलमान की फोन पर बातें होती थीं। सूत्रों के अनुसार सलमान व उसके दो साथियों से पूछताछ में मस्जिद को दुबई निवासी उक्त व्यक्ति द्वारा फंडिंग करने की बात सामने आई, उसी के बाद टीम जांच के लिए पहुंची।

आलोक मित्तल (महानिरीक्षक, राष्ट्रीय जांच एजेंसी) ने बताया कि सलमान से पूछताछ के आधार पर जांच चल रही है। पलवल के गांव उटावड़ में बनाई गई मस्जिद में दुबई के एक नागरिक के माध्यम से पैसा लगाने की बात सामने आई है। छानबीन शुरू कर दी गई है। जल्द ही सारी सच्चाई सामने आ जाएगी।

यहां पर बता दें कि पिछले महीने 26 सितंबर को एनआइए ने मेवात से दिल्ली के एक हवाला डीलर को गिरफ्तार किया था। खुफिया एजेंसियों का आरोप है कि सलमान लश्कर के जुड़े पाकिस्तानी संगठन फलाह-ए-इंसानियत से फंड लेता था।

खुफिया सूचना पर 27 सितंबर को एनआइए ने एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया था। कार्रवाई के तहत दिल्ली के दरियागंज, निजामुद्दीन और कूचा घासीराम इलाके में एजेंसी ने छापा मारा था। इस छापे में टेरर फंडिंग मॉड्यूल का पर्दाफाश किया गया था।

गौरतलब है कि फलाह-ए-इंसानियत पाकिस्तान के लाहौर का एक संगठन है। इस जमात-उद-दावा ने स्थापित किया है और UAPA के अंतरगत आतंकी संगठन के श्रेणी में रखा गया है। NIA ने यूएपीए के तहत मामला दर्ज किया है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

गुड़गांव

हरियाणा में बनने लगी है नई रेल लाइन, केएमपी के साथ चलेगा रेल ट्रैक, व्यापार के खुलेंगे द्वार

Published

on

By

अब एनसीआर के अहम जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद समेत पलवल, सोहना और बल्लभगढ़ से चंडीगढ़ समेत पूरे हरियाणा के लिए सीधी रेल कनेक्टिविटी हो जाएगी। पानीपत से पलवल में असोटी तक 95 किलोमीटर नई रेल लाइन को मंजूरी मिल गई है। यह रेल लाइन दिल्ली को बाईपास करते हुए रोहतक-झज्जर-फारुखनगर-पटली-मानेसर-सोहना से गुजरेगी। इस संबंध में एक प्रस्ताव को मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने हरी झंडी दिखाई है। यह नई रेल लाइन नव गठित हरियाणा रेल इंफ्रास्ट्रक्चर डिवेलपमेंट कॉर्पोरेशन (एचआरआईडीसी) द्वारा स्थापित की जाएगी।

नया रेल मार्ग फरीदाबाद, बल्लबगढ़, पलवल, सोहना और गुरुग्राम के लिए चंडीगढ़ समेत हरियाणा राज्य के सभी जिलों के साथ सीधी कनेक्टिविटी देगा और इस तरह राज्य की राजधानी समेत सभी महत्वपूर्ण स्थानों को तेज यात्री कनेक्टिविटी और गुरुग्राम से चंडीगढ़ तक के लिए शताब्दी जैसी रेल गाड़ियां चलाने की सुविधा हो जाएगी। यह दिल्ली रेल नेटवर्क की भीड़ को कम करेगा और इस प्रकार दिल्ली में यात्री व गुड्स के उच्च घनत्व को कम करके पर्यावरणिक दृष्टि से एनसीआर एरिया के लिए यह बेहद फायदेमंद सिद्ध होगा।

इस बारे में राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि गुरुग्राम, फरीदाबाद, बल्लभगढ़ और पलवल इलाकों के लिए दिल्ली से गुजरने वाला रेल नेटवर्क औद्योगिक विकास के लिए एक बहुत बड़ी रुकावट है। प्रस्तावित नई रेल लाइन से राज्य के आर्थिक विकास के एक नए युग का सूत्रपात होगा।

इस तरह तैयार होगी नई लाइन
नए रूट का मुख्य हिस्सा भारतीय रेलवे नेटवर्क पर पहले ही मौजूद है और केवल मिसिंग लिंक जुड़ेंगे। पानीपत से झज्जर वाया रोहतक की लाइन पहले से ही मौजूद है। झज्जर को लगभग 30 किलोमीटर की नई रेलवे लाइन के माध्यम से फरुखनगर में पहले से ही मौजूदा स्टेशन से जोड़ा जा सकता है। जहां फरुखनगर से गढ़ी हरसरू और गढ़ी हरसरू से पटली तक रेलवे लाइन मौजूद है, वहीं पटली से असोटी तक लगभग 60 किलोमीटर लंबी नई रेल लाइन बनाने की जरूरत पड़ेगी जो मानेसर और सोहना से गुजरेगी। इसके अलावा, गढ़ी हरसरू, पटली और असोटी रेलवे स्टेशनों पर वाई-कनेक्शन का प्रावधान किया जाएगा।

यह होगा बड़ा फायदा
इस लाइन को डिवेलप करने से कॉन्कोर या अन्य कंपनियों के लिए इस इलाके में मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क (एमएमएलपी) की नई ग्रीनफील्ड परियोजनाएं विकसित करने की संभावना उत्पन्न होगी। यह मार्ग तुगलकाबाद के प्रमुख कॉन्कोर डिपो के लिए हरियाणा, पंजाब और राजस्थान और गुजरात राज्यों के विभिन्न महत्वपूर्ण स्थलों के लिए सीधी कनेक्टिविटी (दिल्ली से गुजरे बिना) की सुविधा देगा। इसके अलावा, यह असोटी में डीएफसी को कनेक्टिविटी भी देगा जो पूरे हरियाणा राज्य से समर्पित फ्रेट कॉरिडोर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (डीएफसीसीआईएल) तक यातायात के आवागमन की सुविधा देगा। इस प्रकार, कॉन्कोर, डीएफसीसीआईएल और एचएसआईआईडीसी जैसे सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को एचआरआईडीसी के साथ साझेदार के रूप में भी शामिल किया जा सकता है।

Continue Reading

अंबाला

Haryana Municipal Election 2018 LIVE UPDATES

Published

on

By

हरियाणा के पांच नगर निगमों और दो नगर पालिका समितियों के चुनाव में रविवार को 14 लाख से अधिक मतदाता उम्मीदवारों के राजनीतिक भाग्य का फैसला करेंगे.

14,01,454 मतदाताओं में 7,44,468 पुरुष और 6,56,986 महिलाएं हैं.

इन निगमों और नगर पालिका समितियों में महापौर और सदस्यों के चुनाव में 136 वार्डों के लिए वोट डाले जायेंगे.

पांच नगर निगम हिसार, करनाल, पानीपत, रोहतक और यमुनानगर हैं जबकिदो नगर पालिका समिति फतेहाबाद में जखाल मंडी और कैथल में पुंडरी हैं. प्रवक्ता के अनुसार इस चुनाव के लिए 1,292 मतदान केंद्र बनाये गये हैं जिनमें 304 संवेदनशील और 166 अतिसंवेदनशील हैं.

इस खबर पर LIVE अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहिए

12:35 pm (IST)

गोहाना से कांग्रेस पार्टी के विधायक जगबीर मलिक ने किया दावा. पांच जिलों में चल रहे नगर निगम के चुनावों में होगी कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों की जीत.

 

12:02 pm (IST)

यमुनानगर वार्ड नंबर 16 में पार्षद पद के उम्मीदवार ने एक युवक को बूथ पर जमकर पीटा.

11:54 am (IST)

यमुनानगर के आईटीआई में एक महिला के वोट डालने से पहले किसी और ने डाला उसका वोट. पुलिस ने मामला दर्ज किया.

11:44 am (IST)

पानीपत में दो बूथों पर अब तक जीरो वोटिंग.

 

11:36 am (IST)

हरियाणा के 5 नगर निगम और 2 नगर पालिका के लिए रविवार सुबह 7.30 बजे से मतदान जारी है. चुनाव के 4 घंटे बीत चुके हैं. अभी तक सीएम सिटी करनाल में सबसे कम वोटिंग हुई है. यहां अबतक 9.9 प्रतिशत मतदान हुआ है.

11:24 am (IST)

टोहाना के जाखल में प्रत्याशी का टेंट हटवाने से लेकर जमकर हंगामा हुआ. प्रशासन ने प्रत्याशी के टेंट हटवाये जिसके बाद लोगों ने हंगामा किया. लोगों ने प्रशासन पर भाईचारा खराब करने का आरोप लगाया. बताया जा रहा है प्रत्याशी के समर्थकों ने ये टेंट लगाया था.

11:07 am (IST)

करनाल में बीजेपी की मेयर उम्मीदवार रेणु बाला ने वार्ड नम्बर 11 में मतदान किया.

11:02 am (IST)

यमुनानगर के गांव भगवानगढ में वोट को लेकर हंगामा किया. लोगों ने आरोप लगाया कि ईवीएम मशीन में गड़बड़ है. ईवीएम पर बटन दबाने के बाद किसी और पार्टी के खाते में वोट जा रहे हैं. लोगों ने की बूथ नंबर-9 के बाहर नारेबाज़ी की.

10:41 am (IST)

पानीपत के वार्ड 26 के बूथ नम्बर 1 और 2 पर 3 घण्टे बीतने के बाद भी नहीं खुला खाता. वार्डवासी अपनी जिद पर अड़े नहीं किया मतदान. लोगों का विरोध जारी.

10:37 am (IST)

पानीपत में वोट का बहिष्कार कर बूथ के उसके अंदर भी प्रवेश नहीं कर रहे बाबर पुर मंडी के निवासी. विकास कार्य ने होने से नाराज हैं यहां के लोग. पानीपत के वार्ड नंबर 26 के अंतर्गत आता है बाबरपुर मंडी. यहां कुल वोटरों की संख्या 1737 है.

10:33 am (IST)

पानीपत के वार्ड नंबर 2 के लिए लगाई ईवीएम कारण मतदान रुक गया. अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की.

Continue Reading

अंबाला

नगर पालिकाओं में ज्यादा मतदान, पांचों नगर निगमों में धीमी शुरूआत

Published

on

By

हरियाणा के 5 नगर निगम और 2 नगर पालिका के लिए रविवार सुबह 7.30 बजे मतदान शुरू हो गया। पहले एक घंटे कुछ पोलिंग बूथ पर मतदान देरी से शुरू हुआ लेकिन दूसरे घंटे तक प्रदेश के सभी पोलिंग बूथ पर मतदान शांतिपूर्ण तरीके से जारी है। दूसरे घंटा बीत जाने के बाद भी सबसे ज्यादा मतदान जाखल मंडी नगर पालिका में ही हुआ है।

9.30 बजेः दूसरे घंटे में जाखल मंडी और पूंडरी नगर पालिका मतदान में आगे हैं, जबकि पांचों नगर निगमों में चुनाव की शुरूआत धीमी रही। जाखल मंडी में 23.5 प्रतिशत, पूंडरी नगर पालिका में 18.9 प्रतिशत मतदान हो चुका है। वहीं नगर निगम के लिए हिसार में 5.5 प्रतिशत, करनाल में 6.6 प्रतिशत, पानीपत में 3.9 प्रतिशत, रोहतक में 3.4 प्रतिशत और यमुनानगर में 5.0 प्रतिशत मतदान हो चुका है।

8.30 बजेः हिसार के 204 पोलिंग बूथ पर 0.1 प्रतिशत, जाखल मंडी के 12 पोलिंग बूथ पर 8.2 प्रतिशत, करनाल के 224 पोलिंग बूथ पर 0 प्रतिशत, पानीपत के 270 पोलिंग बूथ पर 0 प्रतिशत, पूंडरी के 13 पोलिंग बूथ पर 0 प्रतिशत, रोहतक के 220 पोलिंग बूथ पर 0 प्रतिशत और यमुनानगर के 303 पोलिंग बूथ पर 0.3 प्रतिशत मतदान हुआ है।

चुनाव आयोग की वेबसाइट के अनुसार कुछ पोलिंग बूथ पर 8.30 बजे तक वोटिंग शुरू नहीं हो पाई है।

Continue Reading

Trending