Connect with us

Vehicle & Transport

1 अगस्त से सस्ता हो जाएगा कार या बाइक खरीदना, बीमा के नियमों में हुआ बड़ा बदलाव

Published

on

1 अगस्त से सस्ता हो जाएगा कार या बाइक खरीदना, बीमा के नियमों में हुआ बड़ा बदलाव

1 अगस्त से सस्ता हो जाएगा कार या बाइक खरीदना, बीमा के नियमों में हुआ बड़ा बदलाव

 

कार और टू-व्हीलर इंश्योरेंस से जुड़े नियमों में 1 अगस्त से बदलाव होने जा रहा है। भारतीय बीमा विकास एवं नियामक प्राधिकरण (इरडा) के निर्देशों के मुताबिक, 1 अगस्त से कार खरीदते समय 3 साल और दो पहिया वाहनों के लिए 5 साल तक कार के लिए थर्ड पार्टी कवर लेना जरूरी नहीं होगा। इरडा ने जून में लॉन्ग टर्म पैकेज्ड थर्ड पार्टी और ऑन-डैमेज इंश्योरेंस पॉलिसी वापस ले ली है। इरडा ने कहा कि इनके कारण गाड़ियों की कीमत बढ़ जाती है, जिससे वाहन ले जाना मुश्किल हो जाता है।

कार या बाइक खरीदने जा रहे हैं तो हो ...

यह नियम 2018 में शुरू किया गया था

आईआरडीए ने जून में मौजूदा लॉन्ग टर्म पैकेज कवर की समीक्षा की थी। इसके बाद उन्होंने 1 अगस्त 2020 से नई कारों के लिए 3 साल और दोपहिया, थर्ड पार्टी और खुद के डैमेज कवर के लिए 5 साल का फैसला वापस ले लिया। इरडा ने बीमाकर्ताओं के लिए अगस्त 2018 से कारों के लिए 3 साल की मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी और सितंबर 2018 से दो पहिया वाहनों के लिए 5 साल की मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदना अनिवार्य कर दिया।

दिवाली सीजन पर ये बड़ी कंपनियों दे ...

मोटर थर्ड पार्टी इंश्योरेंस क्या है?

Third party motor insurance premium slashed

थर्ड पार्टी यानी तीसरा पक्ष। पहला पक्ष वाहन मालिक, दूसरा चालक और दुर्घटना की स्थिति में तीसरा पक्ष इसका शिकार होता है। वाहन के मालिक और चालक को कानूनी रूप से नुकसान की भरपाई के लिए बाध्य किया जाता है यदि किसी सार्वजनिक स्थान पर मोटर वाहन के उपयोग के दौरान कोई दुर्घटना होती है और किसी तीसरे पक्ष को जानमाल का नुकसान होता है। ऐसी स्थिति में आर्थिक मुआवजे की भरपाई के लिए बीमा कंपनियों द्वारा थर्ड पार्टी इंश्योरेंस किया जाता है। बीमा कराने पर संबंधित बीमा कंपनी द्वारा मुआवजे की राशि का भुगतान किया जाता है।

ओन डैमेज कवर क्‍या है? ?

ऑन द डैमेज (ओडी) या कॉम्प्रिहेंसिव पॉलिसी में थर्ड पार्टी पॉलिसी के सभी कवर बीमित वाहन को नुकसान पहुंचाने के दायरे में आते हैं । कार में नुकसान के कारण आपको वित्तीय नुकसान का सामना नहीं करना पड़ता है।