Connect with us

पानीपत

एक पक्ष का आरोप- चारदीवारी, निर्माणाधीन कमरा भाजपा नेता सुरेंद्र रेवड़ी व अन्य ने तोड़ा, दूसरा पक्ष बोला- जमीन के मालिक हम, चार दीवारी क्यों गिराएंगे

Published

on

Advertisement

एक पक्ष का आरोप- चारदीवारी, निर्माणाधीन कमरा भाजपा नेता सुरेंद्र रेवड़ी व अन्य ने तोड़ा, दूसरा पक्ष बोला- जमीन के मालिक हम, चार दीवारी क्यों गिराएंगे

रिसालू रोड के पास टीडीआई में करोड़ों की जमीन पर दो पक्षों में विवाद हो गया है। दोनों जमीन पर मालिकाना हक जता रहे हैं। एक पक्ष का आरोप है कि जमीन पर चार दीवारी थी, अब कमरा बना रहे थे। 3 दिन पहले भाजपा नेता सुरेंद्र रेवड़ी व अन्य ने जेसीबी से दीवार व कमरा तोड़ दिया। उसने पुलिस को इसकी शिकायत भी दी। वहीं, दूसरे पक्ष ने कहा कि जमीन पर मालिकाना हक उनका है।

Advertisement

चार दीवारी भी उन्होंने कराई थी तो गिराएंगे क्यों। सुरेंद्र रेवड़ी बोले कि मामले से मेरा कोई लेना-देना नहीं है। मैं तो पंचायती तौर पर गया था। मामले में डीएसपी हेड क्वार्टर सतीश कुमार वत्स ने बताया कि जांच की जा रही है। एक जमीन पर दो रजिस्ट्री हो रही हैं। पुलिस ने इस संबंध में तहसीलदार को पत्र लिखा है। जांच के बाद ही पता चलेगा कि जमीन का मालिक कौन है।

Advertisement

 

 

Advertisement

20 साल पहले हिस्सेदारी में खरीदी थी जमीन, अब हड़पने की कोशिश

ईदगाह कॉलोनी के रामनिवास और छाजपुर खुर्द निवासी ओमप्रकाश का दावा है कि 2000 और 2005 में रिसालू गांव निवासी देईराम से टीडीआई में 1695 गज जमीन खरीदी थी। देईराम अब गन्नौर में रहता है। जमीन में 4 हिस्सेदार थे। इसमें उसकी 300 गज, रिशपुर निवासी कृपाल की 625 गज और ओमप्रकाश व उसकी पत्नी की 770 गज जमीन थी। 2018 में जमीन पर चारदीवारी कराई थी।

आरोप है कि करीब डेढ़ माह पहले साफ-सफाई कर रहे थे, तब कुछ लोग आए और प्लाॅट को अपना बता पुलिस बुला ली। तब से पुलिस को कागजात दिखा रहे थे। सुनवाई नहीं होने पर डीएसपी के पास पेश हुए। उनके कहने पर करीब 15 दिन पहले जमीन पर कमरा बना रहे थे। 11 अक्टूबर को सुरेंद्र रेवड़ी, सोम गार्डन का मालिक विनोेद व अन्य ने जेसीबी से कमरा व चारदीवारी तोड़ दी। उनके प्लाट को हड़पने की कोशिश की जा रही है। जबकि उनके पास इंतकाल, रजिस्ट्री, निशानदेही, नक्शा सारे सबूत हैं।

 

 

रामनिवास और ओमप्रकाश को गांव में बेची थी जमीन, उसके सारे सबूत हैं

देईराम ने बताया कि रामनिवास व ओमप्रकाश को 1240 गज जमीन बेची थी। जोकि रिसालू के सरकारी स्कूल व तालाब के पास थी। अब दोनों गांव की जमीन को टीडीआई में बताकर हड़पना चाहते हैं। दोनों को जमीन बेचने के सारे सबूत हैं। टीडीआई में उसकी 3448 गज जमीन थी। उसने 625 गज जमीन कृपाल को बेची थी। 2019 में 3267 गज जमीन सेक्टर 25 निवासी राजीव सिंगला को बेच दी। विवाद सिर्फ इतना है कि कुल जमीन 3448 गज थी तो राजीव व कृपाल के नाम 3892 गज की रजिस्ट्री कैसे हो गई। सिंगला को जमीन बेचने से पहले 2018 में उसने जमीन पर चार दीवारी कराई थी। न कि रामनिवास और ओमप्रकाश ने।

 

 

जमीन के बारे में चल रही थी बात : रेवड़ी

सुरेेंद्र रेवड़ी ने कहा कि राजीव सिंगला से जमीन खरीदने के बारे में उनकी बातचीत चल रही थी, सौदा नहीं हुआ था। मामले से मेरा कोई लेना-देना नहीं है। मैं तो भाईचारे के नाते पंचायती तौर पर गया था। चारदीवारी व निर्माणाधीन कमरा तोड़ने की बात सरासर झूठी हैं, क्योंकि वह 10 दिन से शहर से बाहर थे। 11 अक्टूबर की रात को ही वह पानीपत लौटे।

 

Source : Bhaskar

Advertisement