Connect with us

राज्य

श्मशान घाटों की पड़ताल में दिखी आंकड़ों से अलग तस्वीर, सरकार ने 41 मौतें बताईं, जबकि प्रदेश में कोविड प्रोटोकॉल से 115 चिताएं जलीं

Published

on

Advertisement

श्मशान घाटों की पड़ताल में दिखी आंकड़ों से अलग तस्वीर, सरकार ने 41 मौतें बताईं, जबकि प्रदेश में कोविड प्रोटोकॉल से 115 चिताएं जलीं

 

प्रदेश सरकार कोरोना के गंभीर मरीजों के साथ मौतों का सच भी छिपाती दिख रही है। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में मंगलवार को कोरोना से 41 मौतें बताई गईं। जबकि भास्कर ने सभी 22 जिलों में श्मशान घाटों की पड़ताल की तो सामने आया कि एक ही दिन में कोविड प्रोटोकॉल से 115 दाह संस्कार हुए हैं। फरीदाबाद में सर्वाधिक 29 दाह संस्कार हुए, पर रिपोर्ट में सिर्फ 5 मौतें दिखाईं।

Advertisement

राेहतक | प्रदेश में मौतों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इसके चलते श्मशान घाटों पर चिताएं ठंडी भी नहीं हो पा रहीं। रोहतक के वैश्य काॅलेज राेड स्थित शिव मंदिर के शमशान घाट में एक दिन में 12 शवों का संस्कार हुआ। - Dainik Bhaskar

गुड़गांव में 22 में से सिर्फ 4 मौतें दिखाई गईं। रोहतक में 12, पानीपत में 6 और पंचकूला में 3 दाह संस्कार हुए, जबकि सरकारी रिकॉर्ड में एक भी मौत नहीं बताई गई। राज्य में 24 घंटे में 8420 नए मरीज मिले हैं। सक्रिय मरीज 51,601 हो गए हैं।

Advertisement

पॉजिटिविटी रेट बढ़ने के कारण गृह व स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा है कि प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना के बुखार, खांसी व जुकाम जैसे लक्षणों वाले मरीजों का कोरोना टेस्ट करना होगा।
सीएम मनोहर लाल ने कहा, ‘पानीपत में 500 से 1000 बेड का कोविड अस्पताल बनाने के लिए डीआरडीओ से बात की है। इसका उपयोग इमरजेंसी में होगा।

लापरवाही: वेंटिलेटर डिब्बों में, लोगों की सांसें टूट रहीं

Advertisement

रवि हसीजा. जींद, जींद के सिविल अस्पताल और सीएचसी में 13 वेंटिलेटर 15 दिन से डिब्बों में ही बंद पड़े हैं। ये इंस्टॉल तक नहीं हैं। कोरोना संक्रमण की भयावह स्थिति में ये वेंटिलेटर कई की जिंदगी बचा सकते हैं। सरकारी अस्पताल के आईसीयू में अभी 6 वेंटिलेटर इंस्टॉल हैं। वेंटिलेटर बेड न मिलने से एक महिला की मौत हो चुकी है। सिविल सर्जन डॉ. मनजीत सिंह ने बताया कि वेंटिलेटर चलाने के लिए डॉक्टरों को प्रशिक्षित कराया जाएगा। उसके बाद सभी इंस्टॉल करा दिए जाएंगे, ताकि मरीजों को परेशानी न हो।

संक्रमण कैसे रुकेगा? मरीज रोज 11% बढ़े, पर टेस्टिंग सिर्फ 6% बढ़ी

पिछले 10 दिन में कोरोना के नए मरीजों की संख्या रोज औसतन 11.39% की दर से बढ़ी है। 10 दिन में ही रोजाना मिलने वाले नए मरीजों की संख्या करीब तीन गुना तक बढ़ चुकी है।

10 दिन में टेस्टिंग रोज औसतन सिर्फ 6.2% की दर से बढ़ी है। 90 हजार क्षमता के मुकाबले रोज औसतन 40 हजार सैंपलिंग। कई जगह वायल खत्म हो रही हैं। रिपोर्ट 2 से 7 दिन में आ रही।

10 दिन में पॉजिटिविटी रेट दोगुना हो चुका है। 11 अप्रैल को 9.9% था। 20 अप्रैल को 18% रहा। 10 दिन में पॉजिटिविटी रेट औसतन 14.55% रहा। सोमवार को यह रिकॉर्ड 21% पर पहुंचा था।

 

 

Source : Bhaskar

Advertisement