Connect with us

Cities

Lockdown Day-9: तब्लीगी जमात से 51 लोग पानीपत में घुसे, दो फरार, मस्जिद पहुंची पुलिस टीम का विरोध

Published

on

दिल्ली की निजामुद्दीन एरिया में हुए धार्मिक आयोजन (मरकज) से लौटे 51 लोगों सहित पानीपत में घुसे 67 लोगों ने 10 दिन के लॉकडाउन को एक झटके में फेल कर दिया। इनमें पानीपत के 11, बाकी उत्तर प्रदेश, तमिलनाडू, मुंबई और असम के लोग बताए गए हैं। पुलिस ने 65 लोगों को पकड़कर सिविल अस्पताल पहुंचाया। इनमें से दो फरार हैं। स्वास्थ्य विभाग ने सभी की स्क्रीनिंग की है। कोरोना वायरस आशंकित 13 लोगों के सैंपल लिए हैं।

डीएसपी मुख्यालय सतीश वत्स ने बताया कि दिल्ली में हुए धार्मिक आयोजन में शामिल होकर लौटे विशेष समुदाय के 51 लोग चिह्नित किए हैं। इनमें से 11 लोग पानीपत जिले के हैं। 22 असम, आठ तमिलनाडू और 10 कानपुर के हैं। मुंबई महाराष्ट्र के 16 लोग हैं, लेकिन ये दिल्ली नहीं गए थे। लॉकडाउन का उल्लंघन करने वाले सभी लोग शहर के सेक्टर-12 मुहल्ला गौसअली शाह, मुखीजा कॉलोनी, असंध रोड, बेरी वाली मस्जिद, गांव सौदापुर, गांव गढ़ीबेसिक, पत्थरगढ और नवादा पार में रह रहे थे। धार्मिक स्थलों, मदरसों और परिचितों के घरों को ठिकाना बनाया था। डीएसपी के मुताबिक दो लोग फरार हैं, तलाश जारी है। दिल्ली पुलिस से संपर्क साधे हुए हैं, कुछ लोग और भी जिले में हो सकते हैं।

सिविल सर्जन डॉ. संतलाल वर्मा ने बताया कि पुलिस 65 लोगों को लेकर अस्पताल पहुंची। 13 लोगों में वायरस के लक्षण दिखने पर पुष्टि के लिए सैंपल लिए हैं। सभी को अलग-अलग फैसिलिटी क्वारंटाइन में भेजा गया है। उधर, मॉडल टाउन निवासी महिला का दूसरा टेस्ट भी पॉजिटिव आया है।

Jamat

मदरसे में 20 बच्चे

महराना गांव स्थित एक मस्जिद परिसर में जामिया मिलिया मदरसा है। इसमें 20 बच्चे रह रहे थे। सभी उत्तर प्रदेश के अलग-अलग जिलों के हैं। पुलिस ने मदरसे में पहुंच कर इन बच्चों को अलग कर लॉकडाउन में रखने के आदेश मदरसा संचालकों को दिए हैं।

कितने कहां से पकड़े गए

21- गांव गढ़ी बेसिक

14- मुहल्ला गौसअली शाह

08- नवादा पार

08- पत्थरगढ़

14- मुखीजा कॉलोनी, असंध रोड, बेरी वाली मस्जिद और सौदापुर

विकास नगर में पुलिस ने टीम के साथ मारा छापा

निजामुद्दीन से लौटे कुछ लोगों के विकासनगर स्थित एक धार्मिक स्थल में छिपे होने की सूचना डीएसपी को मिली। सेक्टर-29 थाना प्रभारी योगेश कटारिया स्वस्थ्य विभाग के कर्मचारियों के साथ वहां तलाशी के लिए पहुंचे, कोई मिला नहीं। धार्मिक गुरु को नसीहत दी गई किसी बाहरी व्यक्ति के आने की सूचना पुलिस या स्वास्थ्य विभाग को दी जाए। इन फैसिलिटी क्वारंटाइन में रखा गया स्वास्थ्य विभाग ने गढ़ी बेसिक मस्जिद, समालखा और प्रेम इंस्टीट्यूट बड़ौली स्थित फैसिलिटी क्वारंटाइन में रखा गया है। इनकी निगरानी के लिए पुलिस की 14 टीमें लगाई गई हैं। 14 दिन के अंतराल में किसी को दिक्कत आई तो सैंपल लेंगे।

पांच सैंपलों की रिपोर्ट मिली, सभी निगेटिव

पानीपत में अभी तक के आंकड़े देखें तो कोरोना हारता दिख रहा है। सिविल सर्जन डॉ. संतलाल वर्मा ने बताया कि लंबित चल रही छह रिपोर्ट में से बुधवार को पांच मिली हैं। सभी निगेटिव आई हैं। कुल 17 सैंपल भेजे गए हैं, इनमें निजामुद्दीन दिल्ली से लौटे 13 लोग और मॉडल टाउन निवासी, अस्पताल में भर्ती महिला का दूसरा सैंपल भी शामिल है।

25 फीसद बेड आरक्षित

महामारी कोविड-19 और आमजन के स्वास्थ्य के आपातकाल को देख पार्क अस्पताल, सिग्नेस महाराजा अस्पताल, डॉ. प्रेम अस्पताल में 25 फीसद बेड आरक्षित किए गए हैं। इनके संचालकों को जिला प्रशासन ने स्वास्थ्य विभाग के प्रोटोकॉल के तहत डाक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ सहित अलर्ट रहने के निर्देश दिए हैं। एनसी मेडिकल कॉलेज इसराना, आयुष्मान भव: अस्पताल को कोविड अस्पताल के लिए अधिग्रहित किया है। नेशनल स्किल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट और हॉस्टल की बिल्डिंग को फैसिलिटी क्वारंटाइन के लिए चिह्न्ति किया है।

फरार युवक को पकड़ा

निजामुद्दीन दिल्ली से लौटे लोगों की स्वास्थ्य जांच कराने के लिए पुलिस धरपकड़ कर रही थी। उसी समय सूचना मिली की डाडोला से लियाकत नाम का व्यक्ति भागा है। पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उसे रिसालू रोड पर पकड़ा। स्वास्थ्य जांच के बाद समालखा फैसिलिटी क्वारंटाइन में भेज दिया।

1017 लोग होम क्वारंटाइन में

अभी तक 620 घरों में 1017 लोगों को होम क्वारंटाइन में रखा है। होम अंडर क्वारंटाइन के तहत 312 घरों के बाहर नोटिस चस्पा किए गए हैं, ताकि बाहरी लोग उस घर में प्रवेश न कर सकें। सिविल सर्जन ने सभी को लॉकडाउन पालन की नसीहत दी है।

बापौली के युवक को 14 क्‍वारंटाइन में भेजा

बापौली गांव में फरमान को पुलिस प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मंगलवार को 14 दिन के लिए घर में क्वारंटाइन किया है। बीते मंगलवार की रात वह बाहर घूमता दिखाई दिया। फरमान सोमवार को निजामुद्दीन से अपने घर पर आया। पुलिस ने इसकी सूचना स्वास्थ विभाग को दी। स्वास्थ विभाग के कर्मचारियों ने फरमान के खून के सैंपल जांच के लिए भेजा है। रिपोर्ट आने पर ही अगली कार्रवाई की जाएगी। फरमान को बाहर घूमता देखकर कालोनी वासी महावीर, राजेश, राम कुमार व धर्मवीर ने एतराज जताया। इसकी सूचना पुलिस को भी दी गई। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर फरमान को बहार आने से रोका। इस बारे मे फरमान के पिता ने कहा कि हमने इस को अलग से कमरा दे दिया है। वह 14 दिन तक उससे बाहर नहीं आएगा।

बैंक से ले गए, जमात से लौटा था

समालखा के गांव नारायणा वासी को स्‍वास्‍थ्‍य  विभाग की टीम ने पुलिस के सहयोग से नई अनाज मंडी स्थित यस बैंक से उठाया। 30 मार्च को दिल्ली जमात से आने की सूचना थी। बैंक में कैशियर है। टीम उसे अस्‍पताल में ले गए।

मतरौली में पुलिस टीम पर हमला

मतरौली में मस्जिद में इकट्ठे होकर नमाज पढ़ने से रोका गया तो पुलिस टीम पर हमला कर दिया। सब इंस्पेक्टर ने बताया कि किसी तरह बचकर निकले। रात को मौके पर डीएसपी पहुंचे। गांव वालों को समझाया कि इकट्ठे न हों। उधर, बापौली से पांच लोगों के फरार होने की सूचना। ये लोग निजामुद्दीन से लौटे थे।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *