Connect with us

पानीपत

शिव मावा भंडार के पनीर में 50 की बजाय 30% ही मिला फैट, अधलखा भंडार के खोया में भी मिली गड़बड़ी

Published

on

Advertisement

शिव मावा भंडार के पनीर में 50 की बजाय 30% ही मिला फैट, अधलखा भंडार के खोया में भी मिली गड़बड़ी

 

Advertisement

फूड एंड सेफ्टी विभाग की टीम ने साल 2018-2019 में सनौली रोड स्थित शिव मावा भंडार और अधलखा मावा भंडार समेत 6 दुकानों से उत्पादों के सैंपल लिए थे। इनकी रिपोर्ट हाल ही में आई है, जिसमें 6 फर्माें के अलग-अलग वस्तुओं के सैंपल सब स्टैंडर्ड व मिक्स ब्रांडेड मिले हैं। सब स्टैंडर्ड वाे सैंपल हाेते हैं, जिनके मानक पूरे नहीं हाेते और मिक्स ब्रांडेड वाे हाेते हैं।

Advertisement

जिन वस्तुओं पर पूरी जानकारी नहीं हाेती जैसे मैन्युफैक्चरिंग और एक्सपायरी डेट आदि। खोया, पनीर, सरसाें के तेल, बर्फी के सैंपलाें में मिलावट थी। एडीसी ने बुधवार काे 6 फर्मों पर 3 लाख 45 हजार का जुर्माना लगाया है। फूड एंड सेफ्टी विभाग के अधिकारी डाॅ. श्याम लाल ने बताया कि फर्माें को नाेटिस दिया गया था। इसके बाद जिसकी जाे कमी रही बुधवार काे उस हिसाब से उसपर एडीसी की कोर्ट ने जुर्माना लगाया है। सबसे ज्यादा जुर्माना अधलखा मावा भंडार पर डेढ़ लाख रुपए लगाया है।

छह दुकानों के सैंपल फेल, 3.45 लाख रु. का जुर्माना लगाया

Advertisement
  • सनाैली राेड स्थित अधलखा मावा भंडार से 25 अक्टूबर 2018 को खोए का सैंपल लिया गया था। खोया ठीक नहीं मिला है। डेढ़ लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है।
  • शिव मावा भंडार से 24 अप्रैल 2019 को पनीर का सैंपल लिया गया था। इसने भी मानक पूरे नहीं मिले। इसमें 30 प्रतिशत फैट मिला, जबकि 50 प्रतिशत जरूरी है। एक लाख रुपए का जुर्माना किया गया है।
  • होटल डी-ओलाईव 21 अगस्त 2019 को पनीर का सैंपल लिया गया था। इसमें 40% फैट मिला, जबकि 50 प्रतिशत होना जरूरी है। मानक पूरे नहीं थे, 40 हजार रुपए का जुर्माना किया गया है।
  • 8 मरला स्थित एजेएमडी एग्रो फूड से 29 जुलाई 2019 को ब्लेंडिड वेजिटेबल ऑयल का सैंपल लिया था। इस पर कोई तिथि नहीं थी, यानी एक्सपायर हाे चुकी थी। उसे 30 हजार रु. का जुर्माना किया।
  • बापौली स्थित ललित की दुकान से 2019 में बर्फी का सैंपल लिया गया था। इसका मानक पूरा नहीं मिला। इसे 15 हजार का जुर्माना किया गया है।
  • थर्मल स्थित राजकुमार की दुकान से खुले में बेचे जा रहे तेल का सैंपल लिया गया था, क्योंकि खुले में सरसों के तेल को नहीं बेचा जा सकता, उसे 10 हजार रुपए का जुर्माना किया गया है।

Source : Bhaskar

Advertisement