Connect with us

चंडीगढ़

हरियाणा सरकार अब बेटे की शादी पर देगी 21000 का शगुन, इसे पाने के सभी नियम जान लीजिए

Published

on

प्रदेशभर के औद्योगिक संस्थानों, मॉल, वर्कशॉप, कॉल सेंटरों में काम करने वाले 30 लाख से अधिक कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश सरकार अब कर्मचारियों के बेटे की शादी पर भी शगुन योजना के तहत 21 हजार रुपए देगी। कर्मी खुद अविवाहित है तो उसे भी लाभ मिलेगा। पहले यह लाभ सिर्फ बेटियों की शादी पर मिलता था।

भास्कर में प्रकाशित ख़बर के अनुसार इसके अलावा सरकार ने आईआईटी, मेडिकल, एसएससी, यूपीएससी और एचपीएससी परीक्षाओं की तैयारी के लिए 20 हजार से लेकर एक लाख रुपए तक कोचिंग शुल्क देने का फैसला किया है। नोटिफिकेशन जारी कर 15 जनवरी से दोनों योजनाओं को लागू कर दिया है। सरकार श्रमिक वेलफेयर स्कीमों के तहत श्रमिकों के बेटे-बेटियों की क्लास वन से 12वीं तक की पढ़ाई जारी रखने पर स्कूल की वर्दी, किताब कापी आदि खरीदने को वित्तीय सहायता देती थी।

शर्तों पर शादी से 3 दिन पहले मिलेगी धनराशि 

बेटे की शादी में तीन दिन पहले धनराशि दी जाएगी। कर्मचारी को अपने संस्थान की मैनेजमेंट से शादी के आयोजन का प्रमाण देना होगा। 6 माह के अंदर शादी पंजीकृत करवाकर उसका प्रमाण पत्र विभाग को सौंपना होगा। 5 की बजाय इसे 3 वर्ष कर दिया है। यह लाभ 25 हजार से कम सैलरी वाले ले सकते हैं।

कोचिंग सहायता राशि की पात्रता

राठी के अनुसार कोचिंग सहायता राशि का लाभ लेने के लिए कुछ शर्तें निर्धारित की गई हैं। जैसे श्रमिक कम से कम एक साल से संस्थान में कार्य कर रहा हो। जिस कोचिंग में बच्चा पढ़ना चाहता है वह तीन साल से संचालित हो रही हो। कोचिंग में कम से कम 300 विद्यार्थियों को पढ़ाने की क्षमता हो. बच्चे के अंक 60 फीसदी तक हो। संबंधित कर्मचारी का वेलफेयर के तहत अंशदान होता हो।

अभी यह मिलती है सहायता राशि

विभागीय अधिकारियों के मुताबिक औद्योगिक व कॉमर्शियल इकाइयों में कार्यरत श्रमिकों के दाे बेटों और तीन बेटियों की कक्षा एक से 12 वीं तक की पढ़ाई जारी रखने पर सरकार वेलफेयर स्कीम के तहत स्कूल की वर्दी, किताब-कापी आदि खरीदने के लिए एकमुश्त सहायता राशि देती है। पहली कक्षा से चौथी क्लास तक 3000 रुपए और पांचवीं से 12वीं क्लास तक 4000 रुपए की सहायता राशि दी जाती है। श्रम कल्याण अधिकारी शिव सैनी ने बताया कि विवाह शगुन योजना और कोचिंग आर्थिक सहायता योजना राज्य सरकार की नई योजना है। इसे सीएम मनोहरलाल के निर्देश पर 15 जनवरी से हरियाणा श्रम कल्याण बोर्ड ने लागू किया है।

कोचिंग को 20 हजार से 1 लाख तक मिलेंगे 

श्रमिकों के बच्चों को व्यावसायिक कोचिंग के लिए भी अलग से 20 हजार से एक लाख रुपए तक आर्थिक सहायता शर्तों के अनुसार देगी। 15 जनवरी से इस योजना को लागू कर दिया गया है। इस योजना का लाभ लेने के लिए बच्चे के कम से कम 60 फीसदी अंक होने चाहिए। उन्होंने बताया कि बच्चे के लिए यह राशि स्टाफ सलेक्शन कमीशन (एसएससी), आईआईटी, मेडिकल, यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (आईएएस), हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन (एचपीएस) आदि के लिए दिए जाएंगे। यूपीएससी और एचपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा पास करने के बाद मुख्य परीक्षा की तैयारी के लिए एक लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *