Connect with us

City

एक और फैक्ट्री में लगी आग, भवन के चारों ओर जगह न होने से 9 घंटे में पाया जा सका काबू

Published

on

Advertisement

एक और फैक्ट्री में लगी आग, भवन के चारों ओर जगह न होने से 9 घंटे में पाया जा सका काबू

पानीपत शहर व आसपास के ग्रामीण एरिया स्थित फैक्ट्रियाेें में आग लगने का सिलसिला जारी है। रविवार काे भी जालपाड़ गांव के पास स्थित एक और धागा मिल में आग लग गई। महालक्ष्मी इंटरप्राइजेज नाम की इस धागा मिल में आग लगने का कारण शाॅर्ट सर्किट बताया जा रहा है।

फैक्ट्री मालिक ने भवन निर्माण में नियमाें का पालन पूरी तरह से नहीं किया, इसी कारण आग पर समय रहते काबू नहीं पाया जा सका। सुबह 7 बजे लगी आग शाम 4 बजे तक काबू हाे पाई। इसके बाद भी दमकल विभाग के कर्मचारी गाड़ियाें के साथ माैके पर तैनात रहकर आग काे पूरी तरह से शांत करने में लगे रहे।

Advertisement

दमकल विभाग के जिला अधिकारी रामेश्वर सिंह व कर्मचारी अमित गाेस्वामी ने बताया कि सूचना के कुछ ही समय बाद हमारी टीम गाड़ियाें के साथ माैके पर पहुंच गई। सुबह 7 बजे लगी आग शाम 4 बजे तक काबू हाे पाई। इस दाैरान साताें गाड़ियों ने 100 से ज्यादा चक्कर लगाए।

Advertisement

2 हिस्सों में बांट रखा था भवन, गाड़ियां भी नहीं घूम पाई

  • 1. भवन के चाराें और खाली जगह नहीं छाेड़ी : फैक्ट्री मालिक ने इसका भवन निर्माण कराते समय चाराें और काेई जगह खाली नहीं छाेड़ी। इसलिए गाड़ियां भवन के चाराें और नहीं घूम पाई।
  • 2. भवन के कंस्ट्रक्शन में किसी भी प्रकार से नियमाें का पालन नहीं किया गया। इसकी छत पर सीमेंट की चादरें ही लगी थी।
  • 3. बीचाें बीच बना रखी थी गैलरी : भवन के बीच बीचाें की एक गैलरी बनाकर इसे 2 हिस्साें में बांटा हुआ था। इस गैलरी में आग वाले भवन का मलबा जमा हाे गया। इसे बड़ी मुश्किल से हटाया गया।

माल व मशीन हुई नष्ट

Advertisement

आग में फैक्ट्री का एक हिस्सा पूरी तरह से नष्ट हाे गया। दूसरा हिस्सा सुरक्षित बच गया। मालिक विकास गर्ग ने बताया कि कर्मचारियों ने सूचना दी थी। आशंका है कि आग शाॅर्ट सर्किट से लगी थी। गाेदाम वाले हिस्से में रखा तैयार व कच्चा माल नष्ट हाे गया है। इसमें कुछ मशीनें भी लगी थी। ये भी नष्ट हाे गईं।

 

Advertisement