Connect with us

Uncategorized

कोरोना कहर के बीच कालाबाजारी, 5 हजार का ऑक्सिजन सिलेंडर 46 हजार में…लखनऊ से ग्राउंड रिपोर्ट

Published

on

Advertisement

कोरोना कहर के बीच कालाबाजारी, 5 हजार का ऑक्सिजन सिलेंडर 46 हजार में…लखनऊ से ग्राउंड रिपोर्ट

 

 

Advertisement

कोरोना वायरस संक्रमण से उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ बुरी तरह प्रभावित है। शहर में ऑक्सिजन की कालाबाजारी चरम पर है। आलम यह है कि ऑक्सिजन सिलिंडर एक-दो नहीं बल्कि आठ से नौ गुना ज्यादा कीमत पर बेचे जा रहे हैं। पांच हजार कीमत के ऑक्सिजन सिलिंडर के 46 हजार से अधिक रुपये वसूले जा रहे हैं। इतना ही अडवांस बुकिंग करवाने पर दूसरे दिन डिलिवरी हो रही है। ऑक्सिजन सिलिंडर के कई डीलरों से फोन पर संपर्क करने पर मनमाने दाम वसूले जाने की पुष्टि हुई है।

लालबाग स्थित लखनऊ सर्जिकल डीलर के नंबर 9889015753 पर कॉल की गई। कॉल रिसीव करने वाले ने बताया कि केवल चालीस लीटर वाला सिलिंडर ही उपलब्ध है। कुल कीमत 46,800 होगी और अडवांस बुकिंग करवाने पर दूसरे दिन सिलिंडर मिलेगा। दाम अधिक होने की बात कहने पर जवाब मिला कि यह आज की कीमत है। कल क्या कीमत होगी तय नहीं है। बताया जा रहा है कि रोज चार से पांच हजार रुपये दाम बढ़ रहे हैं।
OXYGEN CYLINDER

Advertisement

दस लीटर का सिलेंडर 15 हजार का
महानगर स्थित केटी वेल्डिंग सेंटर शनिवार को देर रात तक लाइन लगी रही। यहां दस लीटर वाला सिलिंडर मिल रहा था। रात करीब आठ बजे दुकान से एक आदमी निकला और बताया कि सिलिंडर 15 हजार का है। पैसा जमा करने पर दो घंटे बाद सिलिंडर मिलेगा। इंतजार कर रहे लोगों में आठ-दस ने रुपये जमा कर दिए। एक शख्स ने दाम कम करने की गुहार लगाई। इस पर जवाब मिला कि दाम कम नहीं होंगे। गौरतलब है कि कुछ समय पहले तक इस सिलिंडर की कीमत महज ढाई से तीन हजार रुपये ही

 

Advertisement

 

50 हजार में खरीदा, 12 हजार एमआरपी वाला कंसेंट्रेटर
महानगर निवासी अरोमा खान के पिता कोरोना से संक्रमित हो गए। कहीं बेड न मिलने पर एक एक नर्सिंग होम ने 40 हजार रुपये प्रतिदिन के हिसाब से तीन दिन भर्ती रखा। इसके बाद ऑक्सिजन खत्म होने की बात कहते हुए घर ले जाने का फरमान सुना दिया। अरोमा ने बताया कि ऑक्सिजन सिलिंडर न मिलने पर ऑक्सिजन कंसेंट्रेटर खरीदा। यह मशीन खुद-ब-खुद ऑक्सिजन बनाती है, हालांकि प्रेशर ज्यादा नहीं होता। 12 हजार एमआरपी वाली मशीन के लिए डीलर ने 50 हजार रुपये वसूले। इसके लिए भी पहले रुपये जमा करने पड़े थे।

Source :  NavBharat Times
Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *