Connect with us

चंडीगढ़

हरियाणा के सभी प्रमुख शहरों को मेट्रो व अन्य विकास प्रोजेक्ट के लिए बजट अलॉट

Published

on

चुनावी बजट में गांवों के साथ ही शहरों का भी सरकार ने पूरा ख्याल रखा है। पांच नगर निगमों में शानदार जीत के बाद शहरों पर मेहरबान वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने अपनी पोटली खोलने में कोई कंजूसी नहीं बरती। शहरों के ढांचागत विकास पर फोकस करते हुए हाईटेक परिवहन सुविधाओं के लिए करीब आधा दर्जन नई मेट्रो परियोजनाओं का सपना दिखाया है। रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) कॉरिडोर के लिए 500 करोड़ रुपये अलग से रखे हैं।

भाजपा को शहरी मतदाताओं की पार्टी माना जाता है। मौजूदा विधानसभा में भाजपा के 48 विधायकों में से अधिकतर शहरों से जीतकर आए हैं। चुनावी साल में मिशन-2019 को पूरा करने के लिए भाजपा की निगाह एक बार फिर शहरों पर है। यही वजह है कि वित्त मंत्री ने शहरियों को दिल खोलकर परियोजनाएं दी हैं।

Image result for metro haryana

शहरों में आधारभूत ढांचे और बुनियादी सेवाओं का जिम्मा उठाने वाले शहरी स्थानीय निकायों को 3995 करोड़ रुपये मिले हैं। नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग को 1873 करोड़ रुपये मिले हैं जो पिछले साल के बजट 1364 करोड़ के मुकाबले 37.4 फीसद ज्यादा है। शहरों पर कुल 5910 करोड़ रुपये खर्च होंगे, जबकि पिछले बजट में 4420 करोड़ रुपये शहरों के लिए रखे गए थे।

कालोनियों में 15 फीसद प्लाट और 20 फीसद मकान गरीबों को

सबके सिर पर छत मुहैया कराने की कड़ी में लाइसेंसशुदा कालोनियों में आर्थिक रूप से कमजोर लोगों (ईडब्ल्यूएस) को तवज्जो मिलेगी। वैध कालोनियों में 15 फीसद प्लाट और 20 फीसद मकान गरीबों को दिए जाएंगे। अटल पुनरुत्थान और शहरी परिवहन (अमरूत) के तहत चयनित 18 कस्बों में 2274 करोड़ रुपये के विकास कार्य अंतिम चरण में हैं।

पानीपत तक हाई स्पीड ट्रेन, पहली बार पांच सौ करोड़

मनोहर सरकार के बजट में केंद्र की मोदी सरकार की योजनाओं की झलक दिखाई दी। परिवहन व्यवस्थाओं को सुदृढ़ करने में जुटी केंद्र सरकार के नक्शे-कदम पर चलते हुए मनोहर सरकार ने ट्रांसपोर्ट सिस्टम को मजबूत करने के लिए बजट में अहम घोषणाएं की हैैं। सरकार ने रीजनल रेपिड ट्रांजिट सिस्टम के लिए बजट का प्रावधान किया है। नई दिल्ली से तीन शहरों पानीपत, अलवर और मेरठ तक हाई स्पीड ट्रेन चलाने की योजना को इस बजट में पंख लगने के आसार हैैं। वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने 500 करोड़ रुपये का बजट इन परियोजनाओं के लिए तय किया है।

Image result for metro haryana

शहरों में सफर होगा सुहाना

नए बजट सत्र में हरियाणा में मेट्रो का दायरा बढ़ेगा। नरेला से कुंडली, फरीदाबाद से गुरुग्राम, गुरुग्राम सिटी स्टेशन से रेलवे स्टेशन, बहादुरगढ़ से सांपला, बाढ़सा से द्वारका और और गुरुग्राम में दक्षिणी परिधि सड़क पर मेट्रो का विस्तार करने की योजना है। बजट में दिल्ली-गुरुग्राम-एसएनबी (शाहजहांपुर-नीमराना-बहरोड़) आरआरटीएस को मंजूरी मिली है। पहले चरण में तीन कॉरिडोर दिल्ली- पानीपत, दिल्ली-गुरुग्राम-अलवर और दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ को सिरे चढ़ाया जाएगा।

शहरी विकास की कड़ी में पांच नई नगर पालिकाओं कुंडली, साढ़ौरा, बास, इस्माइलाबाद और सिसाय पर सरकार का खास फोकस रहेगा। स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत फरीदाबाद, करनाल और गुरुग्राम में चल रहे विकास कार्यों की स्पीड बढ़ाई जाएगी।

शहरों की सबसे बड़ी समस्या ठोस कचरा निस्तारण के लिए विशेष योजनाओं पर काम होगा। गुरुग्राम-फरीदाबाद और सोनीपत-पानीपत में परियोजनाओं पर काम शुरू हो चुका, जबकि निर्माण और तोडफ़ोड़ के कचरे के प्रसंस्करण के लिए गुरुग्राम में मास्टर प्लान को अमलीजामा पहनाया जाएगा। इसी तर्ज पर दूसरे निगमों में कूड़ा निस्तारण होगा।

राज्य सरकार ने प्रदेश में मेट्रो परियोजनाओं के विस्तार का भी खाका तैयार किया है। वर्तमान में नई दिल्ली से गुरुग्राम, फरीदाबाद, बल्लभगढ़ और बहादुरगढ़ तक मेट्रो सुविधा है। सरकार ने नई दिल्ली के नरेला से सोनीपत के कुंडली और बहादुरगढ़ से सांपला तक मेट्रो विस्तार की योजना बनाई है। झज्जर के बाढ़सा में बनाए गए नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट को भी मेट्रो से जोड़ा जाएगा। गुरुग्राम और फरीदाबाद के बीच भी मैट्रो विस्तार की योजना है। गुरुग्राम के सिटी सेंटर से रेलवे स्टेशन और दक्षिणी परिधि सड़क पर मेट्रो विस्तार की प्लानिंग है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: बुरी नज़र वाले तेरा मुँह कला