Connect with us

राज्य

हरियाणा सरकार ने बंद को बताया विफल, कहा- किसान तो खेतों में फसल काटने में व्यस्त

Published

on

Advertisement

हरियाणा सरकार ने बंद को बताया विफल, कहा- किसान तो खेतों में फसल काटने में व्यस्त

 

हरियाणा मेें तीन कृषि विधेयकों के विरोध में भारत बंद (Bharat Bandh) का आंशिक असर हुआ है। हरियाणा सरकार ने दावा किया है कि राज्‍य में यह बंद पूरी तरह विफल रहा है। हरियाणा केे सीएम मनोहरलाल ने कहा कि किसान तो खेतों मेें फसल की कटाई में व्‍यस्‍त ह‍ैं। 90 से 95 फीसदी किसान अपने खेतों में धान और बाजरे की फसल काटने तथा कपास की फसल बीनने में लगेे थे। उन्हें कांग्रेस प्रायोजित इस बंद से कोई लेना देना नहीं था और यह बंद पूरी तरह से विफल रहा है। प्रदेश के वास्तविक किसानों ने इस बंद को सिरे से नकार दिया है।

Advertisement

हरियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहर लाल। (फाइल फोटो)

कहा- स़ड़कों पर उतरकर आंशिक विरोध करने वालों में कांग्रेसी शामिल

Advertisement

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि पहले कांग्रेस के नेता लोकसभा में इन बिलों का समर्थन करते थे, लेकिन आज तक उन्हें पास करने का साहस नहीं कर पाए। भाजपा ने आढ़तियों व किसानों की आर्थिक सुरक्षा वाले इन विधेयकों को पास किया तो अब कांग्रेसी विरोध पर उतर आए हैं। मनोहर लाल ने कहा कि कांग्रेस का विरोध सिर्फ विरोध करने के लिए है और इस आंशिक बंद में कोई वास्तविक किसान शामिल नहीं हुआ है। पूरे प्रदेश में शांति व्यवस्था कायम रही तथा जहां भी मार्ग को बाधित करने की कोशिश की गई, वह कांग्रेस के लोग थे।

Punjab farmers find a better way to grow paddy - The Hindu

Advertisement

मनोहरलाल और जेपी दलाल ने कहा 1 अक्टूबर से एमएसपी पर होगी फसलों की खरीद

हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल ने मीडिया कर्मियों से बातचीत में कहा कि प्रदेश में 1 अक्टूबर से धान की खरीद शुरू हो जाएगी। प्रदेश सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसलों की खरीद करेगी। यदि किसान चाहेंगे तो उनकी फसल का दाम सीधे दिया जाएगा। यदि किसानों की इच्छा होगी कि उन्हें आढ़तियों के माध्यम से ही फसल के दाम मिले तो सरकार वैसी ही व्यवस्था करेगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों की आय डबल करने के लिए इन तीन कृषि विधेयकों को मंजूरी दिलाई है।

 

 

दादरी के निर्दलीय विधायक सोमवीर सांगवान ने कहा कि किसानों के भेष में मुट्ठी भर कांग्रेसी धरने पर बैठे। उन्होंने सोनिया गांधी व राहुल गांधी को खुश करने के लिए यह नाटक किया। जेपी दलाल ने कहा कि किसान पिछले पांच दशक से अपनी आय में बढ़ोतरी का इंतजार कर रहे हैं।

उन्‍होंने कहा कि मोदी सरकार ने उन्हें यह मौका दिया है। हुड्डा ने कांग्रेस के चुनाव घोषणा पत्र में अक्सर इन वादों को डाला, मगर वह उन्हें पूरा कराने का साहस नहीं कर पाए। उन्होंने कहा कि विपक्ष रके हाथों में किसान नहीं बल्कि बिचौलिये हैं, जिन्हें सरकार का कोई समर्थन हासिल नहीं है।

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *