Connect with us

City

प्रदेश में 53313 रिपोर्ट पेंडिंग, ट्रेसिंग भी प्रति मरीज केवल 9 लोगों की हो रही

Published

on

Advertisement

प्रदेश में 53313 रिपोर्ट पेंडिंग, ट्रेसिंग भी प्रति मरीज केवल 9 लोगों की हो रही

 

 

Advertisement

 

प्रदेश में लगातार दूसरे दिन 15 हजार से ज्यादा मरीज मिले। कुल 15,437 नए मरीज मिले हैं। वहीं, एक दिन में 173 मरीजों ने दम तोड़ दिया। कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बाद प्रदेश में अब निर्णय लिया गया है कि आरटी पीसीआर या रेपिड एंटीजन टेस्ट से जांच में एक बार पॉजिटिव होने पर मरीज की दोबारा जांच नहीं कराई जाएगी।

Advertisement

इसके साथ ही अब रैपिड एंटीजन टेस्ट पर ज्यादा फोकस किया जाएगा। यह निर्णय लेने के पीछे लैब पर बढ़ता लोड बताया गया है। हालांकि खुद स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कुछ दिन पहले आदेश दिए थे कि 24 घंटे में रिपोर्ट मिलनी चाहिए।

एक मरीज पर औसत 8.37 लोगों तक पहुंच रही टीम - Dainik Bhaskar

Advertisement

इसके बावजूद प्रदेश में बुधवार को 53313 टेस्ट की रिपोर्ट पेंडिंग थी। कई जिलों में 7 से 8 दिन बाद टेस्ट की रिपोर्ट आ रही हैं। अब एंटीजन टेस्ट ज्यादा किए जाएंगे, जिससे 15 से 30 मिनट में रिपोर्ट आने पर तुरंत इलाज शुरू किया जा सके। वहीं, अब हर गांव, कस्बे, शहर, स्कूल, काॅलेज, आदि में बूथ बना जांच की जाएगी। आईसीएमआर की ओर से निर्देश जारी होने के बाद ये निर्णय लिए गए हैं।

महेंद्रगढ़ में सबसे ज्यादा 5217 और हिसार में 4239 लोगों को रिपोर्ट का इंतजार

ट्रेसिंग: एक मरीज पर औसत 8.37 लोगों तक पहुंच रही टीम

सरकार टेस्टिंग व ट्रेसिंग को बढ़ाने के लिए पूरा जोर दे रही है। परंतु हरियाणा में ट्रेसिंग नहीं बढ़ पा रही है। प्रदेश में एक मरीज पर औसत 8.37 लोगों तक ही स्वास्थ्य विभाग की टीमें पहुंच पा रही है। प्रदेश के 12 जिलों की ट्रेसिंग हरियाणा के औसत से जहां कम है, वहीं 10 जिलों में इससे ज्यादा है।

चिंता की बात यह है कि केंद्र ने एक मरीज पर उसके संपर्क में आने वाले 30 लोगों तक की ट्रेसिंग का प्रावधान किया हुआ है। ताकि संक्रमण को और अधिक फैलने से रोका जा सके। प्रदेश में जींद व फतेहाबाद में तो 5-5 लोग भी ट्रेस नहीं हो पा रहें हैं। अभी नूंह में सबसे ज्यादा 19.92 तो जींद में सबसे कम 3.88 लोगों की ही ट्रेसिंग हो रही है।

खतरा: दिल्ली से सटे तीन जिलों में हैं 46.31% मरीज

प्रदेश में अब तक मिले कुल 5,61,138 मरीजों में 46.31 प्रतिशत मरीज दिल्ली से सटे गुड़गांव, फरीदाबाद व सोनीपत में मिले हैं। जबकि 23.59 प्रतिशत मौतें भी इन्हीं तीन जिलों में हुई है। 52.78 प्रतिशत एक्टिव मरीज भी इन तीन जिलों में ही है।

यानि कुल एक्टिव 1,15,303 मरीजों में इन जिलों में 60,868 मरीज यहां इलाज ले रहें हैं। पहली लहर में भी इन जिलों में काफी संख्या में मरीज मिले थे और दूसरी लहर में भी यहीं ज्यादा संक्रमण है। अब सरकार भी इन जिलों पर फोकस है। वहीं, प्रदेश में अब दम तोड़ने वालों का आंकड़ा 5245 पर पहुंच गया है। दूसरी तरफ एक दिन में 10,640 मरीज ठीक भी हुए हैं।

नई गाइडलाइंस

स्वस्थ व्यक्ति ही बिना जांच कर सकेगा यात्रा

  • प्रदेश में अब केवल स्वस्थ व्यक्ति ही बिना जांच के बाहर निकल सकेगा।
  • यदि किसी में कोरोना के लक्षण हैं, तो उसे यात्रा करने से मना किया गया है।
  • जिनमें लक्षण नहीं है, वे भी मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखेंगे।
  • किसी को डायरिया होता है तो वह भी संदिग्ध मरीज की श्रेणी में आएगा।
  • बुखार, खांसी, सिर दर्द, बदन दर्द, सुगंध और स्वाद में बदलाव होने पर भी संदिग्ध माना जाएगा।
  • अब सभी सरकारी और निजी अस्पताल आरएटी जांच कर सकेंगे।
  • आरटीपीसीआर से क्षमता तक ही जांच होगी। जिसमें लक्षण है और आरएटी में निगेटिव है तो उसकी आरटीपीसीआर जांच होगी।

 

 

Source : Bhaskar

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *