Connect with us

विशेष

हर दिन भारत में बर्बाद हो रहा 244 करोड़ का खाना, फिर भी भूखे सोने को मजबोर 19 करोड़ लोग

भारत भले ही मंगल ग्रह तक पहुंच चुका है, लेकिन अभी भी हमारे देश में 19 करोड़ लोगों को भूखे सोना पड़ रहा है। ऐसा भी नहीं है कि भारत में अनाज कम पैदा होता है, लेकिन जरूरतमंद लोगों तक इस अनाज को पहुंचाने का काम आज तक नहीं हुआ है। संयुक्त राष्ट्र के फूड […]

Published

on

भारत भले ही मंगल ग्रह तक पहुंच चुका है, लेकिन अभी भी हमारे देश में 19 करोड़ लोगों को भूखे सोना पड़ रहा है।

ऐसा भी नहीं है कि भारत में अनाज कम पैदा होता है, लेकिन जरूरतमंद लोगों तक इस अनाज को पहुंचाने का काम आज तक नहीं हुआ है। संयुक्त राष्ट्र के फूड एंड एग्रीकल्चर आर्गनाइजेशन (FAO) की एक रिपोर्ट ने चौंकाने वाले आंकड़े पेश किए हैं।


FAO ने रिपोर्ट में बताया है कि भारत हर दिन 244 करोड़ रुपये का खाना बर्बाद कर देता है जो कि सालाना के हिसाब से लगभग 89,000 करोड़ रुपये बैठता है। वहीं दूसरी तरफ भारत में ही रोजाना 19 करोड़ 40 लाख लोग भूखे रहते हैं।

बर्बाद सामान में 21 मिलियन टन गेहूं संबंधी उत्पादन होता है। वहीं फसल कटाई के बाद होने वाला नुकसान एक लाख करोड़ रुपये के करीब बैठता है। कुल उत्पादित होने वाली खाद्य सामग्री का चालिस प्रतिशत हर साल बर्बाद हो जाता है।

रिपोर्ट के मुताबिक, भारत की जनसंख्या को खिलाने के लिए हर साल 225-230 मिलियन टन खाने की जरूरत है। वहीं 2015-16 में 270 मिलियन टन का उत्पादन हुआ था। वैश्विक भूख सूचकांक में भारत की स्थिति बहुत अच्छी नहीं है। 119 देशों में भारत 100वें नंबर पर है। बता दें कि 2016 में भी एक रिपोर्ट आई थी। उसमें कहा गया था कि ब्रिटेन के लोग जितना खाना खाते हैं उतना भारतीय बर्बाद कर देते हैं।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *