Connect with us

कोरोना वायरस

देशभर में फँसे है बिहारी भाई-बहन, मगर बिहार सरकार नहीं लाना चाहती उन्हें घर

Published

on

पटना. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के खतरे को देखते हुए पूरे भारत में लॉकडाउन (Lockdown) है. ऐसे में बिहार से ताल्लुक रखने वाले हजारों लोग दूसरे प्रदेशों में फंस गए हैं. चुनावी रणनीतिकार और जेडीयू के पूर्व उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने दिल्ली और अन्य शहरों में फंसे लोगों की मदद करने की अपील की है. इस बहाने उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को भी अपने निशाने पर लिया और उन्हें राहत नहीं पहुंचाने का आरोप लगाते हुए लिखा, ‘शेम ऑन नीतीश कुमार’.

प्रशांत किशोर ने अपने ट्वीट में लिखा, ”दिल्ली और अन्य कई जगहों पर बिहार के सैकड़ों गरीब लोग लॉकडाउन की वजह से फंसे हुए हैं. नीतीश कुमार जी, जब दुनिया भर की सरकारें अपने लोगों की मदद कर रही हैं, बिहार सरकार इन लोगों को इनके घरों तक पहुंचाने अथवा जहां ये लोग हैं वहीं कुछ फ़ौरी राहत की व्यवस्था क्यों नहीं कर रही है?” प्रशांत किशोर ने अपने इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए ‘शेम ऑन नीतीश कुमार’ हैशटैग शेयर किया है.

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार आधी रात से ही संपूर्ण भारत में लॉकडाउन का ऐलान किया है. जबकि बिहार में ये 23 मार्च से ही लागू हो गया. ऐसे हालात में बिहार से ताल्लुक रखने वाले हजारों लोग विभिन्न शहरों में फंस गए हैं. इस विपदा की घड़ी में वे अपने प्रदेश आना चाहते हैं, लेकिन बिहार सरकार ऐसे लोगों के लिए किसी भी तरह की कोई कवायद करती नहीं दिख रही है.

हालांकि एक तथ्य ये भी है कि लॉकडाउन में ये स्पष्ट कहा गया है कि जो जिस शहर में हैं फिलहाल वहीं बने रहें क्योंकि कोरोना वायरस एक दूसरे से ट्रांसमिशन के जरिये फैलता है. इसलिए इसमें एहतियात बरतनी आवश्यक है. लेकिन दूसरे प्रदेशों में बिहार से पलायन करने वाले अधिकतर मजदूर वर्ग से आते हैं. उनके पास आवश्यक सामान की उपलब्धता भी नहीं होती, ऐसे में प्रशांत किशोर के उठाए सवाल प्रासंगिक हैं.

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *