Connect with us

पानीपत

रिलीविंग और जॉइनिंग ऑर्डर लेने पहुंचे 350 जेबीटी, साेशल डिस्टेंसिंग बिल्कुल भूले,अधिकतर के चेहराें पर नहीं थे मास्क

Published

on

Advertisement

रिलीविंग और जॉइनिंग ऑर्डर लेने पहुंचे 350 जेबीटी, साेशल डिस्टेंसिंग बिल्कुल भूले,अधिकतर के चेहराें पर नहीं थे मास्क

 

कैडर चेंज पॉलिसी के तहत शिक्षा विभाग ने शनिवार शाम काे प्रदेश के 2502 जेबीटी शिक्षकाें काे उनके मनचाहे जिले में ट्रांसफर कर दिए। साेमवार सुबह जिला माैलिक शिक्षा अधिकारी का कार्यालय खुलते ही करीब 350 जेबीटी शिक्षक एक साथ ही कार्यलय में पहुंच गया। किसी काे रिलीविंग ऑर्डर लेना था ताे किसी काे जॉइनिंग लेटर।

Advertisement

कार्यालय में लापरवाही का मेला लग गया। शिक्षक साेशल डिस्टेंसिंग तक भूल गए। अधिकारी भी मूकदर्शक बने रहे। मीडिया के पहुंचने पर डेढ़ घंटे बाद अधिकारी हरकत में आ गए। आनन-फानन में 50-50 शिक्षकाें की लाइन लगवा दीं।

पानीपत. जॉइनिंग लेटर लेने के दौरान टूट रही सोशल डिस्टेंसिंग। फोटो | भास्कर - Dainik Bhaskar

Advertisement

 

5 अलग-अलग काउंटर बनवा कर उन्हें ऑर्डर जारी किए। पिछले साल मार्च में ही जेबीटी शिक्षकाें के ट्रांसफर शिक्षा विभाग ने कर दिए थे। मार्च के अंत में लाॅकडाउन लग जाने के कारण उन ट्रांसफर पर विभाग ने राेक लगा दी।

Advertisement

इसके बाद कुछ महीनाें पहले फिर से इंटर स्टेट ट्रांसफर की प्रक्रिया शुरू कर दी गई। अध्यापकों की रिलीविंग, जॉइनिंग के साथ ही एमआईएस और एचआरएमस पोर्टल पर संबंधित स्कूलों से डाटा भी फीड कर दिया गया। इसलिए साेमवार सुबह नाै बजे ही लाल बत्ती स्थित जिला माैलिक शिक्षा अधिकारी बृज किशाेर के कार्यालय में करीब 350 शिक्षक पहुंच गए।

एनओसी और जॉइनिंग ऑर्डर के लिए भूले नियम

शिक्षा विभाग की ओर से रिलीविंग और जॉइनिंग प्रक्रिया दो दिन में पूरी करनी थी। दूसरे जिलाें में ट्रांसफर किए गए शिक्षकाें काे रिलीविंग ऑर्डर के साथ ही स्कूल मुखिया की ओर से एनओसी भी चाहिए थे। वहीं, दूसरे जिलाें से ट्रांसफर हाेकर आए शिक्षकाें काे ज्वाइनिंग लैटर लेना था।

इसकाे हासिल करने के लिए ही शिक्षक ताे काेविड-19 गाइड लाइन के नियम भूल गए। जेबीटी शिक्षक रविंद्र, भूपेंद्र, सुरेंद्र आदि ने बताया कि शिक्षा विभाग की गलती के कारण ही भीड़ जमा हुई है। अधिकारियाें काे पांचाें ब्लाॅक के शिक्षा अधिकारियाें काे डीईईओ कार्यालय में ही बुला लेना चाहिए था। जबकि ऐसा नहीं किया गया। पूरा काम एक क्लर्क के जिम्मे छाेड़ दिया।

5 काउंटर लगवाकर जारी कर दिए ऑर्डर : डीईईओ

व्यवस्था गड़बड़ाने के साथ ही 5 अलग-अलग काउंटर लगवा दिए गए। 50-50 शिक्षकाें की लाइन लगवा दी गईं। उसके बाद सभी काे ऑर्डर जारी कर दिए। जिन शिक्षकाें के दस्तावेजाें में कमी रह गई है उन्हें मंगलवार काे बुलाया गया है।

 

 

 

Source : Bhaskar

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *