Connect with us

City

8 किमी लंबा फोरलेन; आपस में जुड़ेंगे पहले से बने तीनों पुल, एजेंसी ने सर्वे कर तैयार की DPR

Published

on

8 किमी लंबा फोरलेन; आपस में जुड़ेंगे पहले से बने तीनों पुल, एजेंसी ने सर्वे कर तैयार की DPR

हरियाणा के हिसार शहर में 8 किमी लंबा फोरलेन ऐलिवेटिड रोड बनाया जाएगा, जो रोड सातरोड के पास जिंदल पुल से शुरू होकर सिरसा हाइवे के पास सेक्टर 14 तक बनेगा। सर्वे एजेंसी ने इस काम के लिए करीबन 1100 करोड़ का खर्चा बताया है। ऐलिवेटिड रोड के लिए पहले से बने तीनों पुलों को नए फोरलेन पुल के लिए जरिए आपस में जोड़ा जाएगा। यह पहला ऐलिवेटिड रोड होगा जो शहर के बीच से गुजरेगा। ऐलिवेटिड रोड के लिए डीपीआर (डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) पर काम पूरा हो गया है।

एजेंसी की ओर से सैटेलाइट और जीपीएस की मदद से सर्वे कार्य किया गया है। एजेंसी द्वारा सौंपी गई प्रोजेक्ट रिपोर्ट में छह जगहों पर एंट्री व एग्जिट प्वाइंट बनाए गए हैं। इनमें सेक्टर 14 के पास, ग्रीन स्क्वेयर मार्केट के पास, छोटूराम चौक, डाबड़ा चौक, जिंदल चौक आदि प्वाइंट शामिल हैं। इन प्वाइंट पर ऐलिवेटिड रोड पर चढ़ा जा सकेगा व नीचे भी उतरा जा सकेगा। कैंप चौक व नागौरी गेट के पास जगह की कमी के कारण एंट्री व एग्जिट प्वाइंट नहीं बन सके हैं। प्वाइंट बनाने के लिए उन एरिया पर अधिक फोकस किया जाएगा, जहां ट्रैफिक जाम होता है। एलिवेटेड रोड बनने से शहर को जाम से मुक्ति मिल सकेगी।

क्यों बनाया जा रहा है पुल और क्या होगा फायदा

हिसार शहर एक ही मुख्य सड़क पर बसा हुआ है, इसलिए वाहनों का दबाव इसी मुख्य सड़क पर होता है। वाहनों का ज्यादा दबाव होने के कारण अक्सर इस सड़क पर जाम की समस्या रहती है। जाम लगने के कारण पूरे शहर का ट्रैफिक प्रभावित होता है। सड़क की चौड़ाई बढ़ाने के लिए जगह नहीं है, जिस कारण से सड़क की जमीन पर ही एक और ऊपरी सड़क बनाई जाने की योजना तैयार की गई है, जिससे शहर के लोगों को दो सड़कें मिल जाएंगी और जाम की समस्या से निजात मिलेगी।

अभी तक जिंदल पुल से बस स्टैंड पार करने में करीब 45 मिनट का समय लगता है। लोगों को बस स्टैंड तक जाने के लिए भी कई बार सोचना पड़ता है। एलिवेटिड रोड बनने से महज 15 मिनट में जिदल पुल से बस स्टैंड तक जा सकेंगे। शहर का ऐलिवेटिड रोड उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला का ड्रीम प्रोजेक्ट है। शहर को जाम से बचाने के लिए सांसद रहते दुष्यंत चौटाला ने प्रपोजल भेजा था। अब उपमुख्यमंत्री बनने के बाद वह इसे सिरे चढ़ाना चाहते हैं।

उपमुख्यमंत्री बनने के बाद नवंबर 2020 में उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने एलिवेटिड रोड की संभावनाओं को देखते हुए बीएंडआर के अधिकारियों के साथ बैठक की थी। इस काम को जिसे सिरे चढ़ाने की जिम्मेदारी बीएंडआर विभाग को सौंपी थी। सर्वे कंपनी के मैनेजर अजय कुंडू के अनुसार, उन्होने पूरे प्रोजेक्ट की डीपीआर तैयार करके विभाग को सौंप दी है। एक बार फिर से एंट्री व एग्जिट प्वाइंट पर विचार किया जाएगा।

 

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *