Connect with us

City

अजब-गजब: पिता का यूपी में किया था पिंडदान, अब हरियाणा में मिला जिन्दा

Published

on

Advertisement

शायद ही कभी ऐसा हो कि 28 साल पहले जिस पिता का पिंडदान कर दिया जाए वो जीवित मिले। लेकिन ऐसा हुआ और ये सच है। बेटे ने पिता को सामने देखा तो उसके आंसू नहीं रूक रहे थे। बेटे ने खुद पिता का पिंडदान किया था।

जिस व्यक्ति को 28 वर्ष पहले परिवार के लोग मरा हुआ मान चुके थे। वह जीवित निकले। बुजुर्ग को अपने परिवार से मिलाने वाले स्टेट क्राइम ब्रांच पंचकूला की एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल में तैनात एएसआइ राजेश कुमार हैं। बुजुर्ग यमुनानगर के सरस्वती नगर के गांव मगरपुर में नी आसरे दा आसरा आश्रम में रह रहे थे। बृहस्पतिवार को उनके परिवार के लोग पहुंचे और साथ लेकर गए।

Advertisement

उत्‍तर प्रदेश के मिर्जापुर का रहने वाला बुजुर्ग

एएसआइ राजेश कुमार ने बताया कि 60 वर्षीय रोहित मूल रूप से उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले के गांव बिजुअल का रहने वाले हैं। वह उत्तर प्रदेश में होमगार्ड में नौकरी करते थे। करीब 28 साल पहले घर से नौकरी पर जाने के लिए निकले थे, लेकिन वापस नहीं लौटे। अप्रैल 2021 में कुरुक्षेत्र के शाहबाद में रोहित नी आसरे दा आसरा आश्रम के संचालक जसकीरत को मिल गए। उनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी। उनका आश्रम में इलाज कराया गया। मानसिक स्थिति कुछ ठीक हुई तो आश्रम की तरफ से स्टेट क्राइम ब्रांच पंचकूला की एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल को जानकारी दी गई ।

स्टेट क्राइम ब्रांच पंचकूला की एंटी ह्यूमन ट्रेफिकिंग सेल में तैनात एएसआइ राजेश कुमार ने तलाशा परिवार।

Advertisement

इंटरनेट के माध्‍यम से तलाशा गांव

इसके बाद एएसआइ राजेश कुमार ने बुजुर्गवार की घंटे भर काउंसिलिंग की तो उन्होंने अपने गांव का नाम बिजुअल बताया। राजेश ने इंटरनेट के माध्यम से गांव को तलाशा। कई गांव इस नाम के मिले। सभी में गांव के प्रधान से बात की। फिर एक गांव के प्रधान ने बुजुर्गवार की पहचान कर ली। वाट्सएप के माध्यम से फोटो भेजे गए तो परिवार वालों की खुशी का ठिकाना न रहा। उन्होंने भी वीडियो काल कर बात की। फिर परिवार वालों को बुलाया गया और वे बुजुर्ग को साथ ले गए।

परिवार अब प्रयागराज में

रोहित की ससुराल उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले के गांव मांडा में है। करीब 30 साल पहले वह भी प्रयागराज में ही जाकर रहने लगे थे। लापता भी वहीं से हुए। उस समय उनके बड़े बेटे अमरनाथ की उम्र 14 वर्ष थी। इस समय वह गुरुग्राम में मारुति कंपनी में नौकरी करते हैं। अमरनाथ ने बताया कि काफी तलाश के बाद भी पिता का पता नहीं लगा तो मान लिया कि वह नहीं रहे। उनका पिंडदान तक कर चुके थे।

Advertisement
Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *