Connect with us

Cities

Ambala में Coronavirus के दो संदिग्‍ध, एक कुवैत से लौटा था, सैंपल जांच को भेजे गए

Published

on

छावनी और शहर में कोरोना वायरस के दो संदिग्ध मरीज मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग ने संदिग्ध मरीजों के नमूने लैब में जांच के लिए भेज दिया है। वहीं दोनों मरीजों को निगरानी के लिए आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। चिकित्सकों के अनुसार  इनमें से व्यक्ति पांच मार्च को कुवैत से आया था जबकि दूसरा उसका ही दोस्त है। दोनों को फ्लू के लक्षण मिले हैं। इसके अलावा बलदेव नगर के एक व्यक्ति ने खुद ही कोरोना वायरस की जांच के लिए पहुंच गया। व्यक्ति का कहना था कि वह विदेश से आने वाले के संपर्क में आया था।

स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वायरस को लेकर किसी प्रकार की लापरवाही बरतना नहीं चाहता है। वहीं शिकायत मिलने पर सीधे मरीजों की स्क्रीनिग और फ्लू की जांच की जा रही है। वहीं बुधवार की दोपहर 3 बजे एक संदिग्ध मरीज ट्रोमा सेंटर की ओपीडी में पहुंचा। यहां पर चिकित्कों ने स्क्रीनिंग करने के बाद संदिग्ध मरीज का नमूना लैब में भेज दिया है।

चिकित्सकों ने बताया कि युवक पांच मार्च को कुवैत से लौटा था। इसके बाद युवक अपनी कंपनी में कार्य करने के लिए पहुंच गया। इस दौरान युवक को खांसी और जुकाम के लक्षण होने लगे। वहीं कंपनी में कार्य करने वाले दोस्त भी संपर्क में आने से जुकाम व खांसी के लक्षण आने लगे। इस पर कंपनी के प्रबंधक ने युवक को अवकाश पर घर भेज दिया। साथ ही चिकित्सकों को दिखाने की सलाह दी। इसके बाद युवक ट्रोमा सेंटर की ओपीडी में जांच करने के लिए पहुंचा। यहां पर युवक की फ्लू और कोरोना वायरस की जांच के लिए पीडि़त युवक का नमूना लेकर जांच के लिए लैब को भेज दिया है।

वहीं पीडि़त युवक को ट्रोमा सेंटर के आईसोलेन वार्ड में निगरानी में रखा गया है। वहीं दोस्त को छावनी के नागरिक अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। वहीं बलदेवनगर के व्यक्ति खुद ही ट्रोमा सेंटर में फ्लू की ओपीडी जांच के लिए पहुंची।  व्यक्ति ने खुद बताया कि वह एक दुबई से आने वाले युवक के संपर्क में आया था। इस पर स्वास्थ्य विभाग ने नमूना जांच के लिए भेज दिए हैं। जबकि बलदेव नगर के युवक खुद को घर में अलग रख रहा है। इसलिए आईसोलेशन वार्ड में नहीं रखा गया है।व् स्वास्थ्य विभाग की माने तो ट्रोमा सेंटर से बुधववार को जांच के लिए तीन नमूने भेजे हैं।

अस्पताल परिसर में भी फ्लू ओपीडी बनी

नागरिक  अस्पताल परिसर में फ्लू की ओपीडी बना दी गई है। यहां पर फ्लू के मरीजों की स्क्रीनिंग की जा रही है। यदि मरीज में फ्लू के लक्षण होते हैं, तो सीधे ट्रोमा सेंटर की ओपीडी में भेजा जाता है। यहां पर मरीजों को हाथ धौने के लिए साबुन भी और पानी रखा है। वहीं ट्रोमा सेंटर से संदिग्ध मरीजों की फ्लू और कोरोना वायरस की जांच के लिए नमूना दिल्ली लैब में भेजा जाता है। बुधवार को ट्रोमा सेंटर की ओपीडी में करीब 40 मरीजों की जांच की गई। हालांकि अभी तक किसी में कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज नहीं मिला है।

स्टॉफ को नहीं मिल रहे मॉस्क

नागरिक अस्पताल के ट्रोमा सेंटर  में फ्लू की ओपीडी बनाई है। यहां पर कोरोना और स्वाइन फ्लू के मरीजों की जांच की जा रही है। यहां पर कार्य करने वाले कर्मियों को मॉस्क नहीं मिल रहे हैं। यहां पर एंबुलेंस और अन्य कर्मियों के पास मॉस्क नहीं है। मजबूरी में कर्मचारी अपने पैसे के मॉस्क खरीदने के लिए मजबूर है।

संदिग्ध मरीजों के नमूनों जांच के लिए भेज दिए हैं। पीडि़त व्यक्ति पांच मार्च को कुवैत से लौटा था। वहीं दूसरी युवक उसके संपर्क में आया था। वहीं लैब से संदिग्धों की रिपोर्ट आने के बाद घर भेज दिया जाएगा।

डाक्‍टर कुलदीप सिंह, सीएमओ, स्वास्थ्य विभाग 

सिनेमा हॉल बंद, मॉल में पसरा सन्नाटा, कारोबार भी प्रभावित

कोरोना वायरस को लेकर लोगों में भय है। इसका सीधा प्रभाव मॉल और बाजारों में देखने को मिल रहा है। शहर के मॉल में सन्नाटा पसरा है। कारोबार पर भी इसका प्रभाव पड़ रहा है। बुधवार को शहर के सभी मॉल्स में लोगों की संख्या काफी कम रही। मॉल के दुकानदारों के हिसाब से एक चौथाई लोग ही मॉल में पहुंचे। वहीं प्रशासन के आदेश के बाद सिनेमा हॉल और जिम भी बंद कर दिए गए हैं। सामाजिक कार्यक्रमों को भी स्थगित कर दिया गया है।

गलेक्सी मॉल में रोज के मुकाबले आधे से भी कम लोग आ रहे हैं। यहां पर सिनेमा हॉल भी बंद कर दिया गया है।

Ambala में Coronavirus के दो संदिग्‍ध, एक कुवैत से लौटा था, सैंपल जांच को भेजे गए

जसमीत सिंह, गेलैक्सी मॉल, सेक्टर-सात 

कोरोना के चलते कारोबार पूरी तरह से प्रभावित हो चुका है। शाम होने पर बाजार में लोगों की भीड़ लगी रहती थी। लेकिन अब सन्नाटा पसरा रहता है।

संदीप सैनी, लक्ष्मी नगर, शहर 

कोरियर सेनेटाइजर दूसरे राज्य में आपूर्ति 

अंबाला से कोरियर से सेनेटाइजर दूसरे राज्य में भेजे जा रहे हैं। शहर में मेडिकल स्टोर पर सेनेटाइजर की कालाबजारी रोकने के लिए औषधि विभाग की छापेमारी जारी है। वहीं लोगों ने कोरियर के माध्मय से सेनेटाइजर मंगा रहे हैं। ऐसे में कोरियर वालों की चांदी हो रही है। इस वजह से कोरियर सर्विस पर रोजाना के मुकाबले दो गुना पार्सल पहुंच रहे हैं। इन पार्सलों में सेनेटाइज दूसरे राज्य में आपूर्ति की जा रही है।

गुजरात से अंबाला के बाजार में पहुंची सिंगल यूज मास्क

कोरोना वायरस को रोकने के लिए बाजारों में गुजरात के सूरत से सिंगल यूज मास्क की खेप पहुंच चुकी है। छावनी के राम बाजार, सदर बाजार, महेशनगर, कैपिटल चौक के अलावा शहर के कपड़ा मार्केट सहित अन्य मुख्य बाजारों में कपड़े से लेकर जनरल स्टोर पर भी यह सिंगल यूज मास्क बिक्री के लिए सज चुके हैं। बुधवार को छावनी के रामबाजार रोड पर दुकानों पर सिंगल यूज होने वाला मास्क प्रति 100 पीस का पैकेट 120 से 150 रुपये के बीच बेचा गया। इसी तरह छावनी के मेडिकल स्टोरों पर यही मास्क 10 से 15 रुपये के बीच बिका।

टीम गठित

प्रशासन ने मास्क की बिक्री पर नजर रखने और कालाबाजारी रोकने के लिए ड्रग्स इंस्पेक्टर के साथ खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अधिकारियों की टीम गठित की। टीम को निर्देश दिए गए वह मेडिकल स्टोरों पर चेकिंग करके मास्क की बिक्री के बारे में जानकारी एकत्र करके रिपोर्ट देंगे। इस पर मंगलवार को खाद्य आपूर्ति विभाग के इंस्पेक्टर दीपक कुमार अपने कार्यालय के कर्मचारियों के साथ बिना ड्रग्स इंस्पेक्टर के साथ छावनी के कुछ मेडिकल स्टोरों पर जांच किया। इस दौरान दुकानों पर मास्क मंगाने से लेकर बेचे जाने की जानकारी लिखित रूप से ली। जबकि बुधवार को सुबह से ही शहर से लेकर छावनी के मुख्य बाजारों में सिंगल यूज मास्क की धड़ल्ले से हुई।

source jagran.com

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *