Connect with us

राज्य

दूसरी लहर की भयावहता :72 स्टूडेंट संक्रमित, देरी से बढ़ा डर; रिपोर्ट मिलने से 3 दिन पहले 51 घर लौटे

Published

on

Advertisement

दूसरी लहर की भयावहता :72 स्टूडेंट संक्रमित, देरी से बढ़ा डर; रिपोर्ट मिलने से 3 दिन पहले 51 घर लौटे

 

कोरोना की दूसरी लहर की भयावहता दिनों दिन बढ़ रही है। जान गंवाने वालें संक्रमितों का अांकड़ा थमने का नाम नहीं ले रहा है। वैश्य श्मशान घाट में मंगलवार को दो कुंड बढ़ाकर 6 किए गए तो अब ये भी फुल हो गए। यहां मंगलवार को दो शिफ्ट में 12 शवों का दाह संस्कार किया गया। इनमें जिले के 6 मरीज शामिल हैं।

Advertisement

मृतकों में वाले गोकर्ण, कलानौर, पटेल नगर, देव नगर सांपला, कटेसरा व हुडा सेक्टर से हैं। लेकिन सरकारी बुलेटिन में एक भी मौत दर्ज नहीं दर्शाई गई है। यही वजह की सरकारी स्तर पर सात दिन से मौतों का आंकड़ा 172 पर ही अटका है। दूसरी ओर प्रबंधों की खामियां भी लगातार सामने आ रही हैं।

जिले में मंगलवार को पीजीआईएमएस के कोविड-19 के नोडल ऑफिसर डॉ. वीके कत्याल समेत जिले में 104 नए मामले सामने आए हैं। इनमें 72 स्टूडेंट्स भी शामिल हैं। जिले में मरीजों के पॉजिटिव होने का आंकड़ा बढ़कर 1061 तक पहुंच चुका हैं। मंगलवार को 2745 सैंपल जांच के लिए भेजे गए। इनमें से अभी 1766 मरीजों की रिपोर्ट आना बाकी है।

Advertisement

ऐसे में पॉजिटिव होने की दर 4.21 फीसदी पर पहुंच गई है, जबकि रिकवरी दर घटकर 91.39 फीसदी रह गई है। मंगलवार को 2302 लोगों को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज और दूसरी डोज 389 लोगों को लगाई गई। डॉ. कत्याल के कोरोना संक्रमित होने पर अब उनकी जगह पर मेडिसन विभाग के एचओडी डॉ. राजेश राजपूत को जिम्मेदारी दे दी गई है।

Advertisement

कोरोना मरीजाें के साथ रूकना चाहते हैं तीमारदार, हंगामा किया तो बुलानी पड़ी पुलिस

पीजीआई ट्रामा सेंटर में दाखिल कोरोना संक्रमितों के तीमारदारों ने मंगलवार को हंगामा किया। ये तीमारदार संक्रमित मरीजों के साथ वार्ड में उनकी देखभाल के लिए रहने देने की मांग कर रहे थे। तीमारदारों का कहना था कि उनके मरीजों को अंदर ठीक ढंग से दवा देने के लिए भी कोई नहीं है। दो दिन से वो ऐसे हालात देख रहे हैं। उन्हें मरीज से मिलने तक नहीं दिया जा रहा। बाद में पुलिस ने सभी को समझाकर वहां से निकाला।

तीन दिन पहले घर जा चुके हैं 51 नर्सिंग स्टूडेंट भी पॉजिटिव

सैंपलिंग का वर्कलोड बढ़ते ही अब सैंपल रिपोर्ट भी तीन दिन तक आने लगी है। इसके साइड इफेक्ट भी सामने आ रहे हैं। बालंद नर्सिंग कॉलेज के 51 स्टूडेंट्स पॉजिटिव मिले हैं। ये सभी गुरुग्राम, बहादुरगढ़, रोहतक व अन्य जिलों से हैं। रिपोर्ट आने से तीन दिन पहले घर लौट चुके हैं। कॉलेज संचालक संजय बड़क का कहना है कि पीएचसी बालंद की टीम से सैंपलिंग करवाई थी। अब तीन दिन बाद रिपोर्ट आई है। अब इन सभी को होम आईसोलेट करने के लिए मैसेज किया है।

संक्रमित वकील की व्यथा, 4 बार पॉलीथिन में पेशाब करना पड़ा

कोरोना संक्रमित होने के बाद पीजीआईएमएस में दाखिल हुए रोहतक के एक वकील ने व्यवस्था पर सवाल खड़े किए हैं। एडवोकेट 1 अप्रैल को पीजीआई में दाखिल हुए थे। 12 अप्रैल को डिस्चार्ज हुए। अब सोशल मीडिया पर बताया है कि यहां डाक्टर्स, नर्सिस व पैरा मेडिकल स्टाफ ओवरलोड से जूझ रहे हैं। सफाई कर्मचारियों की भी भारी कमी है। उन्हें खुद 4 बार पॉलीथिन में पेशाब करना पड़ा।

 

 

Source : Bhaskar

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *